World Liver Day: लीवर को हेल्दी, क्लीन और स्ट्रॉन्ग रखने के लिए क्या करें और क्या नहीं? जानें इसकी कैपेसिटी बढ़ाने के टिप्स

Tips To Increase Liver Capacity: दुनिया भर में लीवर कैंसर कैंसर से होने वाली मौतों का तीसरा प्रमुख कारण है. विश्व स्वास्थ्य संगठन के अनुसार लीवर की बीमारी भारत में मृत्यु का दसवां सबसे आम कारण है.

World Liver Day: लीवर को हेल्दी, क्लीन और स्ट्रॉन्ग रखने के लिए क्या करें और क्या नहीं? जानें इसकी कैपेसिटी बढ़ाने के टिप्स

आप हेपेटाइटिस बी का टीका लगवाकर हेपेटाइटिस बी के जोखिम को कम कर सकते हैं.

World Liver Day: लीवर हमारे शरीर का दूसरा सबसे बड़ा अंग है, यह एक ऐसा अंग है जिसकी अच्छी देखभाल न की जाए तो यह आसानी से क्षतिग्रस्त हो सकता है. यह शरीर के पाचन तंत्र में एक प्रमुख विंडो है जो हमारी दवाओं सहित हर चीज को छानता है और ब्लड शुगर को रेगुलेट करने शरीर से विषाक्त पदार्थों को हटाने, कोलेस्ट्रॉल लेवल को कंट्रोल करने, रक्त को थक्का बनने में मदद करने और संक्रमण से लड़ने में भी शामिल है.

दुनिया भर में लीवर कैंसर कैंसर से होने वाली मौतों का तीसरा प्रमुख कारण है. विश्व स्वास्थ्य संगठन के अनुसार लीवर की बीमारी भारत में मृत्यु का दसवां सबसे आम कारण है. भारत में हर साल लिवर सिरोसिस के लगभग 10 लाख रोगियों का निदान किया जाता है, जो लगभग 5 में से 1 भारतीय को प्रभावित करता है.

गर्मियों में आपके पाचन पर कहर बरपा सकती हैं ये 5 चीजें, परहेज करना ही सबसे बेस्ट, वर्ना पछताना पड़ेगा

लीवर रोग दो प्रकार के होते हैं: तीव्र और जीर्ण. क्रोनिक हेपेटाइटिस एक ऐसी स्थिति है जिसमें एक मामूली इंफ्लेमेटरी रिएक्शन 6 महीने से अधिक समय तक बनी रहती है. सिरोसिस या लीवर कैंसर तब विकसित हो सकता है जब शरीर सूजन से नष्ट हुए हेपेटोसाइट्स (लीवर कोशिकाओं) की मरम्मत करने में असमर्थ होता है. हेपेटाइटिस बी वायरस (एचबीवी) या हेपेटाइटिस सी वायरस (एचसीवी), डायबिटीज, कुछ वंशानुगत लीवर की बीमारियों, डायबिटीज, नॉन अल्कोहोलिक फैटी लीवर रोग, एफ्लाटॉक्सिन जोखिम और अत्यधिक शराब की खपत के साथ पुराना (दीर्घकालिक) संक्रमण सबसे प्रचलित जोखिम है. इन संक्रमणों से लीवर सिरोसिस हो जाता है.

लीवर कैंसर के शुरुआती लक्षण और संकेतों में बिना कोशिश किए वजन कम होना, भूख न लगना, पेट के ऊपरी हिस्से में दर्द और सूजन, मतली / उल्टी, आपकी त्वचा का पीलापन और आंखों का सफेद होना शामिल हैं.

