'हमने कभी नहीं कहा' : ओवैसी की पार्टी AIMIM ने सपा के साथ गठबंधन से किया इनकार

साल 2017 के विधानसभा चुनाव में AIMIM ने 38 सीटों पर अपने उम्मीदवार उतारे थे, लेकिन उनकी पार्टी एक भी सीट पर जीतने में कामयाब नहीं हो पाई थी.

'हमने कभी नहीं कहा' : ओवैसी की पार्टी AIMIM ने सपा के साथ गठबंधन से किया इनकार

AIMIM प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी.

लखनऊ:

उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव के लिए एआईएमआईएम ने समाजवादी पार्टी के साथ गठबंधन की खबरों का खंडन कर दिया है. AIMIM के यूपी अध्यक्ष शौकत अली ने न्यूज एजेंसी एएनआई से कहा, 'हमने कभी नहीं कहा कि समाजवादी पार्टी अगर सत्ता में आती है और अखिलेश यादव मुस्लिम नेता को डिप्टी सीएम बनाते हैं तो उनके साथ गठबंधन करेंगे. हम स्पष्ट रूप से इन खबरों का खंडन करते हैं क्योंकि ना तो मैंने और ना ही AIMIM प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी ने कभी ऐसा बयान नहीं दिया.'

उन्होंने कहा, 'हमने कहा था कि समाजवादी पार्टी को पिछले चुनावों में 20 फीसदी मुस्लिम वोट मिले हैं और वह सत्ता में आई, लेकिन उन्होंने किसी मुस्लिम को उपमुख्यमंत्री नहीं बनाया.'

यूपी की सियासत में इंट्री से पहले ही बिहार की वीआईपी योगी सरकार के निशाने पर आई

असदुद्दीन ओवैसी ने शनिवार को कथित तौर पर कहा था कि अगर सपा प्रमुख अखिलेश यादव उत्तर प्रदेश में किसी मुस्लिम विधायक को उपमुख्यमंत्री बनाने के लिए सहमत हैं तो वह पार्टी के साथ गठबंधन करने के लिए तैयार हैं.

बता दें, ओवैसी ने ऐलान किया था कि अगले साल राज्य में होने वाले विधानसभा चुनाव में उनकी पार्टी AIMIM 100 सीटों पर चुनाव लड़ेगी. वर्तमान में, 110 विधानसभा क्षेत्र ऐसे हैं जहां मुस्लिम मतदाता लगभग 30-39 प्रतिशत हैं. 44 सीटों पर, यह बढ़कर 40-49 प्रतिशत हो जाता है, जबकि 11 सीटों पर लगभग 50-65 प्रतिशत मुस्लिम मतदाता हैं.

अयोध्या: बीएसपी का ऐलान, बीजेपी नींव पूरी नहीं कर सकी, मायावती सरकार राम मंदिर पूरा करेगी

लखनऊ जाकर ओवैसी ने कुछ छोटे दलों के साथ बातचीत भी की थी, उनकी पार्टी 'भागीदारी संकल्प मोर्चा' का भी हिस्सा है. वह ओम प्रकाश राजभर की सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी, शिवपाल यादव की प्रगतिशील समाजवादी पार्टी, केशव देव मौर्या के महान दल और कृष्णा पटेल के अपना दल के साथ भी संपर्क में हैं. 

साल 2017 के विधानसभा चुनाव में AIMIM ने 38 सीटों पर अपने उम्मीदवार उतारे थे, लेकिन उनकी पार्टी एक भी सीट पर जीतने में कामयाब नहीं हो पाई थी. 2019 के लोकसभा चुनाव में पार्टी ने यूपी में चुनाव नहीं लड़ने का फैसला किया था, लेकिन ओवैसी ने भाजपा के खिलाफ प्रचार किया था.

'हमें अपनाना या न अपनाना अवाम का हक' : UP की चुनावी हलचल के बीच देशभर में चुनाव लड़ने की तैयारी में ओवैसी!


साल 2017 के विधानसभा चुनाव में भाजपा को 312 सीटों के साथ स्पष्ट बहुमत मिला था. समाजवादी पार्टी को 47 सीटें और बसपा को 19 सीटों पर जीत मिली थी. जबकि कांग्रेस अपने खाते में केवल सात सीटें ही कर पाईं. 

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


देस की बात : यूपी में विधानसभा चुनाव की लहर, छोटे दल भी तैयारी में जुटे