विज्ञापन
Story ProgressBack

शरद पवार...सियासत का 'चाणक्य' जिसकी हर चाल करती रही है हैरान

शरद पवार को कांग्रेस ने 1967 में की बारामती विधानसभा से टिकट दिया. 27 साल के पवार पहली बार बारामती विधानसभा सीट से विधायक बने. तब से लेकर आज तक विधानसभा की यह सीट पवार परिवार के पास ही है.

Read Time: 4 mins
शरद पवार...सियासत का 'चाणक्य' जिसकी हर चाल करती रही है हैरान
शरद पवार ने भारतीय राजनीति में बनाई है अपनी अलग छवि
नई दिल्ली:

शरद पवार भारत की राजनीति का वो नाम हैं जो हमेशा अपनी अगली चाल (फैसलों) के लिए जाने जाते हैं. राजनीति से उनका नाता कई दशक पुराना है. वो जब महज 27 साल के थे तो विधायक बन गए. उनका सियासी सफर 50 साल से भी ज्यादा का है. आज हम आपको उनके सियासी सफर की पूरी कहानी बताने जा रहे हैं. आखिर महाराष्ट्र के एक छोटे से गांव में जन्में इस बच्चे ने देश की राजनीति में ऐसी जगह बनाई कि आज वह किसी भी दांव को कभी भी पलट सकता है. आज हम आपको देश के सबसे मशहूर नेताओं में से एक शरद पवार के बारे में बताने जा रहे हैं. 

Latest and Breaking News on NDTV

पवार को विरासत में मिली थी राजनीति

शरद पवार का जन्म पुणे के बारामती गांव में 12 दिसंबर 1940 हुआ था. उन्हें राजनीति विरासत में मिली थी. शरद पवार के पिता गोविंदराव पवार और मां शारदाबाई भोंसले दोनों ही राजनीति में सक्रिय थे. यही वजह थी कि बचपन से ही शरद पवार के रग-रग में राजनीति बसती है. कहा जाता है कि शरद पवार जब तीन दिन के थे तब उनकी मां पहली बार उन्हें अपने साथ लेकर लोकल बोर्ड की बैठक में चली गईं थी. शरद पवार जब बड़े हुए तो उन्होंने बीएमसी कॉलेज से अपना ग्रेजुएशन पूरा किया. अगर देखा जाए तो पढ़ाई लिखाई में शरद पवार औसत ही थे लेकिन उन्हें शुरू से ही राजनीति में बहुत रुचि थी.

Latest and Breaking News on NDTV

1960 से सक्रिया राजनीति में है पवार 

अगर बात शरद पवार के सक्रिय राजनीति में उतरने की करें तो वो साल था 1960 का. इस समय शरद पवार की उम्र महज बीस साल की थी. उन्होंने कॉलेज खत्म करते ही कांग्रेस को ज्वाइन कर लिया था. उसी दौरान कांग्रेस के बड़े नेता केशवराव जेधे के निधन से महाराष्ट्र की बारामती लोकसभी सीट खाली हो गई थी. जब इस सीट पर लोकसभी चुनाव हुए तो पीडब्ल्यूपी पार्टी ने शरद पवार के बड़े भाई को यहां से टिकट दे दिया. जबकि इसी चुनाव में कांग्रेस ने केशवराव के बेटे को यहां से अपना उम्मीदवार बनाया. अब ऐसे में शरद पवार के सामने दुविधा थी. वो थे तो कांग्रेस में लेकिन उनके भाई को पीडब्ल्यूपी ने अपना उम्मीदवार बनाया था. ऐसे में उनके बड़े भाई ने शरद पवार से कहा कि वह कांग्रेस के साथ जुड़े हैं तो उन्हें कांग्रेस के उम्मीदवार के लिए प्रचार करना चाहिए. जब चुनाव परिणाम आए तो इस चुनाव में कांग्रेस के उम्मीदवार की जीत हुई और यहीं से शरद पवार की सक्रिय राजनीति में एंट्री भी. 

