विज्ञापन
Story ProgressBack

अखिलेश-डिंपल संसद में मिलकर करेंगे सरकार पर 'डबल अटैक'! जानें लोकसभा में कब-कब बनी पति-पत्नी वाली जोड़ी

बिहार से पप्पू यादव और उनकी पत्नी रंजीत रंजन 2004 और 2014 में दो बार एक साथ चुनाव जीतकर लोकसभा पहुंचे थे. हालांकि तब दोनों अलग-अलग पार्टियों में थे.

Read Time: 4 mins
अखिलेश-डिंपल संसद में मिलकर करेंगे सरकार पर 'डबल अटैक'! जानें लोकसभा में कब-कब बनी पति-पत्नी वाली जोड़ी
नई दिल्ली:

समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव अब केंद्र की राजनीति में दिखाई देंगे. कन्नौज से लोकसभा का चुनाव जीतने के बाद अखिलेश यादव उत्तर प्रदेश विधानसभा से इस्तीफा देंगे. अगर ऐसा हुआ तो पत्नी डिंपल यादव के साथ अखिलेश संसद में नरेंद्र मोदी सरकार पर डबल अटैक करते दिखाई देंगे. डिंपल यादव इस बार मैनपुरी से चुनाव जीती हैं. 18वीं लोकसभा में पति-पत्नी की देशभर में ये एकमात्र जोड़ी है.

इससे पहले 17वीं लोकसभा में भी अखिलेश यादव और डिंपल यादव चुनाव जीतकर संसद पहुंचे थे, लेकिन अलग-अलग समय में. पिछली बार अखिलेश आजमगढ़ से चुनाव जीते लेकिन डिंपल कन्नौज से नहीं जीत सकीं. सपा संस्थापक मुलायम सिंह यादव के निधन के बाद उपचुनाव में डिंपल मैनपुरी से जीतकर संसद पहुंची, लेकिन तब तक अखिलेश करहल विधानसभा सीट से निर्वाचित होकर यूपी विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष बन गए थे. इसकी वजह से संसद सदस्यता से उन्होंने इस्तीफा दे दिया था.

Latest and Breaking News on NDTV

चुनाव में पति-पत्नी के साथ लड़ने के तो कई उदाहरण हैं, लेकिन एक साथ लोकसभा पहुंचने की तस्वीर बेहद कम ही सामने आयी है. ऐसे में संसद में अखिलेश-डिंपल की जोड़ी पर सभी की निगाहें होंगी. क्या दोनों की बैठने की जगह भी पास-पास होगी ये देखना दिलचस्प होगा.

पप्पू यादव और रंजीत रंजन भी साथ पहुंच चुके हैं संसद
इससे पहले बिहार से पप्पू यादव और उनकी पत्नी रंजीत रंजन भी साथ में लोकसभा पहुंच चुके हैं. दोनों 2004 और 2014 में दो बार एक साथ चुनाव लड़कर लोकसभा पहुंचे थे. हालांकि तब दोनों अलग-अलग पार्टियों में थे. इस बार भी पप्पू यादव निर्दलीय चुनाव जीतकर संसद पहुंचे हैं. वहीं उनकी पत्नी रंजीत रंजन कांग्रेस से राज्यसभा की सांसद हैं. पप्पू-रंजीत की जोड़ी इस बार भी संसद में होंगे, लेकिन वो अलग-अलग सदन का हिस्सा होंगे.

Latest and Breaking News on NDTV

धर्मेंद्र और हेमा मालिनी भी एक वक्त में एक साथ संसद में रहे
वहीं अभिनेता धर्मेंद्र और अभिनेत्री हेमा मालिनी भी एक वक्त में एक साथ संसद में रहे हैं. हालांकि दोनों अलग-अलग सदन में थे. धर्मेंद्र जहां बीकानेर से चुनाव जीतकर 2004 से 2009 तक लोकसभा में थे, तो वहीं 2003 से 2009 तक हेमा मालिनी राज्यसभा की सदस्य थीं.

अखिलेश यादव को लोकसभा में जीतने के बाद विधानसभा सीट छोड़ना होगा. सपा प्रमुख ने 2022 के विधानसभा चुनाव में मैनपुरी जिले के करहल विधानसभा क्षेत्र से जीत हासिल की थी. यूपी विधानसभा में फिलहाल उनके पास नेता प्रतिपक्ष का दायित्व है.

अखिलेश के नेतृत्व में यूपी में सपा की चमत्कारिक वापसी ने राजनीतिक पंडितों को भी हैरान कर दिया. पीएम मोदी की लोकप्रियता और बीजेपी द्वारा राम मंदिर निर्माण का श्रेय लेने के बावजूद सपा का शानदार चुनावी प्रदर्शन जमीनी स्तर पर अखिलेश की लोकप्रियता और उनकी राजनीतिक सूझबूझ को दर्शाता है.

Latest and Breaking News on NDTV

समाजवादी पार्टी की स्थापना के बाद लोकसभा चुनावों में ये अब तक का सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन है. सपा संस्थापक मुलायम सिंह यादव के निधन के बाद अखिलेश ने न केवल अपनी पारिवारिक एकता कायम की, बल्कि 2019 में बसपा से गठबंधन के बावजूद सिर्फ पांच सीटें जीतने वाली सपा ने अकेले (यादव) परिवार में ही पांच सीटें हासिल कर ली हैं।

चुनाव से पहले अखिलेश ने चाचा शिवपाल सिंह यादव के साथ तालमेल बिठाया और उन्होंने पार्टी को अपने पारंपरिक मतदाताओं तक पहुंचने में मदद की, जिनमें से अधिकांश यादव जाति से हैं और राज्य के पूर्वी और मध्य भागों में फैले हुए हैं.

यूपी में शानदार प्रदर्शन कर 80 में से 37 सीट जीतने वाले सपा अध्यक्ष अभी से बीजेपी और एनडीए पर हमलावर हैं. उन्होंने कहा कि एनडीए ने भले ही सरकार बना ली है. लेकिन, इसके बावजूद भी उनके चेहरों पर खुशी नहीं दिखाई दे रही है. जिन्होंने शपथ ली, वो भी खुश नहीं हैं. सरकार बनाने वाले भी खुश नजर नहीं आ रहे. वहीं जनता में भी खुशी का एहसास नहीं है.

Latest and Breaking News on NDTV

लोकसभा में तीसरी सबसे बड़ी पार्टी बनकर उभरी समाजवादी पार्टी के प्रमुख ने कहा, "जब सपा देश में तीसरे नंबर पर पहुंची है, तो हमारी जिम्मेदारी भी बढ़ी है. सदन चलेगा तो वहां जनता और संविधान के सवालों को रखा जाएगा."

बड़ी जीत और बढ़े मनोबल के साथ अखिलेश अभी से हुंकार भरने लगे हैं. उन्होंने कहा, "ये बीजेपी की मनमर्जी के खिलाफ जनता की मर्जी की जीत हुई है. समाजवादी पार्टी का पीडीए (पिछड़ा, दलित और अल्पसंख्यक) वास्तविक एजेंडा है, जिसमें सामाजिक न्याय की अवधारणा है. ये एक पड़ाव है, पार्टी की लड़ाई लंबी है. अब हमें 2027 के विधानसभा चुनाव की तैयारी करनी है."

NDTV.in पर ताज़ातरीन ख़बरों को ट्रैक करें, व देश के कोने-कोने से और दुनियाभर से न्यूज़ अपडेट पाएं

फॉलो करे:
डार्क मोड/लाइट मोड पर जाएं
Our Offerings: NDTV
  • मध्य प्रदेश
  • राजस्थान
  • इंडिया
  • मराठी
  • 24X7
Choose Your Destination
Previous Article
एलन मस्क की कितनी पत्नियां? 12 बच्चों के नाम कर देंगे हैरान; X के मालिक को सहना पड़ा कौन सा दुख?
अखिलेश-डिंपल संसद में मिलकर करेंगे सरकार पर 'डबल अटैक'! जानें लोकसभा में कब-कब बनी पति-पत्नी वाली जोड़ी
दिल्ली में पहली बार ऐसी गर्मी! 70 से ज्यादा मौत, 74 साल का रेकॉर्ड भी टूट गया
Next Article
दिल्ली में पहली बार ऐसी गर्मी! 70 से ज्यादा मौत, 74 साल का रेकॉर्ड भी टूट गया
Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com
;