RSS ने आतंकी ठिकाने नष्ट करने पर भारतीय वायु सेना का अभिनंदन किया

ग्वालियर में राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) की अखिल भारतीय प्रतिनिधि सभा की तीन दिवसीय बैठक प्रारंभ

RSS ने आतंकी ठिकाने नष्ट करने पर भारतीय वायु सेना का अभिनंदन किया

राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ की अखिल भारतीय प्रतिनिधि सभा में सर संघचालक मोहन भागवत और सरकार्यवाह भैय्या जी जोशी.

खास बातें

  • वार्षिक प्रतिवेदन में कहा- वायुसेना ने साहस और कुशलता का परिचय दिया
  • कहा- भारत की सहिष्णुता को इसकी दुर्बलता नहीं समझना चाहिए
  • सभा में मोहन भागवत, भैय्याजी जोशी सहित 1400 प्रतिनिधि हिस्सा ले रहे
ग्वालियर:

राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) की अखिल भारतीय प्रतिनिधि सभा के तीन दिवसीय बैठक के पहले दिन प्रस्तुत किए गए अपने वार्षिक प्रतिवेदन में शुक्रवार को भारतीय वायुसेना द्वारा पाकिस्तान में आतंकी ठिकानों पर हमले को लेकर उसका अभिनंदन किया और सरकार के इस निर्णय की सराहना भी की.

आरएसएस सरकार्यवाह भैय्या जी जोशी द्वारा प्रस्तुत इस वार्षिक प्रतिवेदन में कहा गया है, ‘‘दिनांक 26 फरवरी को भारतीय वायुसेना ने अपने साहस और कुशलता का परिचय दिया है. भारत सरकार और भारतीय वायुसेना का हम अभिनंदन करते हैं.'' संघ के सह सरकार्यवाह डॉ मनमोहन वैद्य ने बताया कि इस प्रतिवेदन की प्रतिलिपि मीडिया को प्रेस कांफ्रेंस में भी यहां दी गई है.

संघ के मध्य भारत प्रांत प्रचार प्रमुख ओम प्रकाश सिसोदिया ने बताया कि यह प्रतिवेदन अखिल भारतीय प्रतिनिधि सभा की बैठक में प्रस्तुत किया गया. इसमें कहा गया है, ‘‘कुछ आंतरिक देश विरोधी तत्वों की सहायता से देश की बाह्य शक्तियां हिंसात्मक घटनाओं को अंजाम देने का कार्य कर रही है. सेना-सुरक्षाबलों के केन्द्रों पर हमले, सीमावर्ती क्षेत्र में पाक सेना द्वारा बार-बार किए जाने वाले हमले और अभी-अभी पुलवामा की घटना, परिणामत: मृत्यु के ग्रास बन रहे हैं. सामान्य जन, सेना और सुरक्षा बलों के जवान. यह अत्यंत दुखद है. भारत की सहिष्णुता को किसी ने दुर्बलता नहीं समझना चाहिए.''

भारतीय वायुसेना की एयर स्ट्राइक से पुलवामा के शहीदों की 13वीं का श्राद्ध संपन्न हुआ: मोहन भागवत

इसके अलावा, इसमें कहा गया है, ‘‘प्रशासन का तंत्र सजग और सक्रिय होना चाहिए, वैसे ही जनसामान्य भी सजग रहे, इसकी भी आवश्यकता है.'' वैद्य ने बताया कि तीन दिन तक चलने वाली इस बैठक में मुख्य रूप से संघ प्रमुख मोहन भागवत, सरकार्यवाह भैय्याजी जोशी के साथ संघ के सभी संगठनों के 1400 प्रतिनिधि हिस्सा ले रहे हैं. उन्होंने बताया कि इस बैठक में मुख्य रूप से शबरीमला मंदिर के मुद्दे पर चर्चा होगी. उन्होंने कहा कि उच्चतम न्यायालय के निर्णय के बाद केरल सरकार हिंदुओं की आस्था पर ज्यादती कर रही है. केरल सरकार ने न्यायालय की भावना के विपरीत काम किया है और जो महिलाएं हिंदू नहीं है, उनको जबरन मंदिर में प्रवेश कराया जा रहा है.

महाराष्ट्र के राज्यपाल का बयान: RSS सबसे अधिक धर्मनिरपेक्ष संगठन, हम संघस्थान से आते हैं

 

kcq4u4n4

वैद्य ने कहा कि बैठक में देश के वर्तमान हालात पर भी चर्चा हो रही है. राम मंदिर के बारे में संघ ने कहा है कि जो भी पक्ष राम मंदिर से जुड़े हुए हैं, वे अपनी बात शीर्ष अदालत में रख रहे हैं और न्याय व्यवस्था पर पूरा विश्वास है. उम्मीद है कि इसकी बाधाएं दूर होंगी और राम मंदिर का निर्माण होगा.

VIDEO : बीजेपी और संघ के बीच समन्वय पर चर्चा


Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


चुनाव के संदर्भ में डॉ वैद्य ने बताया कि अलग से इस बैठक में कोई चर्चा नहीं हो रही है, लेकिन संघ का मानना है कि ज्यादा से ज्यादा लोगों को मतदान करना चाहिए. वैद्य ने बताया कि बैठक में सामाजिक समसरता के साथ पर्यावरण संरक्षण पर भी चर्चा होगी जिसमें पानी, बचाने, प्लास्टिक का उपयोग कम से कम करने और पौधरोपण को लेकर संघ के कार्यकर्ता अपने अनुभव और विचार सामने रखेंगे.
(इनपुट भाषा से)