'Prime Time'

- 840 न्यूज़ रिजल्ट्स
  • Blogs | रवीश कुमार |शुक्रवार अगस्त 12, 2022 10:33 PM IST
    काश हमारे पास तकनीकि क्षमता होती तो हम गिन कर बताते कि मुफ्त रेवड़ियों पर कितने लेख छपे हैं, जो लिख रहे हैं उनका राजनीतिक संबंध किस दल से है, क्या वे बार-बार एक ही दल की किसी योजना और टॉपिक के समर्थन में लिखते रहते हैं।
  • Blogs | रवीश कुमार |शुक्रवार अगस्त 5, 2022 11:29 PM IST
    लोकतंत्र ख़त्म हो गया है, यह राहुल गांधी का सवाल नहीं है, पूरी दुनिया का है। गिन कर देखिए कि दुनिया भर में पिछले दस वर्षों में कितनी तेज़ी से लोकतंत्र कुचला गया है।
  • Blogs | रवीश कुमार |गुरुवार अगस्त 4, 2022 11:18 PM IST
    सोचिए कि जब हम देश को इतना प्यार करते हैं तो क्यों किसी को बार-बार देशभक्ति जगाने के लिए आगे आना पड़ता है।हमने सुना है और पाया भी है कि प्यार में तो रातों की नींद उड़ जाती है, लेकिन आपका इस देश से यह कैसा प्यार है कि देशभक्ति सो जाती है।
  • Blogs | रवीश कुमार |मंगलवार अगस्त 2, 2022 11:45 PM IST
    महंगाई मंदी और रुपये की कमज़ोरी जैसे मुद्दों पर कांग्रेस ध्वस्त हो गई थी लेकिन मोदी सरकार के मंत्री कितनी आसानी से कह रहे हैं मंदी नहीं है, महंगाई नहीं है, रुपया भी कमज़ोर नहीं है. ऐसा लगता है कि जिस जनता से कह रहे हैं, वह अब जनता ही नहीं है.
  • Blogs | रवीश कुमार |सोमवार अगस्त 1, 2022 11:58 PM IST
    2 फरवरी के प्राइम टाइम में हमने यह बयान दिखाया था और संकल्प से सिद्धि और अमृत महोत्सव के लक्ष्य की बात की थी. 2022 आने के पहले तक शोर होता था कि नया इंडिया बनेगा, अब ज़ोर है कि घर घर तिरंगा फहराना है.
  • Blogs | रवीश कुमार |शुक्रवार जुलाई 29, 2022 11:35 PM IST
    क्यों नमामि गंगे के सात साल बाद नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल को कहना पड़ता है कि गंगा में आधा पानी बिना साफ किए हुए गिर रहा है।
  • India | Written by: चंदन वत्स |शुक्रवार जुलाई 29, 2022 12:10 AM IST
    यह खबर कई दिनों से छप रही है लेकिन जब कुछ नहीं हुआ तो छात्र ट्विटर पर कैंपेन चलाने लगे. छात्रों ने ऑडियो के ज़रिए अपनी व्यथा भेजी.
  • Blogs | रवीश कुमार |गुरुवार जुलाई 28, 2022 11:38 PM IST
    ममता बनर्जी ने अभी तक शिक्षा मंत्री पार्थ चटर्जी को नहीं हटाया है और न ही पार्थ चटर्जी ने इस्तीफा दिया है। जिस तरह से नगद नोटों की बरामदगी हो रही है, पहली नज़र में निर्दोष होने का दावा बहुत कमज़ोर लगता है।
  • Blogs | रवीश कुमार |गुरुवार जुलाई 28, 2022 03:56 AM IST
    भारत में कोई कानून कितना प्रभावी है, यह उसके सदुपयोग से नहीं, बल्कि दुरुपयोग से तय होता है. कुछ कानूनों का दुरुपयोग इतना बढ़ जाता है कि उसे हटाकर नया कानून लाया जाता है, ताकि दुरुपयोग जारी रहे.
  • Blogs | रवीश कुमार |मंगलवार जुलाई 26, 2022 10:55 PM IST
    लोकतंत्र की लड़ाई हमेशा आम लोग लड़ते हैं. जान देने की हद तक लड़ जाते हैं. भारत के एक पड़ोसी देश म्यांमार में लोकतंत्र के चार कार्यकर्ताओं को फांसी दे दी गई है.
और पढ़ें »
'Prime Time' - more than 1000 वीडियो रिजल्ट्स
और देखें »
 
Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com