'Sahitya Academi Award'

- 20 न्यूज़ रिजल्ट्स
  • India | भाषा |बुधवार मई 11, 2022 10:36 AM IST
    राशिद बनर्जी ने कहा, '' मैं मुख्यमंत्री को साहित्य पुरस्कार देने के कदम से अपमानित महसूस कर रही हूं. यह एक बुरी मिसाल कायम करेगा."
  • Literature | Reported by: भाषा, Edited by: शहादत |रविवार फ़रवरी 9, 2020 01:56 PM IST
    गिरिराज का जन्म आठ जुलाई 1937 को उत्तर प्रदेश के मुजफ्फररनगर में हुआ था. उनके पिता ज़मींदार थे. गिरिराज ने कम उम्र में ही घर छोड़ दिया और स्वतंत्र लेखन किया. वह जुलाई 1966 से 1975 तक कानपुर विश्वविद्यालय में सहायक और उपकुलसचिव के पद पर सेवारत रहे तथा दिसंबर 1975 से 1983 तक आईआईटी कानपुर में कुलसचिव पद की जिम्मेदारी संभाली. राष्ट्रपति द्वारा 23 मार्च 2007 में साहित्य और शिक्षा के लिए गिरिराज किशोर को पद्मश्री पुरस्कार से विभूषित किया गया.
  • India | Reported by: भाषा |गुरुवार फ़रवरी 23, 2017 05:37 AM IST
    भारतीय भाषाओं के 24 प्रतिष्ठित लेखकों को बुधवार को साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया. साहित्य अकादमी पुरस्कार वार्षिक ‘फेस्टीवल ऑफ लेटर्स’ में प्रदान किए गए. विजेताओं को उनकी उल्लेखनीय साहित्यिक कृतियों के लिए एक-एक लाख रुपये का नकद पुरस्कार दिया गया.
  • Literature | Edited by: Sumit Kumar Rai |मंगलवार फ़रवरी 21, 2017 11:49 PM IST
    तमिल, हिन्दी और संस्कृत के विद्वान और लेखक पी. जयरामन सहित 22 भाषाओं के अनुवादकों को वर्ष 2016 का 'साहित्य अकादमी अनुवाद पुरस्कार' दिया जायेगा. अकादमी के सचिव के. श्रीनिवासन राव ने बताया कि अकादमी के अध्यक्ष प्रो. विश्वनाथ प्रसाद तिवारी की अध्यक्षता में हुई कार्यकारी मंडल की बैठक में 22 भारतीय भाषाओं के अनुवादकों को वर्ष 2016 का 'साहित्य अकादमी अनुवाद पुरस्कार' दिया जायेगा.
  • Literature | Written by: Sumit Kumar Rai |गुरुवार दिसम्बर 29, 2016 11:38 AM IST
    उर्दू में लिखी अपनी किताब के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार पाने वाले इलाहाबाद के 69 वर्षीय निजाम सिद्दीकी साहित्य जगत के लिए एक जाना-माना नाम हैं. उनको इससे पहले 2013 में साहित्य अकादमी का 'ट्रांसलेशन अवॉर्ड' मिल चुका है. निजाम सिद्दीकी ने बताया कि वो उर्दू के अलावा हिन्दी, अरबी, फ्रेंच, इंग्लिश और फारसी में भी किताबें लिख चुके हैं.
  • India | Edited by: Bhasha |शनिवार जनवरी 23, 2016 02:54 AM IST
    साहित्य अकादमी ने कहा कि नयनतारा सहगल सहित कुछ लेखक अपने पुरस्कारों को वापस लेने के लिए तैयार हो गए हैं, जो उन्होंने देश में असहिष्णुता बढ़ने की बात कहकर लौटा दिए थे।
  • Ahmedabad | Edited by: Bhasha |बुधवार दिसम्बर 30, 2015 09:08 PM IST
    दिग्गज गुजराती साहित्यकार और इस साल के ज्ञानपीठ पुरस्कार विजेता रघुवीर चौधरी ने ‘देश में बढ़ती असहिष्णुता’ को लेकर कुछ अग्रणी लेखकों द्वारा पुरस्कार लौटाने को ‘अपरिपवक्व कदम’ करार दिया और कहा कि इन लेखकों का विरोध करने का तरीका ‘उचित नहीं था।’
  • India | Edited by: Bhasha |गुरुवार दिसम्बर 17, 2015 11:48 PM IST
    असहिष्णुता के नाम पर पुरस्कार लौटाने वालों के संदर्भ में साहित्य अकादेमी ने गुरुवार को कहा कि पुरस्कार संस्था की तरफ से दिया जाने वाला एक सम्मान है, जिसे वापस नहीं लिया जाता।
  • India | गुरुवार नवम्बर 19, 2015 02:23 AM IST
    देश में बढ़ती असहिष्णुता के खिलाफ कुछ साहित्यकारों के ‘पुरस्कार वापसी’ अभियान के तहत साहित्य अकादमी पुरस्कार लौटाने के बाद अकादमी के अध्यक्ष विश्वनाथ प्रसाद तिवारी ने बुधवार को कहा कि लेखकों को जो पुरस्कार दिया जाता है उसका अवश्य सम्मान करना चाहिए।
  • India | शुक्रवार अक्टूबर 23, 2015 07:08 PM IST
    जानेमाने लेखक विक्रम सेठ ने साहित्‍य अकादमी के उस बयान का स्‍वागत किया है जिसमें अकादमी ने लेखकों पर हो रहे हमलों और कथित रूप से देश में बढ़ती असहिष्‍णुता की निंदा की है।
और पढ़ें »
 
Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com