एमपी में मानवता फिर शर्मसार! बेटे का शव ठेले पर ले जाने को आर्थिक मंदी ने किया मजबूर

तमाम मिन्नतों के बाद कहीं जाकर पोस्टमार्टम हुआ तो इसके बाद मृतक के लिये शव वाहन नहीं मिला.

एमपी में मानवता फिर शर्मसार! बेटे का शव ठेले पर ले जाने को आर्थिक मंदी ने किया मजबूर

युवक की संदिग्ध परिस्थितियों में मौत हो गई थी.

भोपाल:

मध्य प्रदेश के गुना के कुंभराज में एक बार फिर मानवता शर्मसार हुई है. जहां लॉकडाउन में आर्थिक मंदी के चलते पिता को अपने बेटे का शव हाथ ठेले पर रखकर ले जाना पड़ा. कुंभराज गीता नगर का रहने वाले हेमराज राव की संदिग्ध परिस्थितियों में मौत हो गई थी.

तमाम मिन्नतों के बाद कहीं जाकर पोस्टमार्टम हुआ तो इसके बाद मृतक के लिये शव वाहन नहीं मिला. इसके बाद पिता को अपने बेटे का शव हाथ ठेले पर रखकर ले जाना पड़ा.


इंसानियत शर्मसार: मध्य प्रदेश में इस गरीब का शव ठेले पर ले जाने को मजबूर परिवार

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


बता दें, साल 2018 में भी मध्य प्रदेश से एक ऐसा ही मामला सामने आया था, मृतक के परिजनों के पास पैसे नहीं थे, इसलिये उन्हें सागर मेडिकल कॉलेज से शव हाथ ठेला पर ले आने को मजबूर होना पड़ा. बता दें कि शासन की योजना है कि किसी भी व्यक्ति का शव भेजने का काम अस्पताल प्रबन्धन का होता है. इस गरीब परिवार के पास ना तो ऑटो का किराया देने के लिये रुपये थे और ना ही अस्पताल प्रबन्धन की तरफ से शव ले जाने के लिये कोई भी वाहन मिला.