"पवार कोई धर्म नहीं हैं... मैं बेवजह सलाखों के पीछे थी..." : NDTV से बोलीं केतकी चिताले

उन्होंने कहा कि मै एक पोस्ट के लिए 22 एफआईआर से जूझ रही हूं. इनमें से एक में मुझे जमानत मिली है. 21 एफआईआर अभी बाकी है. 

अभिनेत्री केतकी चितले को हाल ही में जमानत मिली है.

नई दिल्ली:

अभिनेत्री केतकी चितले (Ketaki Chitale) को मई में राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी के प्रमुख शरद पवार (Sharad Pawar) के बारे में आपत्तिजनक पोस्ट करने के लिए गिरफ्तार किया गया था. हालांकि अब केतकी चितले को जमानत मिल चुकी है और वो जेल से बाहर आ गई हैं. NDTV से खास बातचीत में चितले ने दावा किया कि उन्होंने तो सिर्फ पोस्ट को फेसबुक से कॉपी पेस्ट के बाद अपनी प्रोफाइल पर अपलोड किया था. साथ ही उन्होंने कहा कि सिर्फ एक पोस्ट के लिए उनके खिलाफ 22 एफआईआर दर्ज की गई है. 

चितले ने एनडीटीवी के साथ बातचीत में कहा कि इस कठिन परीक्षा के दौरान मुझे अगली बात जो मैं जानती हूं वो ये है कि पुलिस मेरे दरवाजे पर थी, मुझे ले जा रही थी. उस परीक्षा के दौरान 20-25 लोगों की भीड़ थी. उन्होंने मुझसे छेड़छाड़ की. मुझ पर हमला किया गया. मुझे मारा गया, स्याही की आड़ में मुझ पर जहरीला रंग फेंका गया, अंडे फेंके गए और यहां तक सिर्फ मुझ पर ही नही बल्कि पुलिस पर भी हमला किया गया. 

उन्होंने कहा कि मै एक पोस्ट के लिए 22 एफआईआर से जूझ रही हूं. इनमें से एक में मुझे जमानत मिली है. 21 एफआईआर अभी बाकी है.  मैंने जो कुछ भी पोस्ट किया वह भाषण और अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता के अनुसार था. अगर लोगों ने इसकी गलत व्याख्या की, मैं कुछ नहीं कर सकती. मैं बिना किसी वजह के सलाखों के पीछे थी. पवार कोई धर्म नहीं.

बता दें कि एनसीपी प्रमुख शरद पवार पर आपत्तिजनक पोस्ट के आरोप में 15 मई को केतकी चिताले को गिरफ्तार किया गया था. उन्होंने पोस्ट में शरद पवार का नाम नहीं लिखा था. पोस्ट में सिर्फ उनका उपनाम ‘पवार‘ और ‘80 साल‘ की उम्र का जिक्र किया गया था. 

ये भी पढ़ेंः

* "केतकी चितले को गिरफ्तार नहीं करेंगे", 22 दर्ज FIR को लेकर महाराष्ट्र सरकार ने बांबे HC में दिया आश्वासन
* मराठी अभिनेत्री केतकी चितले रिहा हुईं, शरद पवार के खिलाफ आपत्तिजनक पोस्‍ट पर हुई थी गिरफ्तारी
* VIDEO: ' तुम्हारी तहसील में आग लगा...' - 'बुलडोजर' को लेकर तहसीलदार पर भड़कीं बीजेपी विधायक

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


खबरों की खबर: सोशल मीडिया पोस्ट पर गिरफ्तारी, बोलने की आजादी पर मनमानी क्यों?