Bihar: बढ़ती महंगाई को लेकर तेजस्‍वी यादव का 'प्रहार', 'डबल इंजन सरकार ने भीष्‍म प्रतिज्ञा ली है कि.... '

बिहार विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष तेजस्‍वी ने कहा 'एनडीए सरकार के सौजन्य से देश में महंगाई एक भीषण समस्या बन चुकी है. '

Bihar: बढ़ती महंगाई को लेकर तेजस्‍वी यादव का 'प्रहार', 'डबल इंजन सरकार ने भीष्‍म प्रतिज्ञा ली है कि.... '

तेजस्‍वी यादव ने कहा, 'डबल इंजन सरकार' की नीतियों की मार ने निम्न व मध्यम वर्ग की कमर तोड़ दी है

पटना :

Bihar: बिहार (Bihar) के राष्‍ट्रीय जनता दल नेता तेजस्‍वी यादव (Tejashwi Yadav) ने बढ़ती महंगाई को लेकर केंद्र सरकार पर तंज कसाने है. उन्‍होंने राज्‍य की नीतीश सरकार को भी आड़े हाथ लेते हुए कहा कि शायद डबल इंजन सरकार (बिहार और केंद्र सरकार ) ने भीष्म प्रतिज्ञा ली है कि खाद्य पदार्थों, पेट्रोल-डीजल और गैस सिलेंडर की क़ीमतें बढ़ाकर आम लोगों को भूखा मार देंगे. बिहार विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष तेजस्‍वी ने ट्वीट में लिखा, 'एनडीए सरकार के सौजन्य से देश में महंगाई एक भीषण समस्या बन चुकी है. डबल इंजन सरकार ने भीष्म प्रतिज्ञा ली है कि खाद्य पदार्थों, पेट्रोल-डीजल और गैस सिलेंडर की क़ीमतें बढ़ाकर आम लोगों को भूखा मार देंगें. महंगाई को डायन बताने वाले आज इसे महबूबा समझ इससे चिपके बैठे हैं. सरकार में बैठे लोग महंगाई रूपी प्रियतमा को दूर कर ही नहीं पा रहे हैं.'

Bihar: स्‍कूल तो खुल गए लेकिन कोविड प्रोटोकॉल को लेकर गंभीरता नहीं, बिना मास्‍क के दिखे कई बच्‍चे...

RJD के इस युवा नेता ने कहा कि केंद्र और बिहार की डबल इंजन सरकार की पूंजीपरस्त जनविरोधी नीतियों की मार ने निम्न व मध्यम वर्ग की कमर तोड़ दी है. खाद्य पदार्थों, खाद्य तेल के दाम तो आसमान छू ही रहे थे, खाना खरीदने के साथ साथ खाना पकाना भी अब महंगा हो गया है. पिछले 8 महीनों में रसोई गैस के दाम ₹190 रुपये तक बढ़ गए हैं. पिछले 2 हफ्तों में दो बार रसोई गैस के कीमत बढ़ाए गए. ऐसा प्रतीत होता है कि मोदी सरकार और उसके विभाग कमर कस कर बैठ चुके हैं गरीबों का जीना मुहाल कर के दम लेंगे.


फजीहत का कारण बना 'पीएम मैटीरियल' संबंधी बयान, JDU के नेताओं से खफा हैं CM नीतीश कुमार..

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


तेजस्‍वी ने कहा कि केंद्र सरकार ने उज्ज्वला योजना के खूब कसीदे पढ़े, खूब महिमामंडन किया, भावुकता का चोगा पहन-पहनकर स्वघोषित निर्धनता उन्मूलन के पुरोधा होने का दावा किए लेकिन क्या आज इस सरकार में हिम्मत है कि गांव-गांव जाकर उज्ज्वला योजना की समीक्षा करेऔर देश को इसकी वास्तविकता बताए. आज गरीबों के घर में पड़े खाली LPG सिलेंडर मुंह चिढ़ा रहे हैं. 2014 में ₹384 प्रति रसोई गैस के सिलेंडर कंधे पर ढोकर प्रदर्शन करने वाले लोग आज प्रति सिलेंडर की क़ीमत ₹1000 करने के बाद भी सत्ता में बैठ चुप्पी साधे हुए हैं. चौतरफा महंगाई से गरीबों और मध्यम वर्ग की जेबों पर डाका पड़ ही रहा था, रसोई गैस की कीमतों ने अब पेट पर लात मार दी है. उन्‍होंने कहा कि महंगाई, बेरोजगारी और भुखमरी को लेकर सड़क से लेकर सदन तक हमारा संघर्ष जारी रहेगा. हम आम आदमी की लड़ाई लड़ते रहेंगे.