दुनिया की सबसे बड़ी iPhone फैक्ट्री Foxconn में Covid नियम हुए ढ़ीले...मजदूरों ने किया था आंदोलन

फॉक्सकॉन (Foxconn) की आईफोन फैक्ट्री (iPhone Factory) में नवंबर के मध्य में मजदूरों ने सैलरी और काम के हालातों को लेकर हिंसक प्रदर्शन किए थे. सैकड़ों ने रैलियां निकाली थीं और कुछ की दंगा निरोधी पुलिस और स्वास्थ्य कर्मचारियों  के साथ झड़प भी हुई थी. 

दुनिया की सबसे बड़ी iPhone फैक्ट्री Foxconn में Covid नियम हुए ढ़ीले...मजदूरों ने किया था आंदोलन

फॉक्सकॉन ने घोषणा की है कि वो क्लोज़ लूप सिस्टम को खत्म कर रही है.  

ताइवान की टेक कंपनी फॉक्सकॉन (Foxconn) ने चीन में मौजूद अपनी दुनिया की सबसे बड़ी आईफोन फैक्ट्री (iPnone Factory) में कई महीनों से जारी "क्लोज़ लूप" सिस्टम को खत्म कर दिया है. चीन की तरफ से देशभर में, जीरो-कोविड (Zero-Covid) रेगुलेशन को ढीला करने करने के बाद यह फैसला लिया गया है.  इससे पहले हफ्ते में चीनी सरकार ने अधिकतर जगह से मास टेस्टिंग खत्म की थी और सामान्य जीवन बनाने के लिए लॉकडाउन की ज़रूरत खत्म किया था. इसके बाद चीन में तीन साल के प्रतिबंधों में कमी आई है जिसके कारण देश की अर्थव्यवस्था और जनता को काफी नुकसान उठाना पड़ा था.  

कोविड के कुछ मामले मिलने के बाद केंद्रीय झेंगझोऊ में स्थित फॉक्सकॉन फैक्ट्री में पिछले 56 दिन से लॉकडाउन जारी था. इसमें मजदूरों को केवल शटल बस में उनकी डॉरमेट्री से फैक्ट्री में काम करने की जगह तक जाने की अनुमति थी. 

नवंबर के मध्य में मजदूरों ने सैलरी और काम के हालातों को लेकर हिंसक प्रदर्शन किए थे. सैकड़ों ने रैलियां निकाली थीं और कुछ की दंगा निरोधी पुलिस और स्वास्थ्य कर्मचारियों  के साथ झड़प भी हुई थी. 

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

गुरुवार को कंपनी ने कहा कि वो क्लोज़ लूप सिस्टम को खत्म कर रही है.  

Featured Video Of The Day

गुडगांव में घरेलू सहायिका से दरिदंगी, शरीर पर मिले चोट के निशान