Besan Purity Test: कहीं आप भी तो नहीं करते नकली बेसन का सेवन, ऐसे करें असली और नकली बेसन की पहचान

Real Or Fake Besan: बेसन एक ऐसी चीज है जिसका इस्तेमाल लगभग हर भारतीय घर में किया जाता है. बेसन से बहुत से स्वादिष्ट पकवान बनाएं जाते हैं. दरअसल चना दाल के पिसे आटे को बेसन कहते हैं.

Besan Purity Test: कहीं आप भी तो नहीं करते नकली बेसन का सेवन, ऐसे करें असली और नकली बेसन की पहचान

Real Or Fake Besan: बेसन की असली और नकली पहचान करने के लिए आप नींबू का इस्तेमाल कर सकते हैं.

खास बातें

  • चने से बना होने के कारण बेसन में बहुत से न्यूट्रिएंट पाए जाते हैं.
  • बेसन को पौष्टिक तत्वों से भरपूर माना जाता है.
  • डायबिटीज रोगियों के लिए बेसन का इस्तेमाल फायदेमंद माना जाता है.

Real Or Fake Besan:  बेसन एक ऐसी चीज है जिसका इस्तेमाल लगभग हर भारतीय घर में किया जाता है. बेसन (Besan) से बहुत से स्वादिष्ट पकवान बनाएं जाते हैं. दरअसल चना दाल के पिसे आटे को बेसन कहते हैं. बेसन को पौष्टिक तत्वों से भरपूर माना जाता है. चने से बना होने के कारण बेसन में बहुत से न्यूट्रिएंट पाए जाते हैं. आपको बता दें कि बेसन में कैल्शियम, मैग्नीशियम और अन्य महत्वपूर्ण खनिज पाए जाते हैं, जो हमारी सेहत के लिए अच्छे माने जाते हैं. लेकिन क्या आप ये जानते हैं कि आप जो बेसन का इस्तेमाल कर रहे हैं, वो कहीं मिलावटी तो नहीं. क्योंकि मिलावटी बेसन (Besan Purity Test) का सेवन सेहत के लिए हानिकारक हो सकता है. तो अब सवाल ये उठता है कि बेसन की असली और नकली (Real Or Fake Besan) पहचान कैसे करें, तो परेशान न हों, हम आपको कुछ ऐसे घरेलू उपाय बता रहे हैं जिनकी मदद से आप बेसन की शुद्धता की पहचान कर सकते हैं. 

ऐसे करें बेसन की शुद्धता की पहचानः

1. नींबू की मदद सेः

नींबू स्वाद और सेहत के लिए ही नहीं बल्कि बेसन की पहचान करने में भी मदद कर सकता है. बेसन की असली और नकली पहचान करने के लिए आप नींबू का इस्तेमाल कर सकते हैं. इसके लिए आपको दो चम्मच बेसन में, दो चम्मच नींबू का रस मिलाना है. साथ ही इसमें दो चम्मच हाइड्रोक्लोरिक एसिड भी मिला दें. इसको 5-7 मिनट के लिए रख दें. कुछ देर बाद अगर बेसन लाल या भूरे रंग का नज़र आ रहा है तो आपका बेसन नकली हो सकता है.

qs3t812

नींबू स्वाद और सेहत के लिए ही नहीं बल्कि बेसन की पहचान करने में भी मदद कर सकता है.  

2. हाइड्रोक्लोरिक एसिडः

आप बेसन की नकली और असली पहचान हाइड्रोक्लोरिक एसिड की मदद से कर सकते हैं. इसके लिए आपको एक कटोरे में दो चम्मच बेसन लेना है और इसमें दो चम्मच पानी मिला कर पेस्ट बनाना है. इस पेस्ट में दो चम्मच हाइड्रोक्लोरिक एसिड डालकर कुछ समय के लिए छोड़ दे. अगर बेसन का रंग लाल दिखाई दें तो समझ लिजिए की आपका बेसन असली नहीं है और अगर रंग नहीं बदलता है तो आपका बेसन असली हो सकता है.

बेसन के फायदेः (Benefits Of Besan)

  • बेसन को प्रोटीन से भरपूर माना जाता है बेसन के सेवन से प्रोटीन की कमी को दूर किया जा सकता है.
  • बेसन चने से बना होता है इसलिए इसमें प्रोटीन, कैल्शियम, मैग्नीशियम जैसे तत्व पाए जाते हैं जो सेहत के लिए अच्छे माने जाते हैं.
  • डायबिटीज रोगियों के लिए बेसन का इस्तेमाल फायदेमंद माना जाता है.
  • बेसन को सुंदरता को बढ़ाने के लिए भी इस्तेमाल किया जाता है. बेसन से बने पैक को लगाने से ऑयली स्किन से बचा जा सकता है.

नकली बेसन खाने के नुकसानः (Side Effects Of Fake Besan)

  • अगर आप भी नकली बेसन का सेवन कर रहे हैं तो आपको पेट दर्द और पेट से जुड़ी समस्याओं का सामना करना पड़ सकता है.
  • नकली बेसन के सेवन से पेट गैस की समस्या हो सकती है, अधिक मात्रा में बेसन खाने से भी गैस की समस्या हो सकती है.
  • कुछ लोगों को नकली बेसन खाने के कारण एलर्जी का सामना करना पड़ सकता है. 

डॉक्‍टरों ने कहा था Count Your Days,अब कैंसर को हरा खुशियां गिन रहा है अमित


Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


अस्वीकरण: सलाह सहित यह सामग्री केवल सामान्य जानकारी प्रदान करती है. यह किसी भी तरह से योग्य चिकित्सा राय का विकल्प नहीं है. अधिक जानकारी के लिए हमेशा किसी विशेषज्ञ या अपने चिकित्सक से परामर्श करें. एनडीटीवी इस जानकारी के लिए ज़िम्मेदारी का दावा नहीं करता है.