विज्ञापन
Story ProgressBack
This Article is From Mar 20, 2023

अदालत ने आगरा पुलिस से अग्निपथ अभ्यर्थी को फर्जी मुठभेड़ में मारने के आरोपों की जांच करने को कहा

पीड़ित की मां के वकील भरतेंद्र सिंह ने बताया, "आगरा में मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट की अदालत ने आगरा पुलिस को शिकायत दर्ज करने का निर्देश दिया है. इसने आगरा पुलिस आयुक्त को इस संबंध में एक स्वतंत्र जांच कराने का भी निर्देश दिया है."

Read Time: 3 mins
अदालत ने आगरा पुलिस से अग्निपथ अभ्यर्थी को फर्जी मुठभेड़ में मारने के आरोपों की जांच करने को कहा
अदालत का आदेश मृतक की मां ममता देवी की याचिका पर आया है. (प्रतीकात्मक)
आगरा (उप्र):

उत्तर प्रदेश में आगरा की एक अदालत ने शहर पुलिस को 20 वर्षीय एक युवक की मां के इन आरोपों की जांच करने का निर्देश दिया है कि अग्निपथ भर्ती परीक्षा की तैयारी के लिए यहां आ रहे उनके बेटे की फर्जी मुठभेड़ में हत्या कर दी गई है. उनके वकील ने रविवार को यह जानकारी दी. पीड़ित की मां के वकील भरतेंद्र सिंह ने बताया, "आगरा में मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट की अदालत ने आगरा पुलिस को शिकायत दर्ज करने का निर्देश दिया है. इसने आगरा पुलिस आयुक्त को इस संबंध में एक स्वतंत्र जांच कराने का भी निर्देश दिया है."

इस बारे में पूछे जाने पर पुलिस उपायुक्त (पश्चिम) सोनम कुमार ने कहा, 'अभी प्राथमिकी दर्ज नहीं की गई है. प्रथम दृष्टया यह फर्जी मुठभेड़ नहीं है. हम इस मामले में कानूनी सलाह लेंगे और उसके अनुसार कार्रवाई करेंगे.'

सिंह ने बताया कि मृतक आकाश गुर्जर मध्य प्रदेश के मुरैना जिले के गढ़ौरा का रहने वाला था. वकील के मुताबिक, वह अग्निपथ भर्ती की तैयारी कर रहा था और 26 सितंबर 2022 की शाम को, वह अपने भाई विष्णु के साथ रहने के लिए घर से निकला था, जो आगरा में केंद्रीय आयुध डिपो में काम करता है., लेकिन 27 सितंबर को आगरा की इरादतनगर पुलिस ने परिजनों को सूचना दी कि वह मुठभेड़ में मारा गया है. 

उन्होंने आरोप लगाया, “पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट से पता चलता है कि आकाश को करीब से गोली मारी गई थी. प्राथमिकी में पुलिस ने दावा किया कि उसने ट्रैक्टर छोड़ दिया और उन पर गोलीबारी करता हुआ भागने लगा. लेकिन, घटनास्थल की तस्वीरों में साफ दिख रहा है कि ट्रैक्टर चालक की सीट के दोनों ओर खून लगा हुआ है.”

उन्होंने कहा कि अदालत का आदेश मृतक की मां ममता देवी की याचिका पर हाल में आया है. 

ममता देवी ने दावा किया कि उनका बेटा बस से आगरा आ रहा था और जब वह शौचालय जाने के लिए उतरा, तो उसे पुलिसकर्मी ने अगवा कर लिया और गोली मार दी.

पुलिस ने दावा किया था कि आकाश अवैध रेत खनन में शामिल था. इस संबंध में आगरा के इरादतनगर थाने में दो प्राथमिकी भी दर्ज की गई थी. 

ये भी पढ़ें :

* सोनभद्र में हड़ताल पर बैठे यूपीपीसीएल के अधिकारी व कर्मचारियों पर एफआईआर दर्ज
* सपा की दो-दिवसीय राष्ट्रीय कार्यकारिणी बैठक : लोकसभा चुनाव में UP से 50 सीट जीतने का लक्ष्य
* UP: हड़ताल कर रहे बिजली विभाग के 1,332 संविदाकर्मियों को सरकार ने किया बर्खास्त

(इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)

NDTV.in पर ताज़ातरीन ख़बरों को ट्रैक करें, व देश के कोने-कोने से और दुनियाभर से न्यूज़ अपडेट पाएं

फॉलो करे:
डार्क मोड/लाइट मोड पर जाएं
Our Offerings: NDTV
  • मध्य प्रदेश
  • राजस्थान
  • इंडिया
  • मराठी
  • 24X7
Choose Your Destination
Previous Article
संसद में अचानक क्या देखकर दौड़ पड़े अखिलेश यादव? सपा मुखिया की प्रशंसा करते नहीं थक रहे X यूजर्स
अदालत ने आगरा पुलिस से अग्निपथ अभ्यर्थी को फर्जी मुठभेड़ में मारने के आरोपों की जांच करने को कहा
फर्जी गिरफ्तारी के लिए रायबरेली एसपी के खिलाफ इलाहाबाद हाई कोर्ट ने दिए जांच के आदेश
Next Article
फर्जी गिरफ्तारी के लिए रायबरेली एसपी के खिलाफ इलाहाबाद हाई कोर्ट ने दिए जांच के आदेश
Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com
;