कभी टीवी चैनल में एंकरिंग करते थे, आज तालिबान के कारण सड़क किनारे 'स्ट्रीट फूड' बेच रहे हैं

जब से तालिबान ने अफगानिस्तान को अपने कब्ज़े में लिया है, तब से वहां के लोगों की स्थिति दयनीय हो गई है. तालिबनियों के कारण लोगों को कई परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है. एक समय था जब अफगानिस्तान बहुत ही ज़्यादा उन्नति कर रहा था, मगर अब वहां की स्थिति दयनीय हो गई है.

कभी टीवी चैनल में एंकरिंग करते थे, आज तालिबान के कारण सड़क किनारे 'स्ट्रीट फूड' बेच रहे हैं

जब से तालिबान ने अफगानिस्तान को अपने कब्ज़े में लिया है, तब से वहां के लोगों की स्थिति दयनीय हो गई है. तालिबनियों के कारण लोगों को कई परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है. एक समय था जब अफगानिस्तान बहुत ही ज़्यादा उन्नति कर रहा था, मगर अब वहां की स्थिति दयनीय हो गई है. महिलाओं को घर में रहने को कहा जा रहा है, लोगों के पास खाने को भोजन नहीं है, नौकरियां नहीं. ऐसे में लोग बहुत ही हताश दिख रहे हैं. एक तस्वीर सोशल मीडिया पर बहुत ही ज़्यादा वायरल हो रही है. तस्वीर में देखा जा सकता है कि कैसे एक पत्रकार को अपने परिवार का पेट पालने के लिए सड़क पर स्ट्रीट फूड बेचना पड़ रहा है. एक समय था, जब यही पत्रकार टीवी पर स्टार एंकर हुआ करता था.

देखें ट्वीट

KABIR HAQMAL नाम के ट्विटर यूज़र ने ट्वीट कर जानकारी दी है कि 'मूसा मोहम्मदी ने विभिन्न टीवी चैनलों में एक एंकर और रिपोर्टर के रूप में वर्षों तक काम किया और अब उनके पास अपने परिवार को खिलाने के लिए कोई आय नहीं है. और कुछ पैसे कमाने के लिए स्ट्रीट फूड बेच रहे हैं. गणतंत्र के पतन के बाद अफगानों को अभूतपूर्व गरीबी का सामना करना पड़ा.'

देखें ट्वीट

Nilofar Ayoubi नाम की अफगानी महिला ने एक ट्वीट कर लिखा है- अफगानिस्तान में एक स्टार पत्रकार की स्थिति ऐसी है. इतिहास फिर से दोहरा रहा है.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


वाकई में ऐसी खबरें झकझोर देती हैं. अफगानिस्तान में लोगों की स्थिति बहुत ही ज्यादा दयनीय है. मूसा मोहम्मदी की स्थिति देखने के बाद अंदाजा लगाया जा सकता है कि वहां के लोगों की स्थिति कितनी बुरी है. कभी अफगानिस्तान में पत्रकारिता करते थे, मगर आज अपने परिवार का पेट पालने के लिए मेहनत कर रहे है. इन पोस्ट्स पर कई प्रतिक्रियाएं भी देखने को मिली हैं. एक यूज़र ने लिखा है- परिवार के लिए इंसान क्या नहीं करता है. ईश्वर मूसा मोहम्मदी को हिम्मत दें.