बिहार की बोचहा सीट पर उपचुनाव बना प्रतिष्ठा का प्रश्न, बीजेपी और राजद ने झोंकी ताकत

भाजपा ने अपने कमोवेश सभी मंत्रियों के अलावा 40 से अधिक विधायकों को प्रचार का ज़िम्मा एक हफ़्ते से अधिक से दिया हुआ हैं. हर वर्ग के मतदाताओं को साधने के लिए कई केंद्रीय मंत्री अब गली-गली घूम रहे हैं .

बिहार की बोचहा सीट पर उपचुनाव बना प्रतिष्ठा का प्रश्न, बीजेपी और राजद ने झोंकी ताकत

Bochaha Bypolls 2022 : बीजेपी के लिए प्रचार करने पहुंचे नीतीश कुमार

पटना:

बिहार की बोचहा विधानसभा क्षेत्र में उपचुनाव (Bihar Bochaha assembly seat By-election) राज्य के दो सबसे बड़े दलों बीजेपी और राजद के बीच प्रतिष्ठा का प्रश्न बन गया है. बोचहा विधानसभा क्षेत्र में रविवार को प्रचार थम जाएगा. चुनाव प्रचार के अंतिम दिन मुख्यमंत्री और बिहार में एनडीए के नेता नीतीश कुमार (Nitish Kumar) जहां बीजेपी (BJP) प्रत्याशी बेबी कुमारी के लिए वोट मांगने पहुंचे, वहीं विपक्ष के नेता तेजस्वी यादव भी एक और चुनावी सभा को संबोधित करेंगे. बोचहा का चुनाव न केवल तेजस्वी बल्कि भारतीय जनता पार्टी के लिए प्रतिष्ठा का प्रश्न बनता जा रहा है. जहां भाजपा ने अपने कमोवेश सभी मंत्रियों के अलावा 40 से अधिक विधायकों को प्रचार का ज़िम्मा एक हफ़्ते से अधिक से दिया हुआ हैं. हर वर्ग के मतदाताओं को साधने के लिए कई केंद्रीय मंत्री अब गली-गली घूम रहे हैं . केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह ने चुनाव प्रचार का ये फ़ोटो खुद ट्वीट किया. 

भाजपा ने बेबी कुमारी जो यहां से एक बार निर्दलीय विधायक चुनी गई थीं,  उनको जब उम्मीदवार बनाया तो उनके ख़िलाफ़ वोटर ख़ासकर कुछ जाति विशेष में नाराज़गी का अंदाज़ा नहीं था इसलिए अब बड़ी सभाओं से अधिक छोटे छोटे जनसंपर्क पर अधिक ज़ोर दिया जा रहा है. विधायक गांव-गांव का दौरा कर रहे हैं . स्वास्थ्य मंत्री मंगल पांडेय ने कुछ प्रचार के फ़ोटो शनिवार को ट्वीट किए . 

वहीं राष्ट्रीय जनता दल के नेता तेजस्वी यादव के ऐसे सभाओं में लोग तो जुट रहे हैं लेकिन उनके भाषण से लग रहा हैं कि वो अपने परंपरा गत वोटर के अलावा भाजपा के परंपरागत वोटर जैसे अगडी जाति के लोगों को भी साधने की कोशिश कर रहे हैं .

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


हालाँकि भाजपा के लिए सरदर्द वीआईपी पार्टी के उम्मीदवार भी हैं, क्योंकि माना जा रहा हैं कि जो भी वोट इस पार्टी को जाएगा वो एनडीए का ही वोट होगा और इसका लाभ राष्ट्रीय जनता दल को आख़िरकार मिलेगा.