27 साल के उम्र में विधायक बने पवार

कांग्रेस ने 1967 में शरद पवार की बारामती विधानसभा से टिकट दिया. 27 साल के पवार पहली बार बारामती विधानसभा सीट से विधायक बने. तब से लेकर आज तक विधानसभा की यह सीट पवार परिवार के पास ही है. 1991 तक शरद पवार ही इस सीट से विधायक रहे. पिछले 5 दशकों में शरद पवार 14 बार चुनाव जीत चुके हैं. 

Latest and Breaking News on NDTV

Photo Credit: Facebook Sharad Pawar

सबसे कम उम्र में बने सीएम 

शरद पवार महज 38 साल की उम्र में महाराष्ट्र के सीएम बन गए थे. मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार जिस समय शरद पवार सीएम बने उस दौरान उनके पास 180 विधायकों का समर्थन था, जबकि विधानसभा के कुल सदस्यों की संख्या 288 थी. 1978 तक इतनी कम उम्र में कोई भी नेता मुख्यमंत्री नहीं बन पाया था. 

ऐसे किया था NCP का गठन

कहा जाता है कि जब 1998 में सोनिया गांधी कांग्रेस की अध्यक्ष बनीं तो इससे शरद पवार खुश नहीं थे. यही वजह थी कि जब सोनिया गांधी को प्रधानमंत्री पद का उम्मीदवार बनाए जाने की सुगबुगाहट शुरू हुई तो शरद पवार ने इसका विरोध किया. उनके इसी विरोध के चलते ही 20 मई 1999 को कांग्रेस पार्टी ने उन्हें पार्टी से अगले छह साल के लिए निष्कासित कर दिया. इस घटना के बाद ही शरद पवान ने अपनी पार्टी का गठन करने का फैसला किया और उसका नाम रखा राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी यानी NCP. 

Latest and Breaking News on NDTV

जब शरद पवार ने किया पार्टी अध्यक्ष पद छोड़ने का फैसला

अपने भतीजे अजित पवार की बगावत के बाद जब एनसीपी दो गुटों में बटती दिखी तो शरद पवार ने आगे आकर अपने पद यानी अध्यक्ष पद से इस्तीफा देने का फैसला किया. 2 मई 2023 को शरद पवार ने मुंबई में एक प्रेस कॉन्फ्रेंस करके कहा कि मैंने राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी के अध्यक्ष का पद छोड़ने का फैसला किया है. शरद पवार प्रेस कॉन्फ्रेंस के बीच ऐसा कुछ कहने वाले इसका अंदाजा किसी को नहीं था. शरद पवार के इतना कहते ही पार्टी के कई बड़े नेता और कार्यकर्ता उसी समय धरने पर बैठ गए. 

NDTV.in पर ताज़ातरीन ख़बरों को ट्रैक करें, व देश के कोने-कोने से और दुनियाभर से न्यूज़ अपडेट पाएं

फॉलो करे:
डार्क मोड/लाइट मोड पर जाएं
Our Offerings: NDTV
  • मध्य प्रदेश
  • राजस्थान
  • इंडिया
  • मराठी
  • 24X7
Choose Your Destination
Previous Article
बिहार में नौकरी के नाम पर लड़कियों से दरिंदगी! पुलिस ने मुख्य आरोपी को दबोचा
शरद पवार...सियासत का 'चाणक्य' जिसकी हर चाल करती रही है हैरान
PICS : रिकॉर्डतोड़ गर्मी के बीच दिल्ली में भीषण जल संकट, देखिए पानी के लिए कैसे जूझ रहे हैं लोग
Next Article
PICS : रिकॉर्डतोड़ गर्मी के बीच दिल्ली में भीषण जल संकट, देखिए पानी के लिए कैसे जूझ रहे हैं लोग
Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com
;