VIDEO: एनडीटीवी के ड्रोन कैमरे से इंडिया गेट से भी ऊंचा दिखा दिल्ली का लैंडफिल

लैंडफिल के आसपास रहने वाले लोगों के लिए जीना मुश्किल हो गया है. दिल्ली के ओखला-गाजीपुर लैंडफिल में कचरे का पहाड़ आम लोगों के लिए समस्या बनते जा रहे हैं. वहीं, यह लैंडफिल एनडीटीवी के ड्रोन कैमरे से इंडिया गेट से भी ऊंचा दिख रहा है.

नई दिल्ली:

ओखला लैंडफिल, गाजीपुर भलस्वा लैंडफिल के आसपास रहने वाले लोगों के लिए जीना मुश्किल हो गया है. दिल्ली के ओखला लैंडफिल में कचरे का पहाड़ आम लोगों के लिए समस्या बनते जा रहे हैं. वहीं, यह लैंडफिल NDTV के ड्रोन कैमरे से इंडिया गेट से भी ऊंचा दिख रहा है. नगर निगम द्वारा इन कूड़े के पहाड़ों को खत्म करने का प्रयास किया जा रहा है, लेकिन अभी तक कुछ सफलता हासिल नहीं हुई है. दिल्ली में लैंडफिल के आसपास रहने वाले लोग अपनी आपबीती और अपने रहने की कठिन परिस्थितियों के दर्द को बताते हैं. उनका कहना है कि उनका क्षेत्र व्यापक और स्वच्छ हुआ करता था. लेकिन शहर का विस्तार हुआ और समय के साथ लैंडफिल आ गए.

लैंडफिल के आसपास के कई निवासी दशकों से वहां रह रहे हैं. लेकिन इस कचरे के 'पहाड़' ने अब लोगों का जीना हराम कर दिया है. लैंडफिल के आसपास रहने वाले लोगों को ‘खुली हवा में सांस लेने' में परेशानी होती है. हवा चलने पर कचरे के पहाड़ से दुर्गंध आती है. कई लोग सांस संबंधी रोगों से जूझ रहे हैं. स्थानीय लोगों का कहना है कि मजबूरी के चलते वह पिछले कई सालों से अपनी जिंदगी को खतरे में डाल रहे हैं.

लैंडफिल के आसपास रह रहे स्थानीय लोगों का कहना है कि वह अपन स्वास्थ्य को लेकर चिंतित हैं, क्योंकि वे इलाके में फैली जहरीली गैस और बदबू की वजह से अकसर बीमार रहते हैं. यहां हर साल कचरे के पहाड़ पर गर्मियों में आग लग जाती है और उस समय यहां रह रहे बच्चों को सांस लेने में परेशानी होती है. स्थानीय लोग राजनीतिक दलों से भी नाराज हैं उनका कहना है कि सरकार की तरफ से उनकी समस्या की तरफ से ध्यान नहीं दिया जाता है. 

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com
       

ये भी पढ़ें:-
महाराष्ट्र कांग्रेस प्रमुख पटोले का हास्यास्पद बयान, बोले- नाइजीरिया से आए चीते फैला रहे लंपी रोग
SBI की रिपोर्ट ने मुफ्त उपहार को अर्थव्यवस्था के लिए बताया घातक, SC से खर्च की सीमा तय करने को कहा