विज्ञापन
Story ProgressBack

इजरायल ने छेड़ी जंग तो मसीहा बना ये फूड ब्लॉगर, गाजा के बच्चों का ऐसे भर रहा पेट

हमादा की कहानी गाजा के हलचल भरे बाजारों और कैफे से शुरू होती है, जहां उन्होंने खाद्य ब्लॉगिंग का जुनून विकसित किया. उनकी ऑनलाइन उपस्थिति, जो शुरू में गाजा की समृद्ध पाक परंपराओं का जश्न मनाने के लिए समर्पित थी. हमादा के वीडियो में गर्म फ्लैटब्रेड से लेकर रसदार मुसाखान तक सब कुछ दिखाया गया है, जो गाजा के विविध व्यंजनों का सार दर्शाता है.

Read Time: 7 mins
इजरायल ने छेड़ी जंग तो मसीहा बना ये फूड ब्लॉगर, गाजा के बच्चों का ऐसे भर रहा पेट

इजराइल और हमास के बीच चल रहे युद्ध में गाजा में भुखमरी जैसे हालात है. यहां भोजना और पानी खत्म हो गया है. बच्चे दूध और पानी के लिए तड़प रहे हैं. लेकिन त्रासदी भरे हालात में यहां एक फूड ब्लॉगर लोगों के लिए मसीहा बनकर उभरा है.

हालिया इजरायली हवाई हमलों के बाद हवा बारूद की तीखी गंध से भरी हुई थी, क्योंकि हमादा शकौरा ने खान यूनिस के तबाह गज़ान शहर में एक टेबल लगाई थी. उसने अपनी टूटी हुई पैंट्री में जो भी सब्जी या मांस पाया उसे काटना शुरू कर दिया, ताकि उन बच्चों के लिए भोजन तैयार किया जा सके, जिनके साथ वह शरणार्थी शिविर में रहता था.

 कुछ इस तरह है हमादा की कहानी
हमादा की कहानी गाजा के हलचल भरे बाजारों और कैफे से शुरू होती है, जहां उन्होंने खाद्य ब्लॉगिंग का जुनून विकसित किया. उनकी ऑनलाइन उपस्थिति, जो शुरू में गाजा की समृद्ध पाक परंपराओं का जश्न मनाने के लिए समर्पित थी. हमादा के वीडियो में गर्म फ्लैटब्रेड से लेकर रसदार मुसाखान तक सब कुछ दिखाया गया है, जो गाजा के विविध व्यंजनों का सार दर्शाता है.

हमादा ने एनडीटीवी को बताया, "जब मैंने अपना ब्लॉग शुरू किया, तो यह हमारे व्यंजनों की सुंदरता और स्वाद को प्रदर्शित करने के बारे में था. मैं चाहता था कि दुनिया यह देखे कि गाजा के पास संघर्ष और कठिनाई के अलावा और भी बहुत कुछ है."

Latest and Breaking News on NDTV

हमादा बताते हैं, "गाजा पर आक्रामकता के कारण कई सामग्रियां और उपकरण बाजार में उपलब्ध नहीं हैं. यह उन कई व्यंजनों को पकाने में एक बड़ी बाधा थी जो मैं बनाना चाहता था."

सामग्री जुटाने की चुनौतियों ने हमादा को अपने व्यंजनों को रचनात्मक रूप से अपनाने के लिए मजबूर किया है. उनकी वर्तमान सामग्री में सहायता पैकेजों का उपयोग करके थोक में खाना पकाने का भोजन शामिल है, जिसमें अक्सर डिब्बाबंद भोजन शामिल होता है. सीमाओं के बावजूद, हमादा अपने द्वारा तैयार किए गए भोजन के पोषण मूल्य को बनाए रखने का प्रयास करता है.

 "भोजना पूरी तरह पौष्टिक नहीं, लेकिन..." 
वह मानते हैं, ''मैं जो खाना बनाता हूं, वह कई सामग्रियों की अनुपलब्धता के कारण पूरी तरह से पौष्टिक नहीं माना जाता है. लेकिन हम अपने बच्चों के स्वास्थ्य की रक्षा के लिए यथासंभव पौष्टिक सामग्री प्रदान करने का प्रयास करते हैं."

