सुशांत सिंह राजपूत की जिंदगी पर आधारित फिल्म की रिलीज पर रोक लगाने के लिए पिता पहुंचे दिल्ली हाई कोर्ट

दिवंगत अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत के पिता कृष्ण किशोर सिंह ने सुशांत की जिंदगी पर आधारित फिल्म की न्याय: द जस्टिस की रिलीज पर रोक लगाने के लिए दिल्ली हाई कोर्ट का रुख किया है.

सुशांत सिंह राजपूत की जिंदगी पर आधारित फिल्म की रिलीज पर रोक लगाने के लिए पिता पहुंचे दिल्ली हाई कोर्ट

मामले की सुनवाई डिवीजन बेंच द्वारा होगी

नई दिल्ली:

दिवंगत अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत के पिता कृष्ण किशोर सिंह ने सुशांत की जिंदगी पर आधारित फिल्म की न्याय: द जस्टिस की रिलीज पर रोक लगाने के लिए दिल्ली हाई कोर्ट का रुख किया है. हालांकि इससे पहले सिंगल बेंच ने फिल्म की रिलीज पर रोक लगाने से इनकार कर दिया था. उन्होंने सिंगल बेंच के आदेश के खिलाफ कोर्ट में अपील की है. मामले की सुनवाई डिवीजन बेंच द्वारा होगी. आपकी जानकारी के लिए बता दें कि इससे पहले 10 जून को दिल्ली हाई कोर्ट ने बॉलीवुड एक्टर सुशांत सिंह राजपूत की जिंदगी पर कथित तौर पर बेस्ड फिल्मों की रिलीज पर रोक लगाने से इनकार कर दिया था.

Read Also: Ankita Lokhande ने शेयर किया सुशांत सिंह राजपूत संग दिवाली का अनदेखा Video, बोलीं- इन यादों के साथ...

कोर्ट ने कहा था कि फिल्में न तो बायोपिक बताई जा रही हैं न ही उनके जीवन में जो कुछ हुआ उसका फैक्चुअल स्टेटमेंट है. पिछले आदेश में हाई कोर्ट ने फिल्मों की रिलीज पर रोक लगाने के लिये सुशांत सिंह राजपूत के पिता कृष्ण किशोर सिंह की याचिका पर दिए गए अपने अंतरिम आदेश में कहा था कि “मरणोपरांत निजता का अधिकार स्वीकार्य नहीं है.” सिंगल बेंच के इस आदेश के खिलाफ पिता सिंह ने कोर्ट में एक बार फिर अपील की है. 


Read Also: सुशांत सिंह राजपूत की पहली बरसी पर कांग्रेस का हमला बोल, CBI और मोदी सरकार पर दागे सवाल

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


आपकी जानकारी के लिए बताते चलें कि पिछले साल 14 जून को बॉलीवुड एक्टर अपने रुम में पंखे से लटकते हुए मिले थे. संदिग्ध मौत की जांच को लेकर मुंबई पुलिस और सीबीआई सहित पांच एजेंसीज पड़ताल कर रही हैं. एक उभरते हुए सितारे के अचानक निधन से तमाम तरह की थ्योरीज ने जन्म ले लिया है. इस घटना से प्रेरित कुछ फिल्मों पर सुशांत के परिवार को ऐतराज है. उन्होंने फिल्मों में अपने बेटे के नाम या किसी भी तरह की समानता के इस्तेमाल पर रोक लगाने का अनुरोध किया है.