विज्ञापन
Story ProgressBack

हैदराबाद में हर साल होता है ‘मछली प्रसादम’ का वितरण, दमा रोगियों के लिए माना जाता है वरदान, लोग खाते हैं जिंदा मछली

अस्थमा और अन्य श्वसन संबंधी बीमारियों में कारगर साबित होने वाले बथिनी परिवार के लोकप्रिय 'मछली प्रसादम' का वितरण आज से शुरू किया गया.

हैदराबाद में हर साल होता है ‘मछली प्रसादम’ का वितरण, दमा रोगियों के लिए माना जाता है वरदान, लोग खाते हैं जिंदा मछली

अस्थमा और अन्य श्वसन संबंधी बीमारियों में कारगर साबित होने वाले बथिनी परिवार के लोकप्रिय 'मछली प्रसादम' का वितरण आज से शुरू किया गया. नामपल्ली के प्रदर्शनी मैदान में बथिनी गौड़ परिवार द्वारा आयोजित इस वार्षिक कार्यक्रम का उद्घाटन तेलंगाना के परिवहन मंत्री पोन्नम प्रभाकर और विधानसभा अध्यक्ष गद्दाम प्रसाद कुमार ने किया.

तेलंगाना और अन्य राज्यों के विभिन्न भागों से बड़ी संख्या में मरीज मानसून के आगमन की पूर्व सूचना देने वाले 'मृगशिरा कार्ति' के अवसर पर बथिनी परिवार के सदस्यों से 'मछली प्रसादम' लेने आते हैं. बथिनी गौड़ परिवार का दावा है कि वे पिछले 178 सालों से मछली की दवा मुफ्त में बांट रहे हैं. हर्बल दवा का गुप्त फार्मूला 1845 में एक संत ने उनके पूर्वजों को दिया था, जिन्होंने उनसे शपथ ली थी कि यह दवा मुफ्त में दी जाएगी. परिवार द्वारा तैयार किया गया एक पीले रंग का हर्बल पेस्ट एक जीवित उंगली के आकार की मछली 'मुरेल' के मुंह में रखा जाता है जिसे फिर रोगी के गले में डाला जाता है. ऐसा माना जाता है कि अगर इसे लगातार तीन साल तक लिया जाए तो यह बहुत राहत देता है. शाकाहारी लोगों के लिए यह परिवार उन्हें गुड़ के साथ दवा देता है.

World Brain Tumor Day: बेहतर इलाज के लिए ब्रेन ट्यूमर का शीघ्र पता लगाना महत्वपूर्ण : विशेषज्ञ

पोन्नम प्रभाकर ने कहा, ''मछली प्रसादम लोगों की आस्था से जुड़ा हुआ है और हर साल भारत के विभिन्न हिस्सों के अलावा बड़ी संख्या में विदेशों से भी लोग इसे खाने आते हैं.'' उन्होंने कहा कि बथिनी परिवार 150 से अधिक वर्षों से इस कार्यक्रम का आयोजन करता आ रहा है. सरकार इसको लेकर सभी व्यवस्थाएं करती है ताकि लोगों को कोई असुविधा न हो.

कार्यक्रम में खैरताबाद के विधायक डी. नागेंद्र और ग्रेटर हैदराबाद की मेयर विजयलक्ष्मी गडवाल भी मौजूद थीं. तेलुगु राज्यों और देश के अन्य राज्यों के विभिन्न हिस्सों से अस्थमा के मरीज सांस की समस्याओं से राहत पाने की उम्मीद में हर साल जून में 'मछली प्रसादम' लेने आते हैं. देश के विभिन्न भागों से अस्थमा रोगी हर साल मछली की दवा लेने के लिए हैदराबाद आते हैं.हालांकि, हर्बल पेस्ट की सामग्री पर विवाद के कारण पिछले 15 वर्षों में दवा की लोकप्रियता कम हो गई है.

लोगों में वैज्ञानिक सोच विकसित करने के लिए काम कर रहे कुछ समूहों ने मछली की दवा को धोखाधड़ी बताया है. उन्होंने इसको लेकर कोर्ट का रुख भी किया.विरोध जताने वालों ने दावा किया कि हर्बल पेस्ट में भारी धातुएं हैं,जो गंभीर स्वास्थ्य समस्याएं पैदा कर सकती हैं. वहीं इस पर गौड़ परिवार का दावा है कि अदालत के आदेश के अनुसार प्रयोगशालाओं में किए गए परीक्षणों से पता चला है कि हर्बल पेस्ट सुरक्षित है. तर्कवादियों द्वारा चुनौती दिए जाने के बाद, गौड़ परिवार ने इसे 'मछली प्रसादम' कहना शुरू कर दिया.

(अस्वीकरण: सलाह सहित यह सामग्री केवल सामान्य जानकारी प्रदान करती है. यह किसी भी तरह से योग्य चिकित्सा राय का विकल्प नहीं है. अधिक जानकारी के लिए हमेशा किसी विशेषज्ञ या अपने चिकित्सक से परामर्श करें. एनडीटीवी इस जानकारी के लिए ज़िम्मेदारी का दावा नहीं करता है.)

NDTV.in पर ताज़ातरीन ख़बरों को ट्रैक करें, व देश के कोने-कोने से और दुनियाभर से न्यूज़ अपडेट पाएं

फॉलो करे:
डार्क मोड/लाइट मोड पर जाएं
Our Offerings: NDTV
  • मध्य प्रदेश
  • राजस्थान
  • इंडिया
  • मराठी
  • 24X7
Choose Your Destination
Previous Article
International Self Care Day 2024: शरीर में होने वाले ये 8 बदलाव बताते हैं, आपको सेल्फ केयर की है बहुत ज्यादा जरूरत
हैदराबाद में हर साल होता है ‘मछली प्रसादम’ का वितरण, दमा रोगियों के लिए माना जाता है वरदान, लोग खाते हैं जिंदा मछली
छोटे बालों से हैं परेशान, नहीं बढ़ रही ग्रोथ, तो सिर्फ नारियल तेल में मिलाकर दिन में 2 बार करें मसाज, मिलेंगे लंबे, घने बाल
Next Article
छोटे बालों से हैं परेशान, नहीं बढ़ रही ग्रोथ, तो सिर्फ नारियल तेल में मिलाकर दिन में 2 बार करें मसाज, मिलेंगे लंबे, घने बाल
Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com
;