AstraZeneca ने अपने टीके को बताया सुरक्षित, जारी किया बयान..

AstraZeneca ने कहा कि आठ मार्च तक यूरोपीय संघ और ब्रिटेन में यह टीका लगवाने वाले लोगों में से 15 में प्लेटलेट्स की कमी और 22 में ब्लड क्लॉट का मामला सामने आया है. आबादी के आकार को देखते हुए यह संख्या काफी कम है.

AstraZeneca ने अपने टीके को बताया सुरक्षित, जारी किया बयान..

AstraZeneca ने कहा, टीका स्पष्ट वैज्ञानिक प्रमाण पर आधारित है. सुरक्षा हमारे लिए बेहद अहम है

खास बातें

  • कुछ देशों ने ‘ब्लड क्लॉट’ समस्‍या के बाद लगाई है अस्‍थायी रोक
  • कंपनी ने कहा,टीका स्पष्ट वैज्ञानिक प्रमाण पर आधारित है
  • लोगों की सुरक्षा हमारे लिए अत्यंत महत्वपूर्ण है
नई दिल्ली:

औषधि क्षेत्र की प्रमुख कंपनी एस्ट्राजेनेका (AstraZeneca) ने अपने कोविड-19 टीके (Covid-19 vaccine) को सुरक्षित करार दिया है. हालांकि, इस टीके को लगवाने वाले लोगों में ‘ब्लड क्लॉट' की समस्या के बाद कई देशों ने इसे फिलहाल रोक दिया है.डेनमार्क, नॉर्वे और आइसलैंड जैसे देशों से अस्थायी तौर पर कंपनी का टीका लगाने पर रोक लगा दी है.एस्ट्राजेनेका/ऑक्सफोर्ड का कोविड-19 टीके का उत्पादन सीरम इंस्‍टीट्यूट ऑफ इंडिया (SII) ने किया है और यह भारत में चलाए जा रहे टीकाकरण अभियान का हिस्सा है. इस अभियान के तहत भारत में कोविशील्ड (एस्ट्राजेनेका/ऑक्सफोर्ड) और कोवैक्‍सीन (भारत बायोटेक) टीका लगाया जा रहा है.

मुंबई में कोरोना संक्रमण के नए केसों ने बढ़ाई चिंता, जल्‍द की जा सकती है पाबंदियों की घोषणा..

AstraZeneca ने सोमवार को बयान में कहा कि वह एक बार फिर से अपने कोविड-19 के टीके के सुरक्षित होने के बारे में भरोसा दिलाती है. यह टीका स्पष्ट वैज्ञानिक प्रमाण पर आधारित है. सुरक्षा हमारे लिए अत्यंत महत्वपूर्ण है और कंपनी अपने टीके की सुरक्षा को लेकर लगातार निगरानी कर रही है.कंपनी ने कहा कि यूरोपीय संघ और ब्रिटेन में उसका कोविड-19 का टीका 1.7 करोड़ से अधिक लोगों ने लगवाया है लेकिन किसी भी मामले में ब्लड क्लॉट की वजह से फेफड़ों में रुकावट या प्लेटलेट्स की कमी का मामला सामने नहीं आया है.


WHO ने कहा, AstraZeneca की कोरोना वैक्सीन पर रोक लगाने की कोई वजह नहीं

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


AstraZeneca ने कहा कि आठ मार्च तक यूरोपीय संघ और ब्रिटेन में यह टीका लगवाने वाले लोगों में से 15 में प्लेटलेट्स की कमी और 22 में ब्लड क्लॉट का मामला सामने आया है.कंपनी ने कहा कि आबादी के आकार को देखते हुए यह संख्या काफी कम है. अन्य लाइसेंस वाली कोविड-19 की वैक्सीन में भी इस तरह के मामले आए हैं.



(इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)