हरियाणा में खनन माफिया का दुस्साहस : DSP को डंपर से कुचलकर मार डाला, एक आरोपी गिरफ्तार

Haryana Illegal Mining : हरियाणा के नूंह में डिप्टी एसपी सुरेंद्र सिंह बिश्नोई की हत्या करने वाले आरोपी को जब पुलिस ने घेरा तो आरोपी ने पुलिस टीम के ऊपर कई राउंड फायर किए. पुलिस की गाड़ी पर भी गोलियां लगी.  

गुरूग्राम :

Haryana DSP Murder : हरियाणा के नूंह जिले में अवैध पत्थर खनन की जांच कर रहे एक डीएसपी को मंगलवार को उस समय एक ट्रक ने कुचल दिया, जब उन्होंने चालक को रुकने का इशारा किया. डीएसपी की मौत के कुछ घंटे बाद पुलिस ने कहा कि पुलिस अधिकारी की हत्या में शामिल एक व्यक्ति को एक मुठभेड़ के बाद घायलावस्था में गिरफ्तार कर लिया. उन्होंने बताया कि उसकी पहचान ट्रक क्लीनर के तौर पर की गई है. उन्होंने बताया कि गिरफ्तार ट्रक क्लीनर के खिलाफ उक्त मामले में एफआईआर दर्ज की गई है.

हरियाणा के नूंह में डिप्टी एसपी सुरेंद्र सिंह बिश्नोई की हत्या करने वाले आरोपी को जब पुलिस ने घेरा तो आरोपी ने पुलिस टीम के ऊपर कई राउंड फायर किए. पुलिस की गाड़ी पर भी गोलियां लगीं.जवाबी कार्रवाई में डंपर के क्लीनर को पुलिस की गोली लगी. पुलिस ने आरोपी को गिरफ्तार कर लिया है. आरोपी को अस्पताल में इलाज के लिए भर्ती कराया गया है.

अधिकारियों के अनुसार, तावडू के डीएसपी सुरेंद्र सिंह ने दस्तावेज की जांच के लिए एक डंपर-ट्रक को रुकने का इशारा किया था, लेकिन चालक ने रफ्तार बढ़ाते हुए उन्हें कुचल डाला. उन्होंने बताया कि डीएसपी के चालक और सुरक्षाकर्मी ने सड़क के किनारे कूदकर अपनी जान बचाई, लेकिन सुरेंद्र सिंह ट्रक की चपेट में आ गए. पुलिस ने बताया कि सिंह को फौरन पास के एक अस्पताल ले जाया गया, जहां डॉक्टरों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया.

पुलिस ने डिप्टी एसपी को कुचलने वाले डंपर को भी अपने कब्जे में ले लिया है. मृतक डिप्टी एसपी का पोस्टमार्टम कर दिया गया है थोड़ी देर में डेड बॉडी को अंतिम संस्कार के लिए हिसार स्थित उनके पैतृक गांव लेकर जा रहे हैं अंतिम संस्कार कल उनके पैतृक गांव जिला हिसार में होगा.

एसपी नूंह के नेतृत्व में भारी पुलिस बल व एसडीएम व तहसीलदार तावडू घटनास्थल पर तैनात हैं. पुलिस द्वारा गांव व अरावली पहाड़ में गहन सर्च अभियान चल रहा है. आईजी दक्षिण रेंज के अलावा पुलिस महकमे के आला अधिकारी भी घटनास्थल पर पहुंच रहे हैं.मृतक डिप्टी एसपी का पोस्टमार्टम कर दिया गया है थोड़ी देर में डेड बॉडी को अंतिम संस्कार के लिए हिसार स्थित उनके पैतृक गांव लेकर जा रहे हैं. अंतिम संस्कार कल उनके पैतृक गांव जिला हिसार में होगा

गौरतलब है कि, तावडू उपमंडल के अरावली क्षेत्र की पहाड़ियों में भारी मात्रा में खनन माफिया अवैध खनन में लगे हैं. आज सबेरे एक सूचना के आधार पर डीएसपी सुरेंद्र सिंह खनन रोकने के लिए गए थे. पुलिस टीम को देख पहाड़ी के पास खड़े डंपर लेकर उनके चालक और खनन में लगे लोग भागने लगे. वाहन रोकने के लिए डीएसपी आगे आए तो डंपर चालक ने उनके ऊपर वाहन चढ़ा दिया और भाग गया. टायर के नीचे आने से डीएसपी की मौके पर ही मृत्यु हो गई.

वहीं इस मसले पर विपक्षी दलों ने हरियाणा की बीजेपी सरकार पर हमला बोला है. दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने मंगलवार कहा कि हरियाणा में डीएसपी की हत्या राज्य में समूचे सरकारी तंत्र की नाकामी का नतीजा है.  केजरीवाल ने ट्वीट किया, बेहद दुखद। हरियाणा में पुलिस अधिकारी की यूं सरेआम हत्या हरियाणा के पूरे सरकारी सिस्टम की नाकामी का ही नतीजा है। जहां पुलिस ही सुरक्षित नहीं वहां जनता सुरक्षित कैसे होगी?

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता रणदीप सिंह सुरजेवाला ने इस घटना की न्यायिक जांच कराये जाने की मांग की है और आरोप लगाया है कि खनन माफियाओं की राज्य सरकार से साठगांठ है. उन्होंने कहा, ‘‘क्या मुख्यमंत्री नहीं जानते हैं कि यमुनानगर से नूंह और मेवात तक एक खनन माफिया फल-फूल रहा है? सरकार मूक दर्शक की तरह क्यों बर्ताव कर रही है?''

हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर ने इस मामले में दोषियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई का भरोसा दिया है, जबकि विपक्ष ने अवैध खनन के मामले में प्रदेश की भाजपा सरकार पर निशाना साधा है. खट्टर ने हिन्दी में ट्वीट किया, ‘‘तावडू (नूंह) के डीएसपी सुरेंद्र सिंह जी की हत्या के मामले में कड़ी से कड़ी कार्रवाई करने के आदेश दे दिए गए हैं, एक भी दोषी को बख्शा नहीं जाएगा.''

अधिकारियों के मुताबिक, डीएसपी के चालक और सुरक्षाकर्मी ने सड़क के किनारे कूदकर अपनी जान बचाई, लेकिन सुरेंद्र सिंह ट्रक की चपेट में आ गए. हरियाणा के पूर्व मुख्यमंत्री भूपेंद्र सिंह हुड्डा ने कहा है कि राज्य की खट्टर सरकार में खनन माफियाओं का बोलबाला है. वैसे तो पूरे हरियाणा में कानून-व्यवस्था चौपट हो चुकी है. 

हरियाणा के पुलिस महानिदेशक (डीजीपी) पीके अग्रवाल ने नूंह में घटनास्थल का दौरा किया और पत्रकारों से कहा कि हत्या का एक मामला दर्ज किया गया है. उन्होंने कहा, ‘‘मुझे बताया गया है कि एक संदिग्ध को मुठभेड़ के बाद गिरफ्तार किया गया है. संदिग्ध को मुठभेड़ के दौरान पैर में गोली लगी है और उसके बाद उसे गिरफ्तार किया गया.''

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

हरियाणा पुलिस में डीएसपी सिंह की भर्ती 1994 में सहायक उपनिरीक्षक के पद पर हुई थी और वह कुछ महीनों में ही सेवानिवृत्त होने वाले थे. मूल रूप से हिसार जिले के सारंगपुर गांव के निवासी सिंह कुरुक्षेत्र में अपने परिवार के साथ रह रहे थे.