विज्ञापन
Story ProgressBack

भारतीय युवाओं को रूस-यूक्रेन युद्ध में धकेलने के आरोप में 4 तस्कर गिरफ्तार

सीबीआई के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि 6 मार्च को एजेंसी ने देश भर में चल रहे एक प्रमुख मानव तस्करी नेटवर्क का भंडाफोड़ किया था, जो विदेश में आकर्षक नौकरियों की पेशकश के वादे पर भोले-भाले युवाओं को निशाना बना रहा था.

भारतीय युवाओं को रूस-यूक्रेन युद्ध में धकेलने के आरोप में 4 तस्कर गिरफ्तार
नई दिल्ली:

केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) ने अंतर्राष्ट्रीय मानव तस्करी गिरोह से जुड़े चार आरोपियों को गिरफ्तार किया है. सीबीआई अधिकारियों ने बताया कि ये सभी आरोपी भारतीय युवाओं को बेहतर नौकरी का लालच देकर रूस भेजते थे और फिर उन्हें रूस-यूक्रेन युद्ध में धकेल देते थे. गिरफ्तार आरोपियों में एक अनुवादक भी है. अधिकारियों ने बताया कि केरल के त्रिवेंद्रम निवासी अरुण और येसुदास जूनियर उर्फ ​​प्रियन को मंगलवार को गिरफ्तार किया गया. दो अन्य आरोपियों, कन्याकुमारी निवासी निजिल जोबी बेन्सम और मुंबई निवासी एंथोनी माइकल एलंगोवन, को 24 अप्रैल को गिरफ्तार किया गया था.

सीबीआई के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि 6 मार्च को एजेंसी ने देश भर में चल रहे एक प्रमुख मानव तस्करी नेटवर्क का भंडाफोड़ किया था, जो विदेश में आकर्षक नौकरियों की पेशकश के वादे पर भोले-भाले युवाओं को निशाना बना रहा था.

ये तस्कर एक संगठित नेटवर्क के रूप में काम कर रहे हैं और ये यूट्यूब आदि जैसे सोशल मीडिया चैनलों तथा अपने स्थानीय संपर्कों/एजेंटों के माध्यम से भारतीय नागरिकों को रूस में अधिक वेतन वाली नौकरियों के लिए लुभा रहे थे.

इसके बाद, तस्करी करके लाए गए भारतीय नागरिकों को युद्ध लड़ने की ट्रेनिंग दी गई और उनकी इच्छा के विरुद्ध रूस-यूक्रेन युद्ध में अग्रिम ठिकानों पर तैनात किया गया, जिससे उनकी जान को गंभीर खतरा हो गया." सीबीआई के अनुसार, जानकारी मिली है कि युद्ध क्षेत्र में कुछ पीड़ित गंभीर रूप से घायल भी हुए.

अधिकारी ने कहा, "निजी वीज़ा कंसल्टेंसी फर्मों और एजेंटों के खिलाफ मानव तस्करी का मामला दर्ज किया गया है, जो बेहतर रोजगार और उच्च वेतन वाली नौकरियों की आड़ में भारतीय नागरिकों की रूस में तस्करी में शामिल थे. इन एजेंटों का मानव तस्करी नेटवर्क देश भर के कई राज्यों और उसके बाहर भी फैला हुआ है."

निजिल जोबी बेन्सम रूस में एक अनुवादक के रूप में अनुबंध के आधार पर काम कर रहा था. वह रूसी सेना में भारतीय नागरिकों की भर्ती के लिए रूस में काम कर रहे नेटवर्क के प्रमुख सदस्यों में से एक था.

अधिकारी ने कहा, "माइकल दुबई स्थित अपने सह-आरोपी फैसल बाबा और रूस में रहने वाले अन्य लोगों को चेन्नई में वीजा प्रक्रिया कराने और पीड़ितों के लिए रूस जाने के लिए हवाई टिकट बुक करने में मदद कर रहा था."

अधिकारी ने कहा, "अरुण और येसुदास रूसी सेना के लिए केरल और तमिलनाडु से संबंधित भारतीय नागरिकों के मुख्य भर्तीकर्ता थे. अन्य आरोपी व्यक्तियों के खिलाफ जांच जारी है जो मानव तस्करों के इस अंतर्राष्ट्रीय नेटवर्क का हिस्सा हैं."

(इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)

NDTV.in पर ताज़ातरीन ख़बरों को ट्रैक करें, व देश के कोने-कोने से और दुनियाभर से न्यूज़ अपडेट पाएं

फॉलो करे:
डार्क मोड/लाइट मोड पर जाएं
Our Offerings: NDTV
  • मध्य प्रदेश
  • राजस्थान
  • इंडिया
  • मराठी
  • 24X7
Choose Your Destination
Previous Article
पुराना घर ज़्यादा दाम पर बेचकर अब नहीं बचा पाएंगे टैक्स, निर्मला सीतारमण ने किया ऐलान
भारतीय युवाओं को रूस-यूक्रेन युद्ध में धकेलने के आरोप में 4 तस्कर गिरफ्तार
सेना प्रमुख ने उपराज्यपाल को जम्मू में आतंकवाद से निपटने के लिए 'रणनीतिक दृष्टिकोण' का आश्वासन दिया
Next Article
सेना प्रमुख ने उपराज्यपाल को जम्मू में आतंकवाद से निपटने के लिए 'रणनीतिक दृष्टिकोण' का आश्वासन दिया
Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com
;