किसान आंदोलन : दूल्हा-दुल्हन ने धरनास्थल पर ही रचाई शादी और सारे तोहफे दान कर दिए

रीवा की इस मंडी में बराती और घराती सबने साथ मिलकर खाना खाया, लेकिन वो गिफ्ट दूल्हा-दुल्हन ने धरना प्रदर्शन करने वालों को सौंप दिए. दोनों ने  संविधान की शपथ ली और डॉक्टर भीमराव अंबेडकर और सावित्रीबाई फुले की प्रतिमा के फेरे लेकर शादी रचाई

किसान आंदोलन : दूल्हा-दुल्हन ने धरनास्थल पर ही रचाई शादी और सारे तोहफे दान कर दिए

Rewa Farmers Protest : दूल्हा-दुल्हन ने धरनास्थल पर लिए सात फेरे

रीवा:

कृषि कानूनों के खिलाफ आंदोलनरत किसानों (Farmers Protest) ने मानो ये तय कर लिया है कि वे धरनास्थल पर अपनी पूरी जिंदगी बिताने को तैयार हैं, लेकिन पीछे नहीं हटेंगे. एक ओर सिंघु-टीकरी बॉर्डर (Singhu-Tikri Border) पर किसान पक्के मकान बना रहे हैं. वहीं मध्य प्रदेश के रीवा जिले की मंडी में 75 दिनों से आंदोलन (Rewa Farmers Agitation) में शामिल एक शख्स ने वहीं धरनास्थल पर शादी रचाई और फिर विवाह में जो भी तोहफा मिला, उसे किसान भाइयों के नाम कर दिया. 

रीवा की इस मंडी में बराती और घराती सबने साथ मिलकर खाना खाया, लेकिन वो गिफ्ट दूल्हा-दुल्हन ने धरना प्रदर्शन करने वालों को सौंप दिए. दोनों ने  संविधान की शपथ ली और संविधान निर्माता  डॉक्टर भीमराव अंबेडकर और शिक्षा की देवी  सावित्रीबाई फुले की प्रतिमा के फेरे लेकर शादी रचाई.किसान बिल के विरोध में दिल्ली आंदोलन के समर्थन में करहिया मंडी रीवा में 75वें दिन संयुक्त किसान मोर्चा के  कोषाध्यक्ष मध्य प्रदेश किसान सभा के महासचिव रामजीत सिंह ने ये ऐतिहासिक कदम उठाया.

उन्होंने धरनास्थल करहिया मंडी रीवा से अपने पुत्र सचिन सिंह निवासी बिहरा का वैवाहिक संस्कार करने का निर्णय लिया. जहां विष्णुकांत सिंह निवासी छिरहटा की पुत्री आसमा सिंह के साथ संयुक्त किसान मोर्चा के बैनर तले संविधान की शपथ दिलाकर वैवाहिक संस्कार संपन्न कराया गया. शादी के बाद दूल्हा-दुल्हन ने प्रबल इच्छा जाहिर की थी कि धरना स्थल से ही शादी करेंगे. लड़के के पिता रामजीत सिंह का कहना है कि हम इस आयोजन से सरकार को यह संदेश देना चाहते हैं कि बिना बिल वापसी आंदोलन से नहीं हटेंगे, डटे रहेंगे और जो भी किसानों के पारिवारिक कार्यक्रम होंगे, वे सभी धरनास्थल से ही होंगे.

रामजीत ने कहा, हम यह भी संदेश देना चाहते हैं कि सरकार से तो लड़ ही रहे हैं साथ ही कुरीतियों से भी हमें लड़ना है. कुरीतियों से भारतीय समाज का व्यापक नुकसान हो रहा है. रामजीत ने कहा कि हम यह भी संदेश देना चाहते हैं कि संविधान की मंशा अनुरूप सबको अपना मनपसंद हमसफर चुनने की स्वतंत्रता है क्योंकि जहां बीजेपी की सरकारें हैं, वहां लगातार संविधान एवं स्वतंत्रता पर हमले हो रहे हैं.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


शादी में वर वधु को भेंट स्वरूप जो राशि प्राप्त हुई है, वह आगे आंदोलन चलाने में उपयोग की जाएगी, संयुक्त किसान मोर्चा के पदाधिकारी किसान समाजसेवी बुद्धिजीवी जन संगठनों के प्रमुख महिलाएं एवं वर-वधू पक्ष के सम्मानित व्यक्ति उपस्थित होकर वर वधू को आशीर्वाद दिया. उन्हें भारतीय संविधान की प्रति भेंट की गई.