बांदा बाल यौन शोषण मामला : AIIMS के 5 विशेषज्ञ डॉक्टरों की टीम दिल्ली से पहुंची चित्रकूट, बच्चों का होगा मेडिकल

बांदा बाल यौन शोषण मामले में ऑल इंडिया इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंस (AIIMS) के पांच विशेषज्ञ डॉक्टरों की टीम दिल्ली से सीबीआई टीम के साथ चित्रकूट पहुंची है. डॉक्टरों की विशेष टीम पीड़ित बच्चों का मेडिकल करेगी.

बांदा बाल यौन शोषण मामला : AIIMS के 5 विशेषज्ञ डॉक्टरों की टीम दिल्ली से पहुंची चित्रकूट, बच्चों का होगा मेडिकल

प्रतीकात्मक तस्वीर

नई दिल्ली:

बांदा बाल यौन शोषण मामले में ऑल इंडिया इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंस (AIIMS) के पांच विशेषज्ञ डॉक्टरों की टीम दिल्ली से सीबीआई टीम के साथ चित्रकूट पहुंची है. डॉक्टरों की विशेष टीम पीड़ित बच्चों का मेडिकल करेगी. डॉक्टरों की टीम में दो महिला और तीन पुरुष डॉक्टर शामिल हैं. गुरुवार को 25 से ज्यादा बच्चों का मेडिकल होगा. दो दिन तक लगातार बच्चों का मेडिकल होगा. मेडिकल के दौरान अहम सबूत भी इकट्ठे किए जाएंगे.

यौन शोषण के आरोपी जूनियर इंजीनियर राम भवन की विदेशियों के साथ बातचीत करने के लिए सोशल मीडिया पर ग्रुप मिला है. इस ग्रुप की बातचीत में कई अहम बातें सामने आई हैं. आरोपी राम भवन का तीन दिन पहले दिल्ली के एम्स में मेडिकल टेस्ट हुआ था. मेडिकल टेस्ट आठ डॉक्टरों की टीम ने किया था. फिलहाल, मेडिकल टेस्ट की रिपोर्ट आना अभी बाकी है. 


गौरतलब है कि उत्तर प्रदेश में सरकारी जूनियर इंजीनियर द्वारा बच्चों के यौन शोषण मामले में खुलासा हुआ है, आरोपी इंजीनियर ने 50 नहीं बल्कि 70 से ज्यादा बच्चों के साथ दुराचार किया है. जानकारी के मुताबिक CBI की अब तक जांच के अनुसार अब तक 70 से ज्यादा बच्चों का यौन शोषण किया गया.चिंता की बात ये है कि जिन बच्चों के साथ यौन शोषण किया गया है कि उनमें HIV होने का शक है. पीड़ित बच्चों में 4 साल से लेकर 22 साल तक के युवक शामिल हैं. पीड़ित लोगों में राम भवन के अपने रिश्तेदारों के बच्चे भी शामिल हैं. 

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


बताते चलें कि पिछले साल नवंबर महीने में उत्तर प्रदेश एक जूनियर इंजीनियर को गिरफ्तार किया था. जो बच्चों के साथ यौन शोषण करता था और कथित तौर पर उसकी वीडियो और फोटोग्राफी भी किया करता था. गिरफ्तारी के दौरान इंजीनियर के पास से आठ मोबाइल फोन, करीब आठ लाख रुपये की नकदी, सैक्‍स टॉयज, लैपटॉप और बड़ी मात्रा में चाइल्‍ड सेक्‍स एब्‍यूस मटेरियल बरामद किए गए थे. आरोपी ने जांचकर्ताओं को बताया है कि इस करतूत को लेकर  मोबाइल फोन या इलेक्‍ट्रॉनिक गेजेट्स का लालच देकर बच्‍चों का मुंह बंद रखता था. उसने करीब 10 साल तक बच्चों का शोषण किया.