विज्ञापन
Story ProgressBack
This Article is From Feb 10, 2023

TAPAS-BH-201 की तपिश में राख हो जाएंगे दुश्मन के चॉपर्स और जेट, 12 हजार फीट से कर सकता है ट्रैक

Tapas BH-201: तपस ड्रोन 28 हजार फीट की ऊंचाई पर 18 घंटे से ज्यादा की उड़ान भर सकता है. तपस एक मीडियम एल्टीट्यूट लॉन्ग-इंड्यूरेंस (MALE) ड्रोन है, जो अमेरिका के MQ-1 प्रीडेटर ड्रोन जैसा ही है.

Read Time: 9 mins
TAPAS-BH-201 की तपिश में राख हो जाएंगे दुश्मन के चॉपर्स और जेट, 12 हजार फीट से कर सकता है ट्रैक
तपस ड्रोन में डीआरडीओ के व्हीकल रिसर्च एंड डेवलपमेंट इस्टेब्लिशमेंट (VRDE) के बनाए स्वदेशी इंजन का इस्तेमाल किया जा रहा है.
नई दिल्ली:

भारत में बना पहला स्वदेशी मानव रहित यान (UAV) अगले हफ्ते लोगों की नजरों के सामने उड़ान भरता नजर आएगा. तपस ड्रोन (Tapas BH-201) को बेंगलुरु में होने वाले एयरो इंडिया (Aero India) शो में पहली बार सबके सामने उड़ान भरते हुए दिखाया जाएगा. एयरो इंडिया शो में डीआरडीओ के तपस ड्रोन के साथ ही 180 से ज्यादा विमान उड़ान भरेंगे. तपस करीब 12 हजार फीट से दुश्मन के चॉपर और जेट को ट्रैक कर सकता है.

तपस (TAPAS) का पूरा नाम टेक्टिकल एयरबॉर्न प्लेटफॉर्म फॉर एरियल सर्विलांस बेयॉन्ड होराइजन (Tactical Airborne Platform for Aerial Surveillance-Beyond Horizon) है. इसे डीआरडीओ ने ही बनाया है.

Advertisement

TAPAS ड्रोन केवल सीमाओं पर निगरानी रखने ही नहीं, बल्कि दुश्मनों पर हमला करने के लिए भी इस्तेमाल में लाया जा सकता है. 2016 से ही तपस का उत्पादन शुरू किया जा चुका है. हालांकि, इसे अभी तक भारतीय सेना में शामिल नहीं किया गया है. माना जा रहा है कि इस उड़ान के बाद ये भारतीय सेना में जल्द शामिल हो जाएगा.

यह 28 हजार फीट की ऊंचाई पर 18 घंटे से ज्यादा की उड़ान भर सकता है. तपस एक मीडियम एल्टीट्यूट लॉन्ग-इंड्यूरेंस (MALE) ड्रोन है, जो अमेरिका के MQ-1 प्रीडेटर ड्रोन जैसा ही है. तपस बीएच 201 ड्रोन 350 किलोग्राम के पेलोड के साथ उड़ान भर सकता है. तपस बीएच 201 9.5 मीटर लंबा और 20.6 मीटर चौड़ा है. इसका वजन 1800 किलोग्राम है. 

तपस ड्रोन में डीआरडीओ के व्हीकल रिसर्च एंड डेवलपमेंट इस्टेब्लिशमेंट (VRDE) के बनाए स्वदेशी इंजन का इस्तेमाल किया जा रहा है. इनमें से प्रत्येक इंजन 130 किलोवॉट या 180 हॉर्सपावर की ताकत दे सकता है. यह ड्रोन 1000 किलोमीटर की रेंज में निगरानी और हमला कर सकता है. तपस 224 किमी प्रति घंटे की स्पीड से उड़ सकता है. 

Advertisement

तपस अपने आप ही टेकऑफ और लैंड करने की क्षमता रखने वाला ड्रोन है. तपस ड्रोन को पहले रुस्तम-2 के नाम से पुकारा जाता था. जिसकी अधिकतम रफ्तार 224 किलोमीटर प्रतिघंटा थी. 20.6 मीटर के विंग स्पैन वाला तपस ड्रोन लगातार 1000 किलोमीटर तक उड़ान भर सकता है. तपस ड्रोन दिन और रात दोनों में ही निगरानी के लिए इस्तेमाल हो सकता है.

ये भी पढ़ें:-

भारत ने टेस्ट किया 7500km/h की स्पीड वाला हाइपरसोनिक हथियार, दुश्मन के छुड़ा देगा छक्के!

DRDO तैयार कर रहा ‘खास' चूहे, दुश्‍मनों-आतंकियों के छुड़ा देंगे छक्‍के, यूं करेंगे सेना को सपोर्ट

सुखोई फाइटर जेट से ब्रह्मोस मिसाइल के एक्सटेंडेड रेंज वर्जन का किया गया परीक्षण

(इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)

NDTV.in पर ताज़ातरीन ख़बरों को ट्रैक करें, व देश के कोने-कोने से और दुनियाभर से न्यूज़ अपडेट पाएं

फॉलो करे:
डार्क मोड/लाइट मोड पर जाएं
Our Offerings: NDTV
  • मध्य प्रदेश
  • राजस्थान
  • इंडिया
  • मराठी
  • 24X7
Choose Your Destination
Previous Article
9 महीने पेट में पाला, एक पल में आग ने छीना : उन 6 मां का दर्द जिन्होंने खो दिए घर के 'चिराग'
TAPAS-BH-201 की तपिश में राख हो जाएंगे दुश्मन के चॉपर्स और जेट, 12 हजार फीट से कर सकता है ट्रैक
अंबाला में बड़ा हादसा : वैष्णो देवी जा रही मिनी बस ट्रक से टकराई, 7 की मौत, 20 से ज्यादा घायल
Next Article
अंबाला में बड़ा हादसा : वैष्णो देवी जा रही मिनी बस ट्रक से टकराई, 7 की मौत, 20 से ज्यादा घायल
Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com
;