विज्ञापन
Story ProgressBack
This Article is From Jul 19, 2022

Lung Cancer: शरीर में दिखें ये बदलाव तो न करें नजरअंदाज, हो सकता है लंग कैंसर, जानें लक्षण, कारण और इलाज

Lung Cancer: लंग कैंसर की बीमारी का शुरुआत में पता लगाना काफी मुश्किल होता है और बाद में यह इतनी बढ़ जाती है कि इसे रोकना मुश्किल हो जाता है. अन्य कैंसर की तरह, फेफड़े का कैंसर तब विकसित होता है जब सेल डिविजन और ग्रोथ की सामान्य प्रक्रिया बाधित होती है.

Read Time: 3 mins
Lung Cancer: शरीर में दिखें ये बदलाव तो न करें नजरअंदाज, हो सकता है लंग कैंसर, जानें लक्षण, कारण और इलाज
Lung Cancer: शरीर पर नजर आएं ये लक्षण तो हो जाएं सतर्क, हो सकता है लंग कैंसर

आजकल गलत लाइफस्टाइल और खानपान कई बड़ी बीमारियों का कारण बन रहा है. इनमें से एक बीमारी लंग यै फेफड़े का कैंसर है. लंग कैंसर की बीमारी का शुरुआत में पता लगाना काफी मुश्किल होता है और बाद में यह इतनी बढ़ जाती है कि इसे रोकना मुश्किल हो जाता है. अन्य कैंसर की तरह, फेफड़े का कैंसर तब विकसित होता है जब सेल डिविजन और ग्रोथ की सामान्य प्रक्रिया बाधित होती है. कोशिकाएं अनियंत्रित रूप से बढ़कर ट्यूमर बना देती हैं. लंग कैंसर के इलाज में कीमोथेरेपी, रेडिएशन थेरेपी और सर्जरी आदि शामिल हैं. लंग कैंसर के प्रकार, स्टेज और अन्य फैक्टर्स के आधार पर डॉक्टर सही ट्रीटमेंट का निर्णय ले सकते हैं.


लंग कैंसर के लक्षण- Symptoms Of Lung Cancer:
फेफड़ों का कैंसर आमतौर पर इसके शुरुआती चरणों में लक्षण पैदा नहीं करता है. फेफड़ों के कैंसर के लक्षण आमतौर पर तब दिखाई देते हैं जब रोग एडवांस स्टेज में पहुंचता है. फेफड़ों के कैंसर के लक्षणों में- 

Fruit And Vegetables: क्या अधिक फल और सब्जी खाने से डिप्रेशन को दूर रखने में मदद मिल सकती है? जानें रिसर्च क्या कहता है...

1. खांसी जो दूर नहीं होती
2. खांसी के साथ खून आना
3. सांस लेने में कठिनाई
4. छाती में दर्द
5. आवाज बैठना
6. वजन घटना
7. हड्डी में दर्द
8. सिरदर्द  

Health Tips: क्या बर्थ मार्क भी हो सकते हैं खतरनाक, जानें क्या है External Hemangiomas और इसका इलाज

jle0je2



लंग कैंसर के कारण- Causes Of Lung Cancer:
लंग कैंसर को डेवलप होने में कई साल लग सकते हैं. फेफड़ों के कैंसर के डेवलप होने में सिगरेट स्मोकिंग सबसे आम रिस्क फैक्टर हैं. बहुत से लोग सिगरेट के धुएं के संपर्क में आते हैं उन्हें भी लंग कैंसर का खतरा रहता है. इसके अलावा एस्बेस्टस, रेडॉन, यूरेनियम जैसे हेवी मेटल के संपर्क में आना भी लंग कैंसर का खतरा बढ़ा सकता है. सीमेंट फैक्टरी या अन्य कंस्ट्रक्शन से जुड़े लोगों में भी लंग कैंसर होने का खतरा ज्यादा रहता है. अनुवांशिक कारक भी फेफड़ों के कैंसर के जिम्मेदार होते हैं. यदि परिवार में किसी एक व्यक्ति को फेफड़ों का कैंसर है, तो अन्य लोगों को भी यह रोग होने का खतरा बढ़ सकता है. इसके अलावा फेफड़ों की कोई अन्य बीमारी और प्रदूषित वातावरण भी लंग कैंसर का कारण बन सकता है.

High Cholesterol Signs: अगर स्किन पर दिखाई दें ये 6 वार्निंग साइन तो समझ जाएं कोलेस्ट्रॉल से ब्लॉक हो गई हैं आपकी नसें

अस्वीकरण: सलाह सहित यह सामग्री केवल सामान्य जानकारी प्रदान करती है. यह किसी भी तरह से योग्य चिकित्सा राय का विकल्प नहीं है. अधिक जानकारी के लिए हमेशा किसी विशेषज्ञ या अपने चिकित्सक से परामर्श करें. एनडीटीवी इस जानकारी के लिए ज़िम्मेदारी का दावा नहीं करता है.

NDTV.in पर ताज़ातरीन ख़बरों को ट्रैक करें, व देश के कोने-कोने से और दुनियाभर से न्यूज़ अपडेट पाएं

फॉलो करे:
डार्क मोड/लाइट मोड पर जाएं
Our Offerings: NDTV
  • मध्य प्रदेश
  • राजस्थान
  • इंडिया
  • मराठी
  • 24X7
Choose Your Destination
Previous Article
बच्चे का पैदा होते ही रोना क्यों जरूरी है? सेरेब्रल पाल्सी से क्या है इसका कनेक्शन, जानें कारण, लक्षण और इलाज
Lung Cancer: शरीर में दिखें ये बदलाव तो न करें नजरअंदाज, हो सकता है लंग कैंसर, जानें लक्षण, कारण और इलाज
कैविटी ही नहीं इन 5 कारणों से भी हो सकता है दांत में दर्द, इग्नोर न करें तुरंत डॉक्टर को दिखाएं
Next Article
कैविटी ही नहीं इन 5 कारणों से भी हो सकता है दांत में दर्द, इग्नोर न करें तुरंत डॉक्टर को दिखाएं
Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com
;