VIDEO : गुजरात में ग्राम रक्षा दल के 600 पदों के लिए उमड़ा हजारों का हुजूम, पुलिस ने किया लाठीचार्ज

गुजरात में ग्राम रक्षा दल पद के लिए महज 230 रुपये का दैनिक भत्ता मिलता है. इसमें भर्ती के लिए हर उम्मीदवार को स्थानीय पुलिस स्टेशन पर जाकर स्वप्रमाणित पत्र देना होता है. 

VIDEO : गुजरात में ग्राम रक्षा दल के 600 पदों के लिए उमड़ा हजारों का हुजूम, पुलिस ने किया लाठीचार्ज

गुजरात में ग्राम रक्षा दल की 600 पदों की भर्ती के लिए हजारों बेरोजगार युवा पहुंचे

पालनपुर:

