'जो लोग काला "जादू" में विश्वास करते हैं ...': पीएम मोदी ने कांग्रेस पर साधा निशाना

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने हरियाणा के पानीपत में 900 करोड़ रुपये की लागत से बने दूसरी पीढ़ी (2जी) के एथनॉल संयंत्र को राष्ट्र को समर्पित किया.

'जो लोग काला

हाल ही में कांग्रेस पार्टी ने महंगाई के खिलाफ काले कपड़े पहन कर प्रदर्शन किया था

खास बातें

  • पीएम मोदी ने कांग्रेस पार्टी पर बोला हमला
  • पीएम मोदी ने एथनॉल संयंत्र राष्ट्र को किया समर्पित
  • एथनॉल संयंत्र बनाने में 900 करोड़ रुपये हुए हैं खर्च
नई दिल्ली:

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने हरियाणा के पानीपत में 900 करोड़ रुपये की लागत से बने दूसरी पीढ़ी (2जी) के एथनॉल संयंत्र को राष्ट्र को समर्पित किया. इस अवसर पर प्रधानमंत्री ने पांच अगस्त को काले कपड़ों में विपक्ष के विरोध प्रदर्शन का जिक्र करते हुए कहा कि लोग कितना भी झाड़-फूंक, काला जादू कर लें जनता का विश्वास अब उन पर दोबारा कभी नहीं बन पाएगा. पीएम ने कहा कि उनकी सरकार ‘शॉर्टकट' पर चलने के बजाय समस्याओं का स्थायी समाधान करती है.

प्रधानमंत्री ने कहा, ‘‘पानीपत में बनाए गए दूसरी पीढ़ी के एथनॉल संयंत्र से किसानों की आय बढ़ेगी और साथ ही पराली की लंबे समय से जारी समस्या से भी छुटकारा मिलेगा.'' आईओसी की पानीपत रिफाइनरी के पास स्थित इस एथनॉल संयंत्र पर 900 करोड़ रुपये की लागत आई है. मोदी ने कहा, ‘‘पानीपत के जैविक ईंधन संयंत्र से पराली का बिना जलाए भी निपटारा हो पाएगा. इसके एक साथ कई फायदे होंगे.

उन्होंने कहा, ‘‘पहला फायदा तो ये होगा कि पराली जलाने से धरती मां को जो पीड़ा होती थी, उस पीड़ा से मुक्ति मिलेगी. दूसरा फायदा पराली काटने से लेकर उसके निस्तारण के लिए जो नई व्यवस्था बन रही है, उससे गांवों के लोगों के लिए रोजगार के नए अवसर पैदा होंगे.''मोदी ने कहा, ‘‘इसके अलावा पराली किसानों के लिये अतिरिक्त आय का माध्यम बनेगी. साथ ही प्रदूषण कम होगा, पर्यावरण की रक्षा में किसानों का योगदान और बढ़ेगा. और देश को एक वैकल्पिक ईंधन भी मिलेगा.''

प्रधानमंत्री ने कहा, ‘‘...शॉर्टकट पर चलने के बजाय हमारी सरकार समस्याओं के स्थायी समाधान में जुटी है. पराली की दिक्कतों के बारे में भी बरसों से कितना कुछ कहा गया. लेकिन शॉर्टकट वाले इसका समाधान नहीं दे पाए''आईओसी की स्वदेशी प्रौद्योगिकी पर आधारित इस परियोजना में एक साल में करीब दो लाख टन भूसी को इस्तेमाल में लाया जाएगा. इसकी मदद से सालाना करीब तीन करोड़ लीटर एथनॉल का उत्पादन होगा.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


ये भी पढ़ें-