स्क्रीन पर नजरें गढ़ाने से लाल और ड्राई हो जाती हैं आखें, तो आई ड्राइनेस से छुटकारा पाने के लिए इन उपायों को अपनाएं

लीवर के सही कार्य को बनाए रखने के उपाय | Measures To Maintain Proper Liver Function

क्या करें:

1. हरी सब्जियों का अधिक सेवन करें: आपकी थाली में हरी सब्जियों का सेवन आपके लीवर के लिए हमेशा महत्वपूर्ण होता है. इन सब्जियों में क्लींजिंग कंपाउंड होते हैं जो आपके लीवर को प्राकृतिक रूप से साफ करते हैं. ब्रोकोली और ब्रसेल्स स्प्राउट्स जैसी क्रूसिफेरस सब्जियां लीवर के प्राकृतिक डिटॉक्सिफिकेशन एंजाइम को बढ़ाने में मदद करती हैं, इसे नुकसान से बचाती हैं, और लीवर एंजाइम के रक्त स्तर में सुधार करती हैं.

2. हेल्दी वेट बनाए रखें: मोटापा खासकर पेट का मोटापा, फैटी लीवर रोग के विकास के लिए एक प्रमुख जोखिम कारक है. बैलेंस डाइट और नियमित व्यायाम के साथ हेल्दी वजन हासिल किया जा सकता है और बनाए रखा जा सकता है.

Summer Care Tips: गर्मी के मौसम में स्वीमिंग पूल जानें की तैयारी कर रहे हैं तो इन 5 बातों का रखें खास ध्यान

3. अपने डाइट में अधिक विटामिन सी शामिल करें: खट्टे फल, नींबू और संतरे विटामिन सी से भरे होते हैं, जो हानिकारक यौगिकों के उत्पादन में सहायता करते हैं और एक फैटी लीवर की रिकवरी में मदद करते हैं. ये पोषक तत्व ऊर्जा उत्पादन, लीवर डिटॉक्सीफिकेशन और सूजन को कम करने में सहायता करते हैं. अंगूर में विटामिन सी, फोलिक एसिड, फेनोलिक एसिड, पोटेशियम, कैल्शियम, आयरन और एंटीऑक्सीडेंट सभी प्रचुर मात्रा में होते हैं.

4. हेपेटाइटिस बी का टीका लगवाएं: हेपेटाइटिस बी का टीका लगवाने से आप हेपेटाइटिस बी के खतरे को कम कर सकते हैं. टीका लगभग किसी को भी दिया जा सकता है, जिसमें शिशु, वृद्ध वयस्क शामिल हैं.

5. हेपेटाइटिस सी से बचाव के उपाय करें: हेपेटाइटिस सी को रोकने के लिए ऐसा कोई टीका नहीं है लेकिन आप असुरक्षित यौन संबंध न बनाकर संक्रमण के जोखिम को कम कर सकते हैं जब तक कि आप सुनिश्चित न हों कि आपका साथी एचबीवी, एचसीवी या किसी यौन संचारित संक्रमण से संक्रमित नहीं है.

Weight Loss में बेहद असरदार हो सकती ये हाई प्रोटीन वाली चॉकलेट स्मूदी, Diet में शामिल कर घटाएं फैट

क्या न करें:

1. बहुत अधिक शराब के सेवन से बचें: शराब फैटी लीवर के मुख्य कारणों में से एक है. नियमित रूप से शराब का सेवन अस्वास्थ्यकर है और इससे लीवर की बीमारियां हो सकती हैं. अपने लीवर से अधिक शराब पीने से लीवर की कोशिकाएं नष्ट हो सकती हैं, जिससे अस्वास्थ्यकर वसा जमा हो सकती है. इससे लीवर में सूजन (अल्कोहलिक हेपेटाइटिस), स्कारिंग (सिरोसिस) और यहां तक ​​कि लीवर कैंसर भी हो सकता है. यह लीवर की कोशिकाओं को नुकसान पहुंचा सकता है और सूजन या निशान पैदा कर सकता है जो सिरोसिस बन जाता है.

