'आपके पास बस सिद्धू हैं और हमारे पास सिर्फ...': इमरान खान के बयान पर मोदी सरकार के मंत्री की टिप्पणी

खान ने मंगलवार को कहा था कि उनकी सरकार को सत्ता में तीन साल के दौरान जिन 'अभूतपूर्व चुनौतियों' का सामना करना पड़ा उसके बावजूद, पाकिस्तान की आर्थिक स्थिति अभी भी क्षेत्र के कई देशों, विशेष रूप से भारत की तुलना में बेहतर रही.

'आपके पास बस सिद्धू हैं और हमारे पास सिर्फ...': इमरान खान के बयान पर मोदी सरकार के मंत्री की टिप्पणी

नई दिल्ली:

पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान के पाकिस्तान की आर्थिक स्थिति को भारत से बेहतर बताने वाली टिप्पणी पर तंज कसते हुए केंद्रीय इलेक्ट्रॉनिक्स और सूचना प्रौद्योगिकी राज्य मंत्री (MoS) राजीव चंद्रशेखर ने बुधवार को ट्वीट कर कहा, 'हां क्यों​कि आपके पास सिद्धू है, और हमारे पास सिर्फ तेजी से बढ़ती अर्थव्यवस्था, सबसे ज्यादा यूनिकॉर्न (यानी कि ऐसी कंपनियां जिनका टर्नओवर 100 करोड़ से ज्यादा हो) और एफडीआई हैं.' 

द एक्सप्रेस ट्रिब्यून की रिपोर्ट के अनुसार, खान ने मंगलवार को कहा था कि उनकी सरकार को सत्ता में तीन साल के दौरान जिन 'अभूतपूर्व चुनौतियों' का सामना करना पड़ा उसके बावजूद, पाकिस्तान की आर्थिक स्थिति अभी भी क्षेत्र के कई देशों, विशेष रूप से भारत की तुलना में बेहतर रही.

इस्लामाबाद में रावलपिंडी चैंबर ऑफ कॉमर्स एंड इंडस्ट्री (RCCI) द्वारा आयोजित 14वें इंटरनेशनल चैंबर्स समिट 2022 के उद्घाटन समारोह को संबोधित करते हुए खान ने कहा, 'पाकिस्तान अभी भी दुनिया की तुलना में सबसे सस्ते देशों में से एक है... विपक्ष हमें अक्षम बुलाता है, लेकिन सच्चाई यह है कि हमारी सरकार ने देश को सभी संकटों से बचाया है.'

'भ्रष्ट और बेईमान' व्यक्ति के रूप में इमरान का पर्दाफाश हुआ : नवाज शरीफ

पाकिस्तान के पीएम का यह बयान तब आया है जब देश में आम जनता बढ़ती महंगाई से परेशान है. पाकिस्तान इस समय वित्तीय चुनौतियों से घिर गया है क्योंकि देश का व्यापार घाटा बढ़ रहा है, मुद्रास्फीति बढ़ रही है और सरकार को आईएमएफ की कुछ मांगों को पूरा करने के लिए करों में वृद्धि के लिए मिनी बजट लाना पड़ा.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


इमरान खान के नेतृत्व वाली पाकिस्तान तहरीक-ए-इंसाफ (पीटीआई) सरकार की पाकिस्तान मुस्लिम लीग-नवाज (पीएमएल-एन), पाकिस्तान पीपुल्स पार्टी (पीपीपी) और पाकिस्तान के अन्य विपक्षी दल आलोचना कर रहे हैं और साथ ही कुछ नेताओं ने इमरान खान से इस्तीफे की भी मांग की है.