"1984 में प्रणब मुखर्जी ने नहीं किया था PM पद पर दावा", बेटी शर्मिष्ठा मुखर्जी ने किताब के हवाले से किया दावा

शर्मिष्ठा मुखर्जी ने कहा कि राजीव गांधी के आसपास जो लोग उनके करीबी थे. उन्होंने इस अफवाह को बहुत ज्यादा फैलाया. ये सोचकर की प्रणब मुखर्जी ने प्रधानमंत्री बनने के लिए दावा क्लेम किया था. इसी वजह से गांधी परिवार ने पूरी तरह से उन पर कभी पूरा विश्वास नहीं किया.

नई दिल्ली:

दिवंगत पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी (Pranab Mukherjee) की बेटी शर्मिष्ठा मुखर्जी (Sharmishtha Mukherjee) द्वारा लिखी गयी किताब Pranab, My Father: A Daughter Remembers इन दिनों काफी चर्चाओं में है. इस किताब में उन्होंने कई खुलासे किए हैं. किताब की चर्चाओं के बीच एनडीटीवी ने शर्मिष्ठा मुखर्जी से बात की है. शर्मिष्ठा मुखर्जी ने बताया कि कौन सी वो घटना थी जिसके कारण प्रणब मुखर्जी और गांधी परिवार के बीच विश्वास की कमी पूरे जीवन बनी रह गयी. उन्होंने इंदिरा गांधी के निधन के बाद पीएम पद की रेस को लेकर एक गलत खबर प्लांट गयी जिसके कारण रिश्ते में वो विश्वास कभी नहीं बन पाया जिसकी उम्मीद थी. 

प्रणब मुखर्जी को लेकर गलत अफवाह फैलायी गयी थी

शर्मिष्ठा मुखर्जी ने बताया कि राजीव गांधी कोलकाता में थे जब श्रीमति गांधी की हत्या हुई थी. फ्लाइट में जब वो आ रहे थे तो एक अफवाह फैल गई. अफवाह इसलिए फैल गयी क्योंकि सेकेंड रैंक के मंत्री थे. तो उन्होंने अंतरिम प्रधानमंत्री बनने की स्टेट क्लेम की है. मेरे पिता जी के देहांत के बाद हमें नोट्स मिले हैं.नोट्स में विस्तार से ये बात लिखा है कि उस फ्लाइट में क्या हुआ था. जब वो जीवित थे उसमें से कई चीजें अपनी किताब में भी लिखी है. उनके हिसाब से यह जो स्टोरी थी ये अफवाह थी.  बरकत गनी चौधरी जी ने इसे फर्स्ट प्रैस के पास प्लांट किया था. 

राजीव गांधी के आसपास जो लोग उनके करीबी थे. उन्होंने इस अफवाह को बहुत ज्यादा फैलाया. ये सोचकर की उन्होंने प्रधानमंत्री बनने के लिए दावा क्लेम किया था. इसी वजह से गांधी परिवार ने पूरी तरह से उनका विश्वास नहीं किया. लेकिन मेरे पिता के हिसाब से उन्होंने कोई स्टेट क्लेम नहीं किया था. 

सोनिया गांधी और राहुल गांधी को लेकर हुए हैं कई खुलासे

गौरतलब है कि पूर्व राष्ट्रपति की बेटी ने प्रणब मुखर्जी के हवाले से पूर्व कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी और राहुल गांधी को लेकर कई चौंकाने वाले दावे किए हैं. शर्मिष्ठा ने किताब में लिखा है कि एक बार उनके पिता (प्रणब मुखर्जी) ने कहा था कि राहुल गांधी 'बहुत विनम्र' और 'सवालों से भरपूर' हैं. लेकिन उनका मानना था कि राहुल गांधी को अभी राजनीतिक रूप से मैच्योर होना बाकी है. 

शर्मिष्ठा ने अपनी किताब में लिखा है कि मेरे पिता प्रणब मुखर्जी से राहुल गांधी अक्सर मिलने आते थे. एक बार मेरे पिता ने कहा था कि अगर राहुल गांधी का ऑफिस AM और PM के बीच अंतर नहीं कर सकता, तो वे एक दिन PMO चलाने की उम्मीद कैसे कर सकते हैं?'' शर्मिष्ठा मुखर्जी की ये किताब प्रणब मुखर्जी की जन्मतिथि यानी 11 दिसंबर को लॉन्च होने वाली है.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

ये भी पढ़ें- :