स्पीकर को 10 विपक्षी दलों के सांसदों ने लिखा पत्र, बोले, गाज़ीपुर बॉर्डर पर भारत-पाक सीमा जैसी स्थिति

अकाली दल, डीएमके, एनसीपी और तृणमूल कांग्रेस समेत इन पार्टियों के 15 सांसदों को पुलिस ने सुबह गाज़ीपुर बॉर्डर पर प्रदर्शनकारी किसानों से मिलने नहीं दिया.

स्पीकर को 10 विपक्षी दलों के सांसदों ने लिखा पत्र, बोले, गाज़ीपुर बॉर्डर पर भारत-पाक सीमा जैसी स्थिति

विपक्षी सांसद लोकसभा स्पीकर बिरला से मिले और उन्हें एक पत्र सौंपा

नई दिल्ली:

दस विपक्षी राजनीतिक दलों के सांसदों ने किसान आंदोलन को लेकर गुरुवार को लोकसभा स्पीकर को पत्र लिखा. सांसदों ने लोकसभा स्पीकर ओम बिरला को लिखे पत्र में कहा है कि गाज़ीपुर बॉर्डर पर स्थिति भारत-पाकिस्तान सीमा जैसी है और किसानों की स्थिति जेल के कैदियों जैसी है.


अकाली दल, डीएमके, एनसीपी और तृणमूल कांग्रेस समेत इन पार्टियों के 15 सांसदों को पुलिस ने गुरुवार सुबह गाज़ीपुर बॉर्डर पर प्रदर्शनकारी किसानों से मिलने नहीं दिया. दौरे का समन्वय करने वाली अकाली दल की सांसद हरसिमरत कौर बादल के मुताबिक, नेताओं को बैरिकेड पार करने और प्रदर्शन स्थल जाने की इजाजत नहीं दी गई. हरसिमरत कौर बादल के अलावा, एनसीपी की सुप्रिया सुले, डीएमके की कोनिमोई और तिरुची शिवा, तृणमूल कांग्रेस के सौगत रॉय प्रतिनिधिमंडल में शामिल थे. उनके साथ नेशनल कॉन्फ्रेंस, आरएसपी और आईयूएमएल के सांसद भी थे.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


लोकसभा की कार्यवाही के दिनभर के लिए स्थगित होने के बाद सुप्रिया सुले और सौगत रॉय समेत विपक्षी सांसद लोकसभा स्पीकर बिरला से मिले और उन्हें एक पत्र सौंपा. इसमें दावा किया गया है कि पुलिस ने उन्हें प्रदर्शनकारी किसानों से मिलने की इजाजत नहीं दी.



(इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)