Latest and Breaking News on NDTV

सहायता स्तर बढ़ती जरूरतों को पूरा करने के लिए अपर्याप्त
हमादा के प्रयास ऐसे समय में आए हैं, जब गाजा भोजन और आवश्यक आपूर्ति की गंभीर कमी से जूझ रहा है. दक्षिणी गाजा पट्टी के कुछ हिस्सों में दैनिक "सैन्य गतिविधि के सामरिक विराम" की इजरायली सेना की घोषणा का उद्देश्य मानवीय सहायता के वितरण को सुविधाजनक बनाना है. हालांकि, विश्व खाद्य कार्यक्रम (डब्ल्यूएफपी) और विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) सहित अंतर्राष्ट्रीय सहायता संगठनों ने चेतावनी दी है कि मौजूदा सहायता स्तर बढ़ती जरूरतों को पूरा करने के लिए अपर्याप्त हैं.

हमादा कहते हैं, "कई क्षेत्रों में विस्थापित लोगों के शिविरों में भोजन वितरित किया जाता है, लेकिन मानवीय सहायता हाल ही में बेहद सीमित है. जब से इज़राइली रक्षा बल (आईडीएफ) ने रफ़ा क्रॉसिंग पर कब्ज़ा कर लिया है, हम केवल कभी-कभार ही कुछ सहायता प्राप्त कर सकते हैं या हमें उच्च कीमतों पर उपज खरीदनी पड़ती है."

8 हजार से अधिक बच्चों में कुपोषण
डब्ल्यूएचओ ने बताया है कि गाजा में पांच साल से कम उम्र के 8,000 से अधिक बच्चों का गंभीर कुपोषण के लिए इलाज किया गया है, संघर्ष शुरू होने के बाद से 32 लोगों की मौत कुपोषण के कारण हुई है. गाजा के बुनियादी ढांचे के नष्ट होने से स्थिति और खराब हो गई है, जिससे साफ पानी और रसोई गैस तक पहुंच कठिन हो गई है.

Latest and Breaking News on NDTV

हमादा के वीडियो में उन्हें सहायता पैकेजों का उपयोग करके विविध भोजन पकाते हुए दिखाया गया है. उनके वीडियो में अक्सर उन्हें लकड़ी या प्रोपेन गैस स्टोव पर खाना बनाते हुए दिखाया जाता है. 32 वर्षीय व्यक्ति बड़ी मात्रा में भोजन तैयार करने के लिए सामुदायिक रसोई और वॉटरमेलन रिलीफ जैसे स्थानीय संगठनों के साथ साझेदारी करता है. हमादा की पहल में स्थानीय स्वयंसेवक भी महत्वपूर्ण हैं, जो भोजन तैयार करने, पैकेजिंग और वितरण में सहायता करते हैं.

वह मानते हैं, ''यह मुश्किल है, हम चौबीसों घंटे इसी के बारे में सोचते हैं. आवश्यक टीकाकरण कैसे करें, स्वच्छ पानी कैसे उपलब्ध कराएं, ताकि मेरी पत्नी और बेटा स्वस्थ रहें. हम किसी तरह हवा को शुद्ध करने का भी प्रयास करते हैं क्योंकि यह बम कचरे और अन्य चीजों के कारण अत्यधिक प्रदूषित है."

वीडियो में हमादा केवल खाना बनाते हुए, बल्कि आपूर्ति और पीने के पानी की तलाश जैसे काम भी करते हुए दिखाया गया है. एक वीडियो में, उन्हें कुछ अन्य लोगों के साथ पानी के टैंकर पर सवार होकर खान यूनिस के खंडहरों में रहने वाले लोगों के लिए बहुत जरूरी पानी लाते हुए देखा जा सकता है.

Latest and Breaking News on NDTV

पानी के लिए संघर्ष 
वह कहते हैं, "खान यूनिस से भागने के बाद से, हमें पानी की गंभीर कमी का सामना करना पड़ा. इसलिए हमने उन सभी परिवारों के बारे में सोचना शुरू कर दिया जो पीने के पानी के लिए संघर्ष कर रहे थे. हमने एक पानी का ट्रक मंगवाया, और फिर परिवारों को पीने का पानी वितरित किया. मैं कोशिश करता हूं अपना सर्वश्रेष्ठ करें लेकिन मुझे डर है कि मेरा सर्वश्रेष्ठ पर्याप्त नहीं है."

