पत्रकार सुलभ श्रीवास्तव की मौत पर प्रियंका गांधी ने की CBI जांच की मांग, CM योगी को लिखी चिट्ठी

प्रतापगढ़ में 13 जून को एक पत्रकार सुलभ श्रीवास्तव की संदिग्ध घटना में मौत हो गई थी. उन्होंने शराब माफियाओं के खिलाफ खबर लिखी थी. उन्होंने यह भी कहा था कि उन्हें खतरा है, लेकिन प्रशासन ने कोई एक्शन नहीं लिया था.

पत्रकार सुलभ श्रीवास्तव की मौत पर प्रियंका गांधी ने की CBI जांच की मांग, CM योगी को लिखी चिट्ठी

प्रियंका गांधी ने पत्रकार सुलभ श्रीवास्तव की कथित हत्या को लेकर लिखी CM को चिट्ठी. (फाइल फोटो)

नई दिल्ली:

कांग्रेस की महासचिव प्रियंका गांधी (Priyanka Gandhi) ने उत्तर प्रदेश में पत्रकार सुलभ श्रीवास्तव की मौत (UP Journalsit Sulabh Shrivastava) के मामले में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को चिट्ठी लिखी है. गांधी ने इस मामले में सीबीआई जांच की मांग की और पत्रकार के पीड़ित परिवार को आर्थिक मदद दिए जाने की बात भी लिखी है. प्रियंका ने लिखा है कि एबीपी न्यूज के पत्रकार श्री सुलभ श्रीवास्तव की प्रतापगढ़ में 13 जून की रात संदिग्ध हालत में मृत्यु हो गई. वे एक न्यूज कवर करके घर वापस लौट रहे थे. खबरों के अनुसार वे एक ईंट भट्ठे के पास मृत मिले. उनके सिर पर गहरी चोट के निशान थे.

गांधी ने बताया है कि 12 जून को सुलभ श्रीवास्तव ने ADG प्रयागराज जोन को एक पत्र लिखा था. पत्र में उन्होंने पुलिस अधिकारी को लिखा कि स्थानीय शराब माफिया अवैध शराब पर उनकी न्यूज रिपोर्ट से नाराज हैं और उन्हें अपनी और अपने परिवार की सलामती की चिंता है. प्रशासन को पत्र भेजे जाने के एक दिन बाद ही संदिग्ध हालातों में वे मृत पाए गए.

यूपी में शराब माफिया के 'वर्चस्‍व' को लेकर प्रियंका गांधी वाड्रा का 'वार', कहा-सरकार सोई है, क्‍या जंगलराज..

प्रियंका ने कहा कि सुलभ श्रीवास्तव के परिजनों एवं पत्रकार साथियों ने इस मामले की CBI जांच कर सच सामने लाने की मांग की है.

शराब माफियाओं पर प्रशासन के साथ गठजोड़ पर कार्रवाई की मांग


प्रियंका गांधी ने मुख्यमंत्री को भेजे पत्र में लिखा है कि 'यूपी में कई जगहों से जहरीली शराब से हुई मौतों की खबरें आई हैं. अलीगढ़ से लेकर प्रतापगढ़ तक जहरीली शराब के चलते सैकड़ों लोगों की मृत्यु हो चुकी है. ऐसे में एक पत्रकार द्वारा खबरें दिखाने को लेकर शराब माफ़ियाओं से ख़तरा होने की आशंका बताती है कि प्रदेश में कानून के राज इक़बाल खत्म हो चुका है. उप्र में बलिया, उन्नाव समेत कई जगहों पर पहले भी पत्रकारों पर हमले होते आए हैं.'

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


प्रियंका गांधी ने कहा कि वो इस मामले की CBI जांच करवाने की मांग करती हैं. प्रदेश भर जड़ जमा चुके शराब माफिया एवं प्रशासन के गठजोड़ पर कार्रवाई की जाए. इसके साथ पीड़ित परिवार और मृतक के आश्रितों को तुरंत आर्थिक मदद दी जाए. उन्होंने कहा कि पत्रकारों और कलम के सिपाहियों को सुरक्षा देने का काम प्रदेश की कानून व्यवस्था का है.