बीजेपी और AIADMK मिलकर लड़ेंगे तमिलनाडु विधानसभा चुनाव : जेपी नड्डा

तमिलनाडु में हर पांच साल विधानसभा चुनाव में सत्ता परिवर्तन देखने को मिलता है. लेकिन जयललिता की अगुवाई में एआईएडीएमके ने पिछली बार यह मिथक तोड़ते हुए लगातार दूसरी बार सत्ता हासिल की थी.

बीजेपी और AIADMK मिलकर लड़ेंगे तमिलनाडु विधानसभा चुनाव : जेपी नड्डा

BJP President JP Nadda ने मदुरै की रैली में गठबंधन का ऐलान किया

नई दिल्ली:

बीजेपी और AIADMK तमिलनाडु विधानसभा चुनाव मिलकर लड़ेंगे. बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा (JP Nadda) ने शनिवार को मदुरई रैली में इसका ऐलान किया. इसी साल तमिलनाडु में विधानसभा चुनाव होने हैं.

नड्डा ने कहा कि एमजीआर, जयललिता के साथ हमने पाया कि उन्होंने क्षेत्रीय आकांक्षाओं को राष्ट्रीय आकांक्षाओं के साथ मिलाने का काम किया. नड्डा ने कहा कि बीजेपी ने आगामी चुनाव में सत्तारूढ़ एआईएडीएमके और अन्य समान सोच वाली पार्टियों के साथ मिलकर चुनाव लड़ेगी. बीजेपी अध्यक्ष ने कहा कि बीजेपी सरकार ने देश के सभी हिस्सों के साथ तमिलनाडु के विकास को सुनिश्चित किया है. कोविड प्रबंधन, कोरोना वैक्सीन, सीमा सुरक्षा के मामले में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में सरकार ने अपनी प्रतिबद्धता दिखाई है. तमिलनाडु की सभी समस्याओं को मोदी सरकार दूर करेगी. आपके राजनीतिक और सामाजिक समर्थन से ही यह संभव हो सकेगा. अगर आप तमिल संस्कृति की सुरक्षा चाहते हैं तो यह तभी संभव होगा जब बीजेपी के साथ मुख्यधारा में शामिल होने का काम हो.


बीजेपी और एआईएडीएमके के बीच पिछले विधानसभा चुनाव भी साथ मिलकर लड़ा था. हाल ही में कुछ मुद्दों पर दोनों दलों के बीच मतभेद नजर आए थे, लेकिन गृह मंत्री अमित शाह के चेन्नई दौरे के बाद रिश्तों में गर्माहट लौटी.तमिलनाडु विधानसभा चुनाव में सत्तारूढ़ एआईएडीएमके-बीजेपी के गठबंधन का मुकाबला डीएमके नेतृत्व वाले विपक्षी गठबंधन से माना जा रहा है.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


तमिलनाडु में हर पांच साल विधानसभा चुनाव में सत्ता परिवर्तन देखने को मिलता है. लेकिन जयललिता की अगुवाई में एआईएडीएमके ने पिछली बार यह मिथक तोड़ते हुए लगातार दूसरी बार सत्ता हासिल की थी. एआईएडीएमके गठबंधन पर तीसरी बार सत्ता में आने की चुनौती होगी. एआईएडीएमके की सबसे बड़ी नेता जयललिता और डीएमके के सबसे बड़े नेता एम करुणानिधि अब इस दुनिया में नहीं हैं. लिहाजा यह चुनाव काफी दिलचस्प माना जा रहा है.