रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने अगले हफ्ते से बड़े पैमाने पर स्पूतनिक वी वैक्सीन के टीकाकरण का आदेश दिया

Sputnik V COVID-19 Vaccine : रूस ने दुनिया में सबसे पहले 11 अगस्त को ही कोरोना का टीका स्पूतनिक वी तैयार कर लेने का ऐलान किया था. पुतिन ने तब कहा था कि पहले जोखिम वाली सेवाओं में लगे लोगों को यह टीका दिया जाएगा.

रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने अगले हफ्ते से बड़े पैमाने पर स्पूतनिक वी वैक्सीन के टीकाकरण का आदेश दिया

Russian Vaccine Sputnik v : रूस में टीकाकरण का कार्य सबसे पहले शुरू हुआ था

रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन (Vladimir Putin) ने अपने देश में अगले हफ्ते से बड़े पैमाने पर कोरोना टीकाकरण (Covid Vaccination) के आदेश द‍िए हैं. पुतिन ने अधिकारियों को बुधवार को निर्देश दिया कि वे अगले हफ्ते से टीकाकरण संबंधी सारी तैयारियां पूरी कर लें. उन्होंने कहा कि स्पूतनिक वी (Sputnik V) वैक्सीन की 20 लाख से ज्यादा खुराक तैयार कर ली गई हैं.पुतिन ने कहा कि अगले हफ्ते से बड़े पैमाने पर टीकाकरण के तहत सबसे पहले शिक्षकों और स्वास्थ्य सेवाओं से जुड़े लोगों को वैक्सीन दी जाएगी. इसके बाद अन्य लोगों के लिए धीरे-धीरे यह टीका उपलब्ध होगा.

रूस ने दुनिया में सबसे पहले 11 अगस्त को ही कोरोना का टीका स्पूतनिक वी (Sputnik-5) तैयार कर लेने का ऐलान किया था. पुतिन ने तब कहा था कि शुरुआती दौर में जोखिम वाली सेवाओं में लगे लोगों को यह टीका दिया जाएगा. फिर नवंबर-दिसंबर में इसका टीकाकरण शुरू हो जाएगा. रूस ने बड़े पैमाने पर टीकाकरण का ऐलान ऐसे वक्त किया है, जब फाइजर (Pfizer) , मॉडर्ना (Moderna) समेत कई कंपनियां अपने टीके के आपात इस्तेमाल की मंजूरी हासिल करने में तेजी से जुटी हैं. 

भारत में चल रहा टीका परीक्षण
भारत में भी रूसी टीके स्पूतनिक वी के परीक्षण हुए हैं. रूस के कोरोनावायरस (Coronavirus) वैक्सीन (Sputnik-5) का भारत में तीसरे चरण का ट्रायल रेड्डी लैबोरेटरी (Reddy's lab Lab) कर रही है. रसियन डायरेक्ट इनवेस्टमेंट फंड  (RDIF) और रेड्डीज लैबोरेट्रीज (DRL) के बीच इसका समझौता हुआ था. रेड्डीज लैब ही रूस की कोरोना वैक्सीन का क्लीनिकल ट्रायल और वितरण करेगी.


बिना क्लीनिकल ट्रायल इस्तेमाल पर हुई थी आलोचना
रूस ने शुरुआती दौर में क्लीनिकल ट्रायल का दूसरा चरण पूरे किए बिना भी टीके के आपात इस्तेमाल को हरी झंडी दे दी थी. इसको लेकर उसे विश्व स्वास्थ्य संगठन और अन्य वैश्विक स्वास्थ्य एजेंसियों की आलोचना का सामना करना पड़ा था. हालांकि रूस ने दो चरणों के परीक्षण के बाद 11 नवंबर को दावा किया था कि उसकी वैक्सीन स्पूतनिक वी (Sputnik V) कोविड-19 से लोगों की रक्षा करने में 92 प्रतिशत प्रभावी है. उसका यह भी कहना है कि स्पूतनिक वी (Sputnik V) की प्रति खुराक की कीमत अमेरिकी दवा दिग्गज फाइजर (Pfizer) और मॉडर्ना (Moderna) के टीकों की तुलना में काफी
कम होगी.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


कम कीमत का दावा
स्पूतनिक वी के आधिकारिक ट्विटर अकाउंट से दावा किया गया था कि फाइजर की कीमत 19.50 डॉलर और मॉडर्न की 25 और 37 डॉलर प्रति खुराक रखी गई है. वास्तव में उनकी प्रति व्यक्ति खुराक की कीमत 39 डॉलर और 50-75 डॉलर है. फाइजर, स्पूतनिक वी और मॉडर्न वैक्सीन के लिए प्रति व्यक्ति दो खुराक आवश्यक हैं. स्पूतनिक वी की कीमत बहुत कम होगी. हालांकि उसकी असली कीमत अभी तक सामने नहीं आई है.