अफ्रीका में कोविड के मामले 83 प्रतिशत बढ़े, WHO क्षेत्रीय निदेशक ने कहा- पिछली लहरों की तुलना में कम मौतें

डब्ल्यूएचओ अफ्रीका की निदेशक ने कहा कि दक्षिण अफ्रीका से साक्ष्य यह हैं कि पिछले सात दिनों में अस्पताल में भर्ती होने वाले लोगों की संख्या लगभग 70 प्रतिशत बढ़ी है. गहन देखभाल बिस्तर पर दर 7.5 प्रतिशत है.

अफ्रीका में कोविड के मामले 83 प्रतिशत बढ़े, WHO क्षेत्रीय निदेशक ने कहा- पिछली लहरों की तुलना में कम मौतें

उन्होंने कहा कि ऐसे ही रहा तो अफ्रीका अगस्त 2024 तक 70 प्रतिशत टीकाकरण का लक्ष्य हासिल नहीं कर सकता

जोहानिसबर्ग:

अफ्रीका में कोविड-19 के मामले पिछले एक हफ्ते में 83 फीसदी तक बढ़ जाने के बावजूद विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) के क्षेत्रीय कार्यालय के एक शीर्ष अधिकारी ने मंगलवार को कहा कि वह समूची स्थिति को लेकर “सावधानीपूर्वक आशावादी” बनी हुई हैं. डब्ल्यूएचओ अफ्रीका की निदेशक, मात्शिदिषो मोइती ने कहा कि दक्षिण अफ्रीका से साक्ष्य यह हैं कि पिछले सात दिनों में अस्पताल में भर्ती होने वाले लोगों की संख्या लगभग 70 प्रतिशत बढ़ी है. गहन देखभाल बिस्तर पर दर 7.5 प्रतिशत है. अस्पताल में भर्ती केवल 14 प्रतिशत रोगियों को पूरक ऑक्सीजन की आवश्यकता बताई गई है और मृत्यु के मामले भी कम हैं. पिछले 24 घंटों में कल केवल 11 लोगों की मौत की जानकारी सामने आई थी.

"नेशनल इमरजेंसी" : केरल में ओमिक्रॉन जांच केंद्र के अंदर के हालात

मोइती ने ऑनलाइन मीडिया ब्रीफिंग के दौरान कहा कि पिछले सप्ताह की तुलना में इस सप्ताह महाद्वीप पर मामलों में 83 प्रतिशत की वृद्धि हुई है. यह पिछले साल मई के बाद दर्ज की गई सबसे तेज उछाल है. हालांकि, हम सतर्क रूप से आशावादी बने हुए हैं, क्योंकि हम इस मौजूदा लहर के शुरुआती हफ्तों के दौरान पिछली लहरों की तुलना में कम मौतें देख रहे हैं. इस लहर के पहले तीन हफ्तों में सिर्फ 300 से अधिक मौतों की सूचना मिली है और यह पिछली लहर में दर्ज की गई संख्या का लगभग आधा है.

ओमिक्रॉन के चलते कोरोना टीकाकरण की रफ्तार तेज, भारत में 134 करोड़ से अधिक टीके लगाए गए

मोइती ने कहा कि नए ओमीक्रोन स्वरूप से हल्की बीमारी हो रही है. हालांकि, हर पांच दिनों में दोगुनी दर के रूप में रिकॉर्ड ऊंचाई पर पहुंचने वाले मामलों की संख्या के साथ हम अपनी सुरक्षा को कम करने का जोखिम नहीं उठा सकते हैं. हम पारंपरिक समारोहों और यात्रा वाले साल के अंत में छुट्टियों के मौसम में प्रवेश कर रहे हैं, अफ्रीका में टीका कवरेज अब भी निराशाजनक रूप से कम है. अफ्रीका में कम टीकाकरण दर के बारे में चिंता व्यक्त करते हुए उन्होंने कहा कि अगर चीजें इसी तरह जारी रहीं तो अफ्रीका अगस्त 2024 तक भी 70 प्रतिशत टीकाकरण कवरेज लक्ष्य तक भी नहीं पहुंच सकता है.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


ओमिक्रॉन को लेकर भारत को दूसरी लहर से सबक लेना चाहिए? क्या कहते हैं एक्सपर्ट्स?



(हेडलाइन के अलावा, इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है, यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)