हैकर्स ने AIIMS से मांगे 200 रुपये करोड़, 6 दिन से सर्वर डाउन : रिपोर्ट

इंडिया कंप्यूटर इमरजेंसी रिस्पांस टीम (CERT-IN), दिल्ली पुलिस और गृह मंत्रालय के प्रतिनिधि रैंसमवेयर हमले की जांच कर रहे हैं.

हैकर्स ने AIIMS से मांगे 200 रुपये करोड़, 6 दिन से सर्वर डाउन : रिपोर्ट

(फाइल फोटो)

नई दिल्ली:

आधिकारिक सूत्रों ने सोमवार को कहा कि हैकर्स ने कथित तौर पर अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स), दिल्ली से क्रिप्टोकरंसी में अनुमानित रूप से 200 करोड़ रुपये की मांग की है, क्योंकि इसका सर्वर लगातार छठे दिन खराब रहा. 

आशंका जताई जा रही है कि बुधवार सुबह सामने आए उल्लंघन के कारण लगभग 3-4 करोड़ मरीजों के डेटा से समझौता किया जा सकता था. सूत्रों ने कहा कि आपात स्थिति में रोगी देखभाल सेवाएं, आउट पेशेंट, इन पेशेंट और प्रयोगशाला विंग को मैन्युअल रूप से प्रबंधित किया जा रहा है, क्योंकि सर्वर डाउन रहता है. 

इंडिया कंप्यूटर इमरजेंसी रिस्पांस टीम (CERT-IN), दिल्ली पुलिस और गृह मंत्रालय के प्रतिनिधि रैंसमवेयर हमले की जांच कर रहे हैं. 25 नवंबर को दिल्ली पुलिस की इंटेलिजेंस फ्यूजन एंड स्ट्रैटेजिक ऑपरेशंस (IFSO) इकाई द्वारा जबरन वसूली और साइबर आतंकवाद का मामला दर्ज किया गया था. 

आधिकारिक सूत्रों ने कहा कि जांच एजेंसियों की सिफारिशों पर अस्पताल में कंप्यूटरों पर इंटरनेट सेवाएं बंद कर दी गई हैं. एम्स के सर्वर में पूर्व प्रधानमंत्रियों, मंत्रियों, नौकरशाहों और जजों समेत कई वीआईपी का डेटा स्टोर है. 

सूत्रों में से एक ने बताया, "हैकर्स ने क्रिप्टोकरंसी में कथित रूप से लगभग 200 करोड़ रुपये की मांग की है." इस बीच, एनआईसी ई-हॉस्पिटल डेटाबेस और ई-हॉस्पिटल के लिए एप्लिकेशन सर्वर बहाल कर दिए गए हैं. एक आधिकारिक सूत्र ने कहा कि एनआईसी टीम एम्स में स्थित अन्य ई-हॉस्पिटल सर्वरों से संक्रमण को स्कैन और साफ कर रही है, जो अस्पताल सेवाओं के वितरण के लिए आवश्यक हैं. 

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

यह भी पढ़ें -
-- स्कूलों में छात्राओं को मुफ्त सैनिटरी पैड देने की याचिका पर SC ने केंद्र को जारी किया नोटिस
-- आंध्र सरकार को SC से बड़ी राहत, अमरावती को ही राजधानी बनाने के HC के आदेश पर लगाई रोक

Featured Video Of The Day

न्यूज@9 : असम में बाल विवाह के खिलाफ ऐक्शन से बवाल, ताबड़तोड़ गिरफ्तारियों से लोगों में नाराजगी