e-Passport : अब आपके पासपोर्ट पर लगेगी इलेक्ट्रॉनिक चिप, मिलेंगे ई-पासपोर्ट, जानिए कैसे करेगा काम

भारत सरकार अपने नागरिकों के लिए एक पूरी नई पासपोर्ट प्रणाली शुरू करने के लिए तैयार है. बायोमेट्रिक पासपोर्ट चिप इनेबल्ड पासपोर्ट होंगे. इस पासपोर्ट पर लोगों को बायोमेट्रिक डाटा दर्ज होगा.

e-Passport : अब आपके पासपोर्ट पर लगेगी इलेक्ट्रॉनिक चिप, मिलेंगे ई-पासपोर्ट, जानिए कैसे करेगा काम

e-Passport जारी करने की तैयारी में सरकार. (प्रतीकात्मक तस्वीर)

नई दिल्ली:

भारत जल्द ही ई-पासपोर्ट (e-passport) जारी करने जा रहा है जो रेडियो-फ्रीक्वेंसी आइडेंटिफिकेशन (RFID) और बायोमेट्रिक्स का उपयोग करेगा. विदेश मंत्रालय के सचिव, संजय भट्टाचार्य ने पिछले हफ्ते ट्वीट कर इस बात की जानकारी दी थी. उन्होंने ट्विटर पर बताया कि नया ई-पासपोर्ट बायोमेट्रिक डाटा सुरक्षित करेगा और अंतर्राष्ट्रीय नागरिक उड्डयन संगठन के मानकों के अनुरूप भी होगा. सरकार का दावा है कि ई-पासपोर्ट सेवा को शुरू कर भारत इस तरह की पासपोर्ट सेवा देने वाले चुनिंदा देशों की सूची में शामिल हो जाएगा. 

क्या होगा ई-पासपोर्ट में खास, कैसे करेगा काम

भारत सरकार अपने नागरिकों के लिए एक पूरी नई पासपोर्ट प्रणाली शुरू करने के लिए तैयार है. ये बायोमीट्रिक पासपोर्ट चिप इनेबल्ड पासपोर्ट होंगे. इस पासपोर्ट पर लोगों को बायोमेट्रिक डाटा दर्ज करना होगा. विदेश मंत्रालय के अनुसार, सरकार चिप- इनेबल्ड ई-पासपोर्ट लॉन्च करेगी जो बायोमेट्रिक डाटा से सिक्योर्ड होंगे. नए ई-पासपोर्ट यात्रियों को दुनिया भर में इमिग्रेशन पोस्ट के माध्यम से आसानी से स्थानांतरित करने में मदद करेंगे. ये पासपोर्ट किसी भी तरह के फर्जीवाड़े को रोकने में सक्षम होगा. अगर कोई पासपोर्ट में चिप से छेड़छाड़ करने की कोशिश करेगा तो सिस्टम इसका पता लगा लेगा. एक बार पता चला तो एयरपोर्ट पर पासपोर्ट का वेरिफिकेशन फेल हो जाएगा.

How To Apply for Passport : अब तक पासपोर्ट नहीं बनवाया है तो जान लें अप्लाई करने का आसान तरीका

अच्छी खबर ये है कि भारत पहले ही लगभग 20 हजार आधिकारिक और डिप्लोमेटिक ई-पासपोर्ट जारी कर चुका है, जिसमें एक इलेक्ट्रॉनिक माइक्रोप्रोसेसर चिप लगी हुई है. फिलहाल ये पायलट प्रोजेक्ट का हिस्सा है. अभी तक भारतीय नागरिकों को प्रिंटेड बुकलेट पासपोर्ट जारी किया जाता रहा है.

ई-पासपोर्ट के फायदे 

  • ई-पासपोर्ट बायोमेट्रिक डेटा से सुरक्षित होगा.
  • ये पासपोर्ट सुरक्षा के मद्देनजर भी पहले से ज्यादा बेहतर होगा. 
  •  ई-पासपोर्ट अंतरराष्ट्रीय नागरिक उड्डयन संगठन (IACO) के मानकों के अनुरूप होगा.
  •  ई-पासपोर्ट पर चिप रेडियो-फ्रीक्वेंसी आइडेंटिफिकेशन (RFID) के जरिए अनऑथराइज्ड डाटा को रेस्ट्रिक्ट करेगा.
  •  ई-पासपोर्ट आइडेंटिटी चोरी और जालसाजी को भी रोकने में मदद करेगी. 

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


पासपोर्ट रैंकिंग की बात करें तो भारत 2022 में सबसे शक्तिशाली पासपोर्ट की सूची में 83वें स्थान पर है. भारत पिछले 90वें स्थान से अपनी रैंकिंग में सुधार करने में कामयाब रहा है, जबकि जापान और सिंगापुर इस लिस्ट में टॉप पर हैं.