प्रियंका गांधी ने PM मोदी पर साधा निशाना, कहा-पीएम के लिए देशवासी नहीं, प्रचार और राजनीति है प्राथमिकता

प्रियंका गांधी ने अपने फेसबुक पोस्ट की शुरुआत कवि निराला द्वारा लिखी उपन्यास 'कुल्ली भाट' की कुछ पंक्तियों से की. जिनमें उन्होंने सौ साल पहले स्पैनिश फ्लू महामारी के दौरान सामने आये गंभीर दृश्यों का वर्णन किया है.  

प्रियंका गांधी ने PM मोदी पर साधा निशाना, कहा-पीएम के लिए देशवासी नहीं, प्रचार और राजनीति है प्राथमिकता

कोरोना की दूसरी लहरको लेकर प्रियंका ने पीएम मोदी पर लगाये आरोप.

नई दिल्ली:

कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाद्रा (Congress General Secretary Priyanka Gandhi Vadra) ने कोरोना महामारी की दूसरी लहर (second wave of corona pandemic) में पैदा हुए हालात को लेकर शनिवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर निशाना साधा और आरोप लगाया कि प्रधानमंत्री के लिए भारतीय नागरिक नहीं, बल्कि राजनीति प्राथमिकता है तथा उन्हें सिर्फ अपने प्रचार की चिंता रहती है. सरकार से सवाल करने की अपनी श्रृंखला ‘जिम्मेदार कौन' (Zimmedaar Kaun) के तहत प्रियंका ने एक बयान में यह दावा भी किया कि पूरी दुनिया ने देख लिया कि प्रधानमंत्री मोदी शासन करने में सक्षम नहीं हैं. प्रियंका गांधी ने अपने फेसबुक पर एक एक पोस्ट करते हुए ये आरोप लगाये हैं.

'सरकार और श्मशानों-कब्रिस्तानों के आंकड़ों में इतना फर्क क्यों?', प्रियंका गांधी ने मोदी सरकार से पूछा सवाल

प्रियंका गांधी ने अपने फेसबुक पोस्ट की शुरुआत कवि निराला द्वारा लिखी उपन्यास 'कुल्ली भाट' की कुछ पंक्तियों से की. जिनमें उन्होंने सौ साल पहले स्पैनिश फ्लू महामारी के दौरान सामने आये गंभीर दृश्यों का वर्णन किया है.  

प्रियंका ने कहा, ‘‘प्रधानमंत्री (PM) ने महामारी के दौरान अपने कदम पीछे खींच लिए और खराब दौरे के गुजरने का इंतजार किया. भारत के प्रधानमंत्री ने एक डरपोक की तरह व्यवहार किया. उन्होंने अपने ही देश को नीचा दिखाया.''प्रियंका ने दावा किया कि प्रधानमंत्री की व्यापक क्षमता को लेकर जो मिथ्या फैलाई गई, वो बेनकाब हो गई. कांग्रेस नेता ने आरोप लगाया, ‘‘प्रधानमंत्री के लिए भारतीय पहले नहीं आते. राजनीति पहले आती है. सच की उन्हें कोई परवाह नहीं है, वह सिर्फ प्रचार की परवाह करते हैं.''

प्रियंका गांधी ने अस्पतालों में बेड संकट पर पीएम मोदी पर साधा निशाना, केंद्र से पूछे कई सवा

प्रियंका ने कहा कि अगर प्रधानमंत्री ने समय रहते विशेषज्ञों की चेतावनियों पर ध्यान दिया होता या स्वास्थ्य संबंधी संसदीय समिति की सिफारिशों पर कदम उठाया होता हो देश में बेड, ऑक्सीजन और दवाओं की कमी नहीं पड़ती. उन्होंने कहा कि भारतीय नागरिकों के जीवन को तवज्जो नहीं देते हुए जीवन रक्षक दवाओं की करोड़ों खुराक निर्यात कर दी गई.


मोदी सरकार की वैक्सीन नीति पर प्रियंका गांधी वाड्रा ने उठाए सवाल

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com




(इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)