विज्ञापन
Story ProgressBack

आज है मासिक दुर्गा अष्टमी, जानिए माता दुर्गा की पूजा का महत्व और पूजन विधि

इस दिन व्रत रखकर आदिशक्ति माता दुर्गा (Goddess Durga) की विशेष पूजा अर्चना पूरे विधि-विधान से की जाती है. आइए जानते हैं मासिक दुर्गा अष्टमी की पूजा का शुभ मुहूर्त, पूजा विधि और व्रत के महत्व के बारे में.

Read Time: 3 mins
आज है मासिक दुर्गा अष्टमी, जानिए माता दुर्गा की पूजा का महत्व और पूजन विधि
मासिक दुर्गा अष्टमी या बगलामुखी जयंती का व्रत बेहद फलदायी माना जाता है.

Masik Durgashtami: वर्ष के वैशाख माह में शुक्ल पक्ष की अष्टमी तिथि को मासिक दुर्गा अष्टमी का व्रत रखा जाता है. इसे बगलामुखी जयंती (Baglamukhi Jayanti) भी कहा जा है. साल 2024 में मासिक दुर्गा अष्टमी या बगलामुखी जयंती 15 मई, बुधवार को मनाई जा रही है. इस दिन व्रत रखकर आदिशक्ति माता दुर्गा (Goddess Durga) की विशेष पूजा अर्चना पूरे विधि-विधान से की जाती है. आइए जानते हैं मासिक दुर्गा अष्टमी की पूजा का शुभ मुहूर्त, पूजा विधि और व्रत के महत्व के बारे में.

Advertisement

कब है सीता नवमी, जानिए जनक नंदिनी की पूजा की तिथि, शुभ मुहूर्त और पूजा विधि के बारे में

मासिक दुर्गा अष्टमी का शुभ मुहूर्त

इस वर्ष वैशाख माह में शुक्ल पक्ष की अष्टमी तिथि 15 मई, बुधवार को सुबह 4 बजकर 19 मिनट से शुरू होकर 16 मई गुरुवार को सुबह 6 बजकर 22 मिनट तक है. इस चलते मासिक दुर्गा अष्टमी का व्रत बुधवार 15 मई को रखा जा रहा है. 

Advertisement

मासिक दुर्गा अष्टमी की पूजा विधि 

मासिक दुर्गा अष्टमी या बगलामुखी जयंती का व्रत रखने लिए व्रत के दिन सुबह जल्दी उठकर देवी देवताओं का ध्यान कर और माता दुर्गा को स्मरण कर व्रत का संकल्प करें. स्नान के बाद भगवान सूर्य का जल अर्पित करें और पूजा की तैयारी करें. पूजा के कमरे में चौकी पर लाल रंग का वस्त्र बिछाकर माता की प्रतिमा को स्थापित करें. विधि-विधान से पूजा करें. माता को श्रृंगार की वस्तुएं जैसे चूड़ी, बिंदी, सिंदूर, चुनरी चढ़ाएं. लाल रंग के जवा कुसुम के फूल चढ़ाएं और घी से दीया जलाकर माता दुर्गा की आरती करें. इसके बाद माता को खीर, फल आदि का भोग लगाएं.

Advertisement

मासिक दुर्गा अष्टमी व्रत का महत्व 

मान्यता है कि मासिक दुर्गा अष्टमी या बगलामुखी जयंती का व्रत (Baglamukhi Jayanti) करने से माता भक्तों के सभी कष्ट और परेशानियां हर लेती हैं. इस व्रत से भक्तों को माता आदिशक्ति की अखंड कृपा प्राप्त होती है. इससे घर में सुख-समृद्धि और मान प्रतिष्ठा में वृद्धि होती है.

Advertisement

मासिक दुर्गा अष्टमी व्रत में करें इन मंत्रों का जाप 

ॐ जयन्ती मंगला काली भद्रकाली कपालिनी।

दुर्गा क्षमा शिवा धात्री स्वाहा स्वधा नमोऽस्तुते।।

 या देवी सर्वभूतेषु शक्तिरूपेण संस्थिता,

नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नमः।।

 या देवी सर्वभूतेषु तुष्टिरूपेण संस्थिता,

नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नमः।।

(Disclaimer: यहां दी गई जानकारी सामान्य मान्यताओं और जानकारियों पर आधारित है. एनडीटीवी इसकी पुष्टि नहीं करता है.)

NDTV.in पर ताज़ातरीन ख़बरों को ट्रैक करें, व देश के कोने-कोने से और दुनियाभर से न्यूज़ अपडेट पाएं

फॉलो करे:
डार्क मोड/लाइट मोड पर जाएं
Our Offerings: NDTV
  • मध्य प्रदेश
  • राजस्थान
  • इंडिया
  • मराठी
  • 24X7
Choose Your Destination
Previous Article
पंडित ने बताया पीएम मोदी के गंगा सप्तमी पर पुष्य नक्षत्र में नामांकन करने का महत्व और क्या है इस दिन की खासियत
आज है मासिक दुर्गा अष्टमी, जानिए माता दुर्गा की पूजा का महत्व और पूजन विधि
जानें कब पड़ रहा है साल का पहला सोम प्रदोष व्रत, इस तरह करें महादेव का पूजन
Next Article
जानें कब पड़ रहा है साल का पहला सोम प्रदोष व्रत, इस तरह करें महादेव का पूजन
Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com
;