यूपी में तीन डीएम और दो एसपी हटाए गए, चुनाव आयोग ने की कड़ी कार्रवाई

निर्वाचन आय़ोग ने तीन जिलाधिकारियों औऱ दो पुलिस अधीक्षकों यानी एसपी को हटाने का निर्देश दिया है. फिरोजाबाद में सूर्यपाल गंगवार को नया जिलाधिकारी बनाया गया है.

यूपी में तीन डीएम और दो एसपी हटाए गए, चुनाव आयोग ने की कड़ी कार्रवाई

UP Election 2022 : चुनाव आयोग ने तीन जिलाधिकारियों को हटाने का निर्देश दिया

नई दिल्ली:

चुनाव आयोग ने यूपी में आदर्श आचार संहिता के उल्लंघन के बढ़ते मामलों के बीच शनिवार को कड़ी कार्रवाई की है. निर्वाचन आय़ोग ने यूपी विधानसभा चुनाव के बीच तीन जिलाधिकारियों औऱ दो पुलिस अधीक्षकों यानी एसपी को हटाने का निर्देश दिया है. फिरोजाबाद में सूर्यपाल गंगवार को नया जिलाधिकारी बनाया गया है. बरेली में डीएम के तौर पर शिवकांत द्विवेदी की तैनाती की गई है. कानपुर सिटी में नेहा शर्मा जिलाधिकारी बनाई गई हैं. कौशांबी में हेमराम मीणा नए एसपी होंगे. वहीं फिरोजाबाद में आशीष तिवारी नए एसपी के तौर पर जिम्मेदारी संभालेंगे. चुनाव आय़ोग ने ये कार्रवाई ऐसे वक्त की है, जब यूपी के कई जिलों में आदर्श आचार संहिता के उल्लंघन की शिकायतें मिल रही हैं.

अमित शाह ने कैराना में घर-घर किया प्रचार, बिना मास्क भारी भीड़ के बीच दिखे

समाजवादी पार्टी समेत कई विपक्षी दलों ने शिकायत की है कि उनकी शिकायतों पर कोई कार्रवाई राज्य निर्वाचन आयोग की ओर से नहीं की जा रही है. चुनाव आयोग ने यह फैसला ऐसे वक्त लिया है, जब उसे दो हफ्ते तक लगातार राजनीतिक रैलियों पर पाबंदी के बाद आज ही तय करना है कि इस पाबंदी को आगे बढ़ाना है या नहीं. 

शनिवार को कैराना में ही गृह मंत्री अमित शाह ने घर-घर जाकर चुनाव प्रचार किया. इस दौरान शाह के साथ भारी भीड़ दिखाई दी. पार्टी कार्यकर्ता शाह के स्वागत में फूल माला पहनाने और उनके साथ सेल्फी लेने को बेताब दिखे. इस दौरान कहीं भी सोशल डिस्टेंसिंग नहीं दिखाई दी और कोविड प्रोटोकॉल की धज्जियां उड़ीं.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री और यूपी कांग्रेस के चुनाव प्रभारी भूपेश बघेल ने भी बिना मास्क शाह के प्रचार करने पर सवाल उठाए हैं. बघेल ने कहा कि अमित शाह डोर टू डोर अभियान कर रहे हैं. चुनाव आयोग को उन्हें डोर टू डोर अभियान का ब्रांड एंबेसडर घोषित कर देना चाहिए. इस पर कार्रवाई करनी चाहिए वरना चुनाव आयोग की निष्पक्षता पर सवाल उठेंगे. सिर्फ कांग्रेस के ही मुख्यमंत्री पर कार्रवाई क्यों होनी चाहिए.