2. कुछ दवाओं का ध्यान रखें: कुछ कोलेस्ट्रॉल दवाओं का कभी-कभी साइड इफेक्ट हो सकता है जिससे लीवर की समस्या हो सकती है. पेनकिलर उन सैकड़ों दवाओं में से एक है, जैसे कि कोल्ड मेडिसिन और प्रिस्क्रिप्शन दर्द की दवाएं जो आपके लीवर को नुकसान पहुंचा सकती हैं. जरूरत से ज्यादा दवा लेने या लंबे समय तक लेने से लीवर की गंभीर क्षति हो सकती है.

Benefits Of Garlic For Men: पुरुषों के लिए लहसुन खाने के 11 जबरदस्त फायदे, जानें कैसे और कितनी कलियां खाएं

3. जंक फूड से बचें: जंक फूड जैसे फ्रेंच फ्राइज, बर्गर और पिज्जा से बचें. इन फूड्स में सेचुरेटेड फैट, ट्रांस-फैट की मात्रा अधिक होती है और इन्हें पचाना मुश्किल होता है क्योंकि इन फूड्स को संसाधित करने के लिए लीवर को कड़ी मेहनत करनी पड़ती है.

4. रेड मीट से बचें: रेड मीट में प्रोटीन की मात्रा अधिक हो सकती है, लेकिन इसे पचाना लीवर के लिए कठिन काम है. लीवर में अत्यधिक प्रोटीन जमा होने से फैटी लीवर रोग हो सकते हैं जो मस्तिष्क और किडनी पर प्रतिकूल प्रभाव डाल सकते हैं.

5. टॉक्सिन्स से बचें: टॉक्सिन्स लीवर की कोशिकाओं को नुकसान पहुंचा सकते हैं. सफाई और एरोसोल प्रोडक्ट्स, कीटनाशकों, रसायनों और एडिटिव्स से विषाक्त पदार्थों के सीधे संपर्क को सीमित करें. एरोसोल का उपयोग करते समय सुनिश्चित करें कि कमरा हवादार है, और मास्क पहनना सुनिश्चित करें.

Weight Loss Tips: ये 4 आसान ड्रिंक्स इस गर्मी में तेजी से पिघला सकती हैं पेट की चर्बी, बॉडी को भी करेंगे डिटॉक्स

आप अपने लीवर को सुरक्षित रखने और उसे हेल्दी रखने के लिए और भी बहुत कुछ कर सकते हैं जैसे हेल्दी डाइट खाकर, बैलेंस डाइट खाकर, शराब का सेवन सीमित करके और धूम्रपान छोड़ कर लीवर के अच्छे स्वास्थ्य को बनाए रखना आदि. वायरल संक्रमण से संबंधित लीवर कैंसर और सिरोसिस की रोकथाम कर सकते हैं टीकों के अनिवार्य उपयोग के माध्यम से किया जाना चाहिए. इसके साथ ही लीवर कैंसर के खतरे से बचने के लिए हेपेटाइटिस बी या सी संक्रमण का समय पर इलाज कराएं. लीवर कैंसर के खतरे से बचने के लिए हेपेटाइटिस बी या सी संक्रमण या लीवर सिरोसिस जैसी स्थितियों वाले लोगों को नियमित रूप से लीवर कैंसर की जांच करवानी चाहिए.

(डॉ संजय राय, सीनियर कंसल्टेंट - मेड ओएनसी, ईएसआईसी मेडिकल कॉलेज फरीदाबाद द्वारा)

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


अस्वीकरण: इस लेख में व्यक्त विचार लेखक के निजी विचार हैं. एनडीटीवी इस लेख की किसी भी जानकारी की सटीकता, पूर्णता, उपयुक्तता या वैधता के लिए ज़िम्मेदार नहीं है. सभी जानकारी यथास्थिति के आधार पर प्रदान की जाती है. लेख में दी गई जानकारी, तथ्य या राय एनडीटीवी के विचारों को नहीं दर्शाती है और एनडीटीवी इसके लिए कोई जिम्मेदारी या दायित्व नहीं लेता है.