धड़ल्ले से फेक न्यूज फैला रहे ये 9 YouTube चैनल, PIB की फैक्ट चेक टीम ने सामने रखा सच

इन Youtube चैनल पर सरकार की कई ऐसी योजनाओं के बारे में भी जानकारी दी गई है जिन योजनाओं को सरकार ने लॉन्च ही नहीं किया है और न ही ऐसी कोई योजना है. 

धड़ल्ले से फेक न्यूज फैला रहे ये 9 YouTube चैनल, PIB की फैक्ट चेक टीम ने सामने रखा सच

प्रतीकात्मक फोटो.

खास बातें

  • PIB ने इन चैनलों को लेकर जारी किया अलर्ट
  • YouTube चैनलों पर 83 लाख से अधिक सब्सक्राइबर्स
  • सरकार की योजनाओं की गलत जानकारी फैला रहे हैं ये चैनल
नई दिल्ली:

सोशल मीडिया और यूट्यूब (YouTube channels) जैसे प्लेटफॉर्म फर्जी खबरों का सबसे बड़ा प्लेटफॉर्म बन चुके हैं. हर दिन इन प्लेटफॉर्म के जरिए गलत सूचनाएं और फेक न्यूज (Fake News) फैलाई जाती हैं. सरकार लोगों को इनसे दूर रहने की सलाह देती रहती है. अब प्रेस इंफॉर्मेशन ब्यूरो (PIB) की फैक्ट चेक टीम ने कई सारे YouTube को लेकर अलर्ट जारी किया है.

प्रेस इंफॉर्मेशन ब्यूरो (PIB) ने सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म X पर कई पोस्ट में कुछ यूट्यूब चैनल के बारे में जानकारी दी है. फैक्ट चेक यूनिट ने 9 अलग-अलग ट्वीट थ्रेड में में कई सारे फैक्ट-चेक जारी किए. इन थ्रेड्स में फर्जी चैनलों की बताई गई जानकारी को पूरी तरह गलत ठहराते हुए उनकी असलियत बताई है. संबंधित YouTube चैनलों पर 83 लाख से अधिक सब्सक्राइबर्स थे. फर्जी खबर फैलाने वाले इन 9 यूट्यूब चैनलों का सच PIB ने सामने रखा है. 

PIB ने जिन चैनल को लेकर अलर्ट जारी किया है, उनमें aapke guruji, sansanilive, bj news, bharat ekta news, gvt news, ab bolega bharat, daily study जैसे चैनल शामिल हैं. PIB की ओर से कहा गया है कि इन सभी चैनल पर दी जाने वाली सभी जानकारियां पूरी तरह से गलत और भ्रामक हैं. 

इन चैनल पर सरकार की कई ऐसी योजनाओं के बारे में भी जानकारी दी गई है जिन योजनाओं को सरकार ने लॉन्च ही नहीं किया है और न ही ऐसी कोई योजना है.  

फैक्ट चेक यूनिट ने नौ अलग-अलग ट्वीट थ्रेड में में कई सारे फैक्ट-चेक जारी किए. इन थ्रेड्स में फर्जी चैनलों की बताई गई जानकारी को पूरी तरह गलत बताते हुए उनकी असलियत बताई गई है. ये चैनल मुख्य न्यायाधीश, प्रधानमंत्री, मुख्य चुनाव आयुक्त के खिलाफ फ़र्ज़ी खबर फैला रहे थे. कुछ राज्यों में राष्ट्रपति शासन लगाने, ईवीएम पर पाबंदी, केंद्रीय मंत्रियों के इस्तीफ़े, 200-500 के नोट पर पाबंदी, बैंकों को बंद करने से जुड़े फर्जी खबरें भी फैलाई जा रही हैं.

ये भी पढ़ें:-

Amul ने डुप्लीकेट बटर पैक की फेक न्यूज को लेकर लोगों से की Requests, यहां देखें क्या है पूरा मामला...

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

Deepfake वीडियो पर क्या कहता है IT एक्ट? कानून के बाद भी क्यों शिकार हुईं रश्मिका मंदाना और कैटरीना कैफ?