Latest and Breaking News on NDTV

विषम परिस्थितियों के बावजूद, हमादा अपने मिशन के प्रति प्रतिबद्ध है. उनकी फूड ब्लॉगिंग, जो कभी एक व्यक्तिगत जुनून परियोजना के रूप में काम करती थी, कई लोगों के लिए आशा की किरण बन गई है.

"हम अभी भी जीवित हैं..."
वह बताते हैं, ''मैं दुनिया को संदेश देने के लिए वास्तविकता को प्रभावशाली तरीके से व्यक्त करता हूं. मेरे लिए यह सामग्री मेरे लोगों के सामूहिक लचीलेपन में योगदान देने का मेरा तरीका है, दुनिया को यह याद दिलाने का एक तरीका है कि हम अभी भी गाजा में हैं. हम अभी भी जीवित हैं. इसलिए गाजा के बारे में बात करते रहें."

Latest and Breaking News on NDTV

हमादा की ऑनलाइन उपस्थिति ने न केवल जागरूकता बढ़ाई है, बल्कि अंतरराष्ट्रीय समर्थन भी हासिल किया है. उनके अनुयायी उनके उद्देश्य के इर्द-गिर्द एकजुट हुए हैं, उनकी सामग्री को व्यापक रूप से साझा कर रहे हैं और उनके प्रयासों को बनाए रखने के लिए वित्तीय योगदान दे रहे हैं. उनके वीडियो, जो गाजा के मानवीय संकट के संदर्भ में परिचित इंटरनेट पर सोशल रुझानों को प्रस्तुत करते हैं, दुनिया भर के दर्शकों को पसंद आए हैं. 

Latest and Breaking News on NDTV

खाना खिलाने में सहायता के मिली मदद
वह कहते हैं, "कई समुदायों और लोगों ने मेरी सामग्री को साझा करके और इसे ऑनलाइन फैलाकर जो मैंने प्रस्तुत किया उसका समर्थन किया. वे संदेश और टिप्पणी अनुभाग के माध्यम से बेहद दयालु शब्द भी भेजते रहते हैं. इसके अलावा, उनमें से कई ने बच्चों को खाना खिलाने में सहायता के लिए धन दान किया है."

आगे देखते हुए, हमादा एक ऐसे समय का सपना देखता है जब गाजा की खाद्य संस्कृति एक बार फिर से फल-फूल सकती है. मौजूदा तबाही के बावजूद, उन्हें उम्मीद है कि यह क्षेत्र अपनी पाक विरासत का पुनर्निर्माण और पुनः दावा कर सकता है.

"गाजा पर आक्रमण ने हमसे वह छीन लिया"
वह दर्शाते हैं, ''गाजा में खाद्य संस्कृति महान विकास और दुनिया के लिए खुलेपन में थी. हमारे पास अपने अनूठे और स्वादिष्ट व्यंजनों के अलावा बहुत सारे व्यंजनों के रेस्तरां थे. गाजा पर आक्रमण ने हमसे वह छीन लिया. हमें उम्मीद है कि जब यह चल रहा युद्ध समाप्त हो जाएगा, तो हम जो नष्ट हो गए थे उन्हें फिर से बनाने और साझा करके इसे विकसित करने में सक्षम होंगे."

ये भी पढ़ें:- 
हज यात्रा के दौरान हो जाए मौत तो वापस नहीं भेजा जाता शव, जानें सऊदी में क्यों है ये नियम

NDTV.in पर ताज़ातरीन ख़बरों को ट्रैक करें, व देश के कोने-कोने से और दुनियाभर से न्यूज़ अपडेट पाएं

फॉलो करे:
डार्क मोड/लाइट मोड पर जाएं
Our Offerings: NDTV
  • मध्य प्रदेश
  • राजस्थान
  • इंडिया
  • मराठी
  • 24X7
Choose Your Destination
Previous Article
हज यात्रा के दौरान हो जाए मौत तो वापस नहीं भेजा जाता शव, जानें सऊदी में क्यों है ये नियम
इजरायल ने छेड़ी जंग तो मसीहा बना ये फूड ब्लॉगर, गाजा के बच्चों का ऐसे भर रहा पेट
इमरान खान जितने जूते शायद ही किसी और नेता ने चाटे होंगे : पाकिस्तान के रक्षा मंत्री ख्वाजा आसिफ
Next Article
इमरान खान जितने जूते शायद ही किसी और नेता ने चाटे होंगे : पाकिस्तान के रक्षा मंत्री ख्वाजा आसिफ
Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com
;