विज्ञापन
Story ProgressBack
This Article is From Jun 14, 2022

खरगोन में हिंसा के बाद बुलडोजर चलाकर दुकान गिराने पर मप्र सरकार को हाईकोर्ट का नोटिस

कोर्ट में बताया गया कि दुकान गिराने से पहले कोई नोटिस जारी नहीं किया गया था, या सुनवाई का कोई अवसर नहीं दिया गया था. याचिकाकर्ता दंगा भड़काने की घटना में आरोपी या शामिल भी नहीं था.

Read Time: 4 mins
खरगोन में हिंसा के बाद बुलडोजर चलाकर दुकान गिराने पर मप्र सरकार को हाईकोर्ट का नोटिस
खरगोन में बुलडोजर से गिराए गए दुकान
इंदौर (मध्यप्रदेश):

बीते 10 अप्रैल को रामनवमी के मौके पर सांप्रदायिक हिंसा के बाद खरगोन शहर में एक व्यापारी की दुकान को बुलडोजर से गिराने पर मध्यप्रदेश हाईकोर्ट की इंदौर पीठ ने राज्य सरकार को नोटिस जारी किया है. सिंगल जज बेंच ने खरगोन के व्यापारी जाहिद अली द्वारा दायर याचिका पर नोटिस जारी किया है.

जाहिद अली ने सरकार/प्रशासन की मनमानी और अवैध कार्रवाई के खिलाफ न्यायिक जांच, ध्वस्त संपत्ति के मुआवजे और उनके पुनर्निर्माण की मांग की है. याचिकाकर्ता द्वारा अतिरिक्त न्यायिक कार्य करने वाले संबंधित अधिकारियों के खिलाफ दंडात्मक कार्रवाई की भी मांग की गई है. अदालत ने नौ जून को राज्य सरकार, राज्य के गृह विभाग, खरगोन जिला प्रशासन और पुलिस के आलाधिकारियों के अलावा खरगोन नगर पालिका के मुख्य नगरपालिका अधिकारी को नोटिस जारी कर दो सप्ताह के भीतर जवाब मांगा है.

रामनवमी हिंसा मामले में 1 महीने बाद बड़ी कार्रवाई, खरगोन के जिलाधिकारी और एसपी का हुआ तबादला

याचिकाकर्ता के वकील एमएम बोहरा के अनुसार, "खरगोन (10 अप्रैल) में सांप्रदायिक हिंसा के ठीक एक दिन बाद स्थानीय अधिकारियों की एक टीम ने याचिकाकर्ता की दुकान पर बुलडोजर चला दिया, जो आजीविका का एकमात्र स्रोत था. आज तक मेरे मुवक्किल को अधिकारियों ने यह नहीं बताया कि उसकी दुकान को बिना किसी पूर्व सूचना के क्यों गिराया गया. वह उसकी संपत्ति का कानूनी मालिक है और इसके लिए सभी करों का भुगतान कर रहा था. याचिकाकर्ता उचित कानूनी प्रक्रिया के माध्यम से संपत्तियों के कानूनी मालिक होने के बावजूद तोड़-फोड़ मनमाने ढंग से और अवैध रूप से की गई थी."

कोर्ट में बताया गया कि दुकान गिराने से पहले कोई नोटिस जारी नहीं किया गया था, या सुनवाई का कोई अवसर नहीं दिया गया था. याचिकाकर्ता दंगा भड़काने की घटना में आरोपी या शामिल भी नहीं था. याचिकाकर्ताओं के अल्पसंख्यक समुदाय के सदस्य होने के कारण प्रतिशोध में निर्णय लेने के लिए न्याय और जूरी होने के कारण प्रशासन के खिलाफ याचिका दायर की गई थी.

Khargone Violence: खरगोन हिंसा के 24 दिनों बाद हटा कर्फ्यू, पहले की तरह खुल सकेंगी दुकानें

प्रशासन द्वारा की गई कार्रवाई प्राकृतिक न्याय के सिद्धांत और कानून के मानवीय आधार के खिलाफ थी. प्रशासन ने बिना किसी उचित सूचना के मनमाने ढंग से और अवैध रूप से तोड़फोड़ कर याचिकाकर्ताओं को संविधान के अनुच्छेद 21 के तहत निहित आजीविका के अधिकार और आश्रय के अधिकार से वंचित कर दिया है.

अप्रैल में भी इंदौर बेंच ने राज्य सरकार और अन्य प्रतिवादियों को नोटिस जारी किया था, जबकि एक बेकरी मालिक और एक रेस्तरां मालिक द्वारा दायर याचिकाओं पर सुनवाई करते हुए, जिनकी कानूनी रूप से स्वामित्व वाली संपत्तियों को 10 अप्रैल की सांप्रदायिक हिंसा के बाद खरगोन में अधिकारियों द्वारा कथित तौर पर ध्वस्त कर दिया गया था.

ये भी पढ़ें:

खरगोन हिंसा: इब्रिस खान की हत्या के आरोप में पांच लोग गिरफ्तारी, पत्थर से कुचला गया था सिर

खरगोन हिंसा के 106 फरार आरोपियों पर पुलिस ने रखा 10-10 हजार रुपये का इनाम

MP : खरगोन हिंसा पीड़ितों की मदद के लिए सरकार ने जारी की 1 करोड़ रुपये की राशि

NDTV.in पर ताज़ातरीन ख़बरों को ट्रैक करें, व देश के कोने-कोने से और दुनियाभर से न्यूज़ अपडेट पाएं

फॉलो करे:
डार्क मोड/लाइट मोड पर जाएं
Our Offerings: NDTV
  • मध्य प्रदेश
  • राजस्थान
  • इंडिया
  • मराठी
  • 24X7
Choose Your Destination
Previous Article
शेयर ट्रेडिंग के नाम पर शख्स के साथ हुई थी 14 लाख रुपये की ठगी, पुलिस ने ऐसे कराए वापस
खरगोन में हिंसा के बाद बुलडोजर चलाकर दुकान गिराने पर मप्र सरकार को हाईकोर्ट का नोटिस
बद्रीनाथ वाले रास्ते पर पूरा पहाड़ ही नीचे आया, VIDEO में मंजर देख हिल जाएंगे
Next Article
बद्रीनाथ वाले रास्ते पर पूरा पहाड़ ही नीचे आया, VIDEO में मंजर देख हिल जाएंगे
Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com
;