विज्ञापन
Story ProgressBack

इनके जज्बे को सलाम, चिलचिलाती गर्मी से लेकर बरसात तक... एक-एक मतदाता तक पहुंचने के लिए तय किया मुश्किल सफर

Lok Sabha Election 2024 : भारत को लोकतंत्र की जननी कहा जाता है. इस लोकतंत्र को बचाए रखने के लिए हमारे पुरखों ने न जाने कितने जुल्म सहे, लेकिन अपने लोकतंत्र को मरने नहीं दिया. ऐसे ही लोकतंत्र के प्रहरियों को एक सलामी...

Read Time: 4 mins
इनके जज्बे को सलाम, चिलचिलाती गर्मी से लेकर बरसात तक... एक-एक मतदाता तक पहुंचने के लिए तय किया मुश्किल सफर
Lok Sabha Election 2024 : लोकसभा चुनाव कराने के लिए चुनाव कर्मचारी कई-कई दिनों तक घर से दूर रहते हैं.

Lok Sabha Election 2024 : लोकसभा चुनाव के जरिए भारत के लोग अपनी एक सरकार चुनते हैं. मगर इस लोकतंत्र के पर्व को संपन्न कराने में देश को कितनी ताकत लगानी पड़ती है, इसका अंदाजा शायद वोट न करने वाले लोगों को नहीं होगा. चुनाव आयोग के अनुसार, पहले चरण की 102 सीटों के लिए हुए मतदान के दौरान ही करीब 18 लाख से अधिक मतदान अधिकारी 1.87 लाख मतदान केंद्रों पर मौजूद रहे. मतदान और सुरक्षा कर्मियों को लाने-ले जाने के लिए 41 हेलीकॉप्टर, 84 विशेष ट्रेनें और लगभग 1 लाख वाहन काम पर लगाए गए. लोकसभा चुनाव की घोषणा 16 मार्च को हुई थी. सात चरणों में चुनाव कराया गया. 4 जून को मतगणना होनी है. अब इस जानकारी के बाद कोई भी अंदाजा लगा सकता है कि देश का कितना खर्च लोकतंत्र को बनाए रखने के लिए होता है. इसमें प्रत्याशियों और राजनीतिक दलों का खर्च जोड़ दिया जाए तो 2024 का लोकसभा चुनाव दुनिया का सबसे महंगा चुनाव है.

पढ़ें-फिर एक बार कैसे बन रही मोदी सरकार? Exit Poll की इस इनसाइड स्टोरी से समझ लीजिए सब कुछ   

Latest and Breaking News on NDTV

कितना हुआ खर्च?

चुनाव संबंधी खर्चों पर पिछले करीब 35 साल से नजर रख रहे गैर-लाभकारी संगठन ‘सेंटर फॉर मीडिया स्टडीज' (सीएमएस) के अध्यक्ष एन भास्कर राव ने दावा किया कि इस लोकसभा चुनाव में अनुमानित खर्च 1.35 लाख करोड़ रुपये तक पहुंचने की उम्मीद है, जो 2019 में खर्च किए गए 60,000 करोड़ रुपये से दोगुने से भी अधिक है. वहीं वाशिंगटन डीसी से संचालित गैर-लाभकारी संस्थान ‘ओपन सीक्रेट्स डॉट ओआरजी' के अनुसार भारत में 96.6 करोड़ मतदाताओं के साथ, प्रति मतदाता खर्च लगभग 1,400 रुपये होने का अनुमान है. उसने कहा कि यह खर्च 2020 के अमेरिकी चुनाव के खर्च से ज्यादा है, जो 14.4 अरब डॉलर या लगभग 1.2 लाख करोड़ रुपये था.

