''धर्मनिरपेक्षता के बारे में बात करना बंद कीजिए'' : पंजाब के पूर्व सीएम अमरिंदर सिंह ने कांग्रेस पर बोला 'हमला'

महाराष्‍ट्र में शिवसेना के साथ गठबंधन और राज्‍य कांग्रेस प्रमुख नवजोत सिंह सिद्धू सहित बीजेपी व आरएसएस के कई नेताओं के शामिल होने का जिक्र करते हुए उन्‍होंने कहा कि कांग्रेस को धर्मनिरपेक्षता की बात करने का कोई अधिकार नहीं है.

''धर्मनिरपेक्षता के बारे में बात करना बंद कीजिए'' : पंजाब के पूर्व सीएम अमरिंदर सिंह ने कांग्रेस पर बोला 'हमला'

अमरिंदर ने कहा, कांग्रेस को धर्मनिरपेक्षता की बात करने का कोई अधिकार नहीं है

नई दिल्‍ली :

Punjab: भारतीय जनता पार्टी (BJP) और अकाली दल से अलग हुए ग्रुप सहित समान विचारधारा वाले दलों से गठबंधन का संकेत दे चुके पंजाब के पूर्व सीएम कैप्‍टन अमरिंदर सिंह (Amarinder Singh) ने गुरुवार को अपनी 40 साल से अधिक समय की पार्टी, कांग्रेस पर निशाना साधा. महाराष्‍ट्र में शिवसेना के साथ गठबंधन और राज्‍य कांग्रेस प्रमुख नवजोत सिंह सिद्धू (Navjot Singh Sidhu) सहित बीजेपी व इसके संरक्षक संगठन आरएसएस के कई नेताओं के शामिल होने का जिक्र करते हुए उन्‍होंने कहा कि कांग्रेस को धर्मनिरपेक्षता की बात करने का कोई अधिकार नहीं है. कैप्‍टन के हमले पंजाब में कांग्रेस के प्रभारी हरीश रावत पर भी केंद्रित रहे, जिन्‍होंने अमरिंदर के मंगलवार के (नई पार्टी के गठन के) ऐलान को हैरान करने वाला बताया था और कहा था कि ऐसा लगता है कि उन्‍होंने 'अपने अंदर के धर्मनिरपेक्ष अमरिंदर को खत्‍म कर लिया है.'

पूर्व सीएम के मीडिया सलाहकार रवीन ठकराल ने अमरिंदर के हवाले से ट्वीट किया, 'धर्मनिरपेक्षता के बारे में बात करना छोड़‍िए हरीश रावत जी. यह मत भूलिए कि कांग्रेस ने 14 साल बीजेपी में रहने के बाद नवजोत सिंह सिद्धू (@sherryontopp) को पार्टी में लिया और नाना पटोले व रेवनाथ रेड्डी यदि आरएसएस नहीं तो कहां से आए थे? और परगट सिंह चार साल तक अकाली दल के साथ थे. '

पंजाब में कांग्रेस के कद्दावर नेताओं में से एक अमरिंदर ने कहा कि पार्टी ने उस नवजोत सिंह सिद्धू जैसे अस्थिर व्‍यक्ति के साथ, हाथ मिलाकर राज्‍य में अपना ही नुकसान किया है जो केवल अपने प्रति ही वफादार है. अमरिंदर पर कृषि कानूनों के आर्किटेक्‍ट (शिल्‍पकार) होने और कुछ कार्पोरेट्स को लाभान्वित करने का आरोप लगाने वाले नवजोत सिद्धू को भी पंजाब के पूर्व सीएम ने नहीं बख्‍शा.


गौरतलब है कि कैप्‍टन अमरिंदर सिंह की ओर से नई पार्टी बनाने का ऐलान किए जाने के बाद पंजाब की चरणजीत सिंह चन्‍नी सरकार के कुछ मंत्रियों ने पूर्व सीएम पर तीखा हमला बोला था. पंजाब के उप मुख्‍यमंत्री सुखजिंदर सिंह रंधावा (Sukhjinder Singh Randhawa) ने बुधवार को कहा था कि कैप्‍टन अमरिंदर सिंह अवसरवादी हैं और उन्‍होंने कांग्रेस की पीठ पर छुरा घोंपा है.' रंधावा से पहले पंजाब सरकार के मंत्री परगट सिंह ने भी कहा था कि पिछले महीने बेवजह कांग्रेस से बाहर होने के बाद कैप्‍टन, भाजपा और उसकी जैसी अन्य "समान विचारधारा वाली पार्टियों" के साथ साझेदारी करने के लिए तैयार हैं. परगट ने कहा, "मैंने हमेशा कहा था कि कैप्टन भाजपा और अकाली दल के साथ हैं. वह अपना एजेंडा भाजपा से लेते थे."

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


- - ये भी पढ़ें - -
* "100 करोड़ का कीर्तिमान, जानिए भारत में कोरोना वैक्सीनेशन अभियान के 10 अहम पड़ाव
* "करीब 15 मिनट हुई शाहरुख और आर्यन खान में बातचीत, बीच में थी शीशे की दीवार
* "Video: मासूम बेटी को साथ लिए ड्यूटी करने वाली DSP मोनिका सिंह से खुद मिलने आए CM शिवराज