वैक्सीनेशन के बाद खून बहने और थक्के जमने के मामले बहुत कम: सरकारी पैनल

वैक्सीन के दौरान खून निकलने व थक्के जमने की चर्चाओं के बीच केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय द्वारा एक रिपोर्ट जारी की गई है, जिसके अनुसार भारत में इस तरह के मामले बेहद कम आए हैं.

वैक्सीनेशन के बाद खून बहने और थक्के जमने के मामले बहुत कम: सरकारी पैनल

ब्लड क्लॉटिंग के सभी मामले कोविशील्ड टीका देने के बाद के हैं (तस्वीर- प्रतीकात्मक)

नई दिल्ली:

वैक्सीनेशन के दौरान खून निकलने व थक्के जमने की चर्चाओं के बीच केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय द्वारा एक रिपोर्ट जारी की गई है, जिसके अनुसार भारत में इस तरह के मामले बेहद कम आए हैं. भारत मे वैक्सीनेशन की शुरुआत से लेकर अब तक 23000 से ज्यादा एडवर्स इवेंट के मामले रिपोर्ट हुए हैं. ये मामले देश के 684 जिलों से हैं. जिनमे से 700 मामले सीरियस और सीवियर हैं. 498 सीरियस और सीवियर मामलों की जांच जब AEFI कमेटी ने की तो उसमें 26 मामले ब्लड क्लॉटिंग के मिले. ये मामले 0.61 % केस प्रति मिलियन हैं. ब्लड क्लॉटिंग के सभी मामले कोविशील्ड टीका देने के बाद के हैं. कोवैक्सीन को लेकर AEFI कमेटी को एक भी ब्लड क्लॉटिंग की शिकायत नही मिली है.

Read Also: फार्मा कंपनी Sanofi और  GSK के कोविड वैक्सीन के दो चरणों के परीक्षण नतीजे सकारात्मक

अब केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने हेल्थ केयर वर्कर और वैक्सीन और खासकर कोविशील्ड लेने वाले लोगों को एडवाइजरी जारी की है कि टीका लेने के 20 दिन तक AEFI की शिकायत आ सकती है और अगर शिकायत आए तो जहां टीका लिया है वहां सम्पर्क करें. 


Read Also: प्रेग्नेंट Dia Mirza ने कोरोना की वैक्सीन को लेकर किया ट्वीट, बोलीं- गर्भवती महिलाओं पर अब तक..

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


ब्लड क्लॉटिंग के अलावा कई दूसरी समस्या हो सकती है जिमसें सीने में दर्द,सांस की तकलीफ,पेट मे दर्द,कमजोरी,देखने मे दिक्कत जैसी समस्याएं.