विज्ञापन
Story ProgressBack
This Article is From Jan 27, 2021

किसानों के लाल किले पर झंडा फहराने का मामला सुप्रीम कोर्ट पहुंचा

कानून के छात्र आशीष राय ने सुप्रीम कोर्ट के मुख्य न्यायाधीश जस्टिस बोबड़े को पत्र लिखकर स्वतः संज्ञान लेने की मांग की गई

Read Time: 15 mins
किसानों के लाल किले पर झंडा फहराने का मामला सुप्रीम कोर्ट पहुंचा
दिल्ली में लाल किले पर मंगलवार को प्रदर्शनकारी किसानों ने झंडा फहरा दिया.
नई दिल्ली:

किसानों (Farmers) की ट्रैक्टर परेड (Tractor Parade) के दौरान, दिल्ली में लाल किले (Red Fort) की प्राचीर पर प्रदर्शकारियों द्वारा झंडा (Flag) फहराने का मामला सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) पहुंच गया है. इस मामले को लेकर सुप्रीम कोर्ट के मुख्य न्यायाधीश जस्टिस बोबड़े को पत्र लिखकर स्वतः संज्ञान लेने की मांग की गई है. पत्र में कहा गया है कि लालकिले की प्राचीर पर प्रदर्शकारियों द्वारा दूसरा झंडा लगाना राष्ट्रीय झंडे का अपमान है. पत्र में मांग की गई है कि दूसरा झंडा फहराने वाले प्रदर्शकारियों पर कार्रवाई की जाए. कानून के छात्र आशीष राय ने मुख्य न्यायाधीश को ये पत्र लिखा है.

Advertisement

दिल्ली में गणतंत्र दिवस पर किसानों के आंदोलन के दौरान सड़कों पर अभूतपूर्व दृश्य देखने को मिले. इनमें से सबसे अभूतपूर्व दृश्य लालकिले पर दिखा जहां प्रदर्शनकारी उस ध्वज-स्तंभ पर चढ़ गए और वहां सिख धर्म का झंडा ‘निशान साहिब' लगा दिया जहां भारत के स्वतंत्रता दिवस समारोह के दौरान तिरंगा फहराया जाता है.

किसानों की दिल्ली में ट्रैक्टर परेड का मकसद किसानों की मांगों को रेखांकित करना था, लेकिन यह परेड राष्ट्रीय राजधानी की सड़कों पर अराजक हो गई. हजारों की संख्या में उग्र प्रदर्शनकारी किसान अवरोधक तोड़ते हुए लाल किला पहुंच गए और उसकी प्राचीर पर एक धार्मिक झंडा लगा दिया जहां भारत का तिरंगा फहराया जाता है.

Advertisement

प्रदर्शनकारी तीन कृषि कानूनों को निरस्त करने की मांग को लेकर मुगलकालीन लाल किला पहुंच गए जो कि स्वतंत्रता दिवस समारोह का मुख्य स्थल है. किसानों की ट्रैक्टर परेड के दौरान दिल्ली और आसपास के क्षेत्रों में कई स्थानों पर झड़पें हुईं जिससे अराजकता की स्थिति उत्पन्न हुई. इस दौरान पूरे दिन हिंसा हुई. इस दौरान घायल होने वाले किसानों की वास्तविक संख्या की जानकारी नहीं है लेकिन दिल्ली पुलिस अधिकारियों ने कहा कि उनके 86 कर्मी घायल हो गए. इनमें से 41 पुलिसकर्मी लाल किले पर घायल हुए.

Advertisement

जब किसानों से बचने के लिए दीवार कूदने को मजबूर हुए पुलिस वाले, देखें VIDEO

Advertisement

किसानों की ट्रैक्टर परेड कई जगहों पर हिंसक हो गई जिसके कारण पुलिस को लाठीचार्ज करना पड़ा और आंसू गैस के गोले दागने पड़े.  किसानों का एक समूह लाल किला पहुंचा. लाठी-डंडे, हाथों में तिरंगा और अपने संगठनों का झंडा लिए हजारों की संख्या में किसानों ने ट्रैक्टरों पर सवार होकर अवरोधक तोड़े और विभिन्न रास्तों से दिल्ली में प्रवेश करने के बाद वे लाल किला पहुंचे.

NDTV.in पर ताज़ातरीन ख़बरों को ट्रैक करें, व देश के कोने-कोने से और दुनियाभर से न्यूज़ अपडेट पाएं

फॉलो करे:
डार्क मोड/लाइट मोड पर जाएं
Our Offerings: NDTV
  • मध्य प्रदेश
  • राजस्थान
  • इंडिया
  • मराठी
  • 24X7
Choose Your Destination
Previous Article
"मेरा बच्चा छीन लिया..." : अनीश की मां का दर्द सुन लो पोर्शे वाले रईसजादे
किसानों के लाल किले पर झंडा फहराने का मामला सुप्रीम कोर्ट पहुंचा
Exclusive : "हमारा पलड़ा बहुत भारी है...", 2024 के चुनाव परिणाम पर NDTV से बोले PM मोदी
Next Article
Exclusive : "हमारा पलड़ा बहुत भारी है...", 2024 के चुनाव परिणाम पर NDTV से बोले PM मोदी
Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com
;