Latest and Breaking News on NDTV

चुनाव कर्मचारियों की मेहनत

अब तक तो देश के खर्च के बारे में ही आपने जाना. अब आप चुनाव के काम में लगे सरकारी कर्मचारियों की मेहनत को भी जान लें. भारत का भूगोल ऐसा है कि एकतरफ रेगिस्तान है तो दूसरी तरफ बर्फीली पहाड़ियां. कहीं माओवादियों का खतरा है तो कहीं उग्रवादियों का. कहीं जंगलों के बीच लोग रहते हैं तो कहीं गंदी स्लम बस्तियों में. इन सभी जगहों पर चुनाव कर्मचारी न सिर्फ पहुंचे बल्कि लोगों से मतदान करा एक लोकतांत्रिक सरकार चुनने में हरसंभव मदद की. भीषण गर्मी, माओवादी इलाकों, हिमालय की बर्फीली पहाड़ियों, कीचड़ से सने रास्तों, जंगलों, पहाड़ों से जूझते हुए इन मतदान कर्मियों ने 2024 लोकसभा चुनाव को संपन्न करा दिया. आपको जानकर हैरानी होगी कि महाराष्ट्र के गढ़चिरौली में माओवादियों के गढ़ दंडाकारण्य में हेलीकॉप्टरों की मदद से चुनाव कर्मियों को उतारा गया. इसी तरह झारखंड के कान्हाचट्टी में पैदल चलकर चुनाव कर्मी पहुंचे. झारखंड के जिस बूढ़ा पहाड़ इलाके में नक्सलियों की हुकूमत चलती थी, वहां करीब 35 साल बाद हजारों वोटरों ने पहली बार ईवीएम के बटन पर अंगुलियां रखीं.

Latest and Breaking News on NDTV

बगैर शिकायत करते रहे काम

सातवे चरण के मतदान से ठीक एक दिन पहले मिर्जापुर में लोकसभा चुनाव के लिए ड्यूटी पर तैनात 7 होमगार्ड जवानों समेत 13 चुनाव कर्मियों की मौत हो गई. इन सभी कर्मियों की मौत के सटीक कारण का पता अभी नहीं चल सका है. हालांकि, हीटवेव से भी इंकार नहीं किया जा सकता. कई सड़कों पर सोते रहे. कई-कई किलोमीटर पैदल चलकर अपने मतदान केंद्र तक पहुंचे. इसी तरह चुनाव ड्यूटी पर लगे कई सुरक्षा कर्मी छिटपुट हिंसा में घायल भी हो जाते हैं. जिनके बारे में आप और हम जान भी नहीं पाते. ऊबड़खाबड़, पथरीले, बर्फीले रास्तों से आते-जाते न जाने कितने बीमार पड़े होंगे, गिरे होंगे, घायल हुए होंगे लेकिन फिर भी अपने काम में चौकस रहे. सिर्फ और सिर्फ हमारे लोकतंत्र को बचाने के लिए. तो इनको एक सलामी तो बनती है...

NDTV.in पर ताज़ातरीन ख़बरों को ट्रैक करें, व देश के कोने-कोने से और दुनियाभर से न्यूज़ अपडेट पाएं

फॉलो करे:
डार्क मोड/लाइट मोड पर जाएं
Our Offerings: NDTV
  • मध्य प्रदेश
  • राजस्थान
  • इंडिया
  • मराठी
  • 24X7
Choose Your Destination
Previous Article
ओडिशा : जगन्नाथ मंदिर के चारों द्वार खुले, सत्ता में आते ही सीएम माझी ने पूरा किया वादा
इनके जज्बे को सलाम, चिलचिलाती गर्मी से लेकर बरसात तक... एक-एक मतदाता तक पहुंचने के लिए तय किया मुश्किल सफर
Modi 3.0: कौन-कौन से मंत्रालय अपने पास रखना चाहेगी बीजेपी, स्‍पीकर पद का क्‍या होगा?
Next Article
Modi 3.0: कौन-कौन से मंत्रालय अपने पास रखना चाहेगी बीजेपी, स्‍पीकर पद का क्‍या होगा?
Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com
;