मध्‍य प्रदेश : बीमार वकील को मेडिकल कॉलेज में समय पर नहीं मिला इलाज, बाइक पर तोड़ा दम

कोरोना पोजेटिव  होने की शंका के चलते  वकील की मां और भाई की कोई मदद नहीं कर रहा था. ऐसे में वहां डयूटी दे रहे पुलिसकर्मियों ने तत्काल एम्बुलेंस को बुलाया और अचेत वकील को एम्बुलेंस से जिला चिकित्सालय भेजा, जहां डॉक्‍टरों ने उन्‍हें मृत घोषित कर दिया.

मध्‍य प्रदेश : बीमार वकील को मेडिकल कॉलेज में समय पर नहीं मिला इलाज, बाइक पर तोड़ा दम

समय पर इलाज नहीं मिलने के कारण वकील की बाइक पर ही मौत हो गई

भोपाल :

मध्यप्रदेश के रतलाम में इलाज के अभाव में एक वकील ने चलती बाइक पर दम तोड़ दिया. इस वकील को उसकी मां और भाई रतलाम के मेडिकल कालेज में ढाई घण्टे तक इलाज के लिए इंतजार करने बाद भी इलाज नहीं किए जाने पर किसी अन्य निजी हॉस्पिटल ले जा रहे थे. रास्ते मे मौत होने पर मौजूद पुलिसकर्मियों ने एम्बुलेंस से वकील को जिला चिकित्सालय भेजा.
 जानकारी के अनुसार, 40 वर्षीय वकील सुरेश डागर की तबियत खराब होने पर उनके भाई अनिल, मां के साथ बाइक पर लेकर मंगलवार सुबह 10.30 बजे मेडिकल कॉलेज पहुंचे थे. दो घंटे इंतज़ार के बाद भी उन्हें अंदर नही लिया गया. इसके बाद परिजन, वकील सुरेश को पास के एक निजी अस्पताल लेकर गए लेकिन वहां भी इलाज नहीं मिला.

कोरोना महामारी के बीच सतना में ऑक्‍सीजन सिलेंडर की कालाबाजारी का भंडाफोड, 400 सिलेंडर जब्‍त

 इलाज नहीं मिलने के बाद भाई और मां जब वकील सुरेश डागर को वापस बाइक पर लेकर राम मंदिर क्षेत्र से गुजर रहे थे तभी उनकी अचानक मौत हो गई.कोरोना पोजेटिव  होने की शंका के चलते  वकील की मां और भाई की कोई मदद नहीं कर रहा था. ऐसे में वहां डयूटी दे रहे पुलिसकर्मियों ने तत्काल एम्बुलेंस को बुलाया और अचेत वकील को एम्बुलेंस से जिला चिकित्सालय भेजा, जहां डॉक्‍टरों ने उन्‍हें मृत घोषित कर दिया. वकील कोरोना का सस्पेक्टेड थे. उनके शव का कोरोना प्रोटोकॉल के तहत अंतिम संस्कार किया गया. 


कर्फ्यू में घूम रहे लोगों को तहसीलदार ने दी 'मेंढक कूद' की सजा, सोशल डिस्‍टेसिंग का नहीं रखा गया ध्‍यान..

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


जिस समय वकील सुरेश डागर मेडिकल कॉलेज  में गेट नंबर 2 पर  इलाज के लिए प्रतीक्षा कर रहे थे, उसी समय मेडिकल कॉलेज में  60 नए बेड वाले  नए वार्ड के लिए 70 ऑक्सीजन कांसक्ट्रर मशीन देने को चेतन्य कश्यप फाउंडेशन के अध्यक्ष और रतलाम विधायक चेतन्य कश्यप  ओर कलेक्टर गोपाल डाँड़ भी आये हुए थे. मेडिकल कालेज के डीन से लेकर अन्य स्टाफ  विधायक और कलेक्टर के साथ लगा हुआ था. वकील के साथी वकीलों ने अपने दोस्त के इलाज के लिए अपने प्रभाव का इस्तेमाल भी करने का प्रयास किया लेकिन न तो मेडिकल कॉलेज ओर न ही अन्य किसी हॉस्पिटल में वकील को इलाज के लिए बेड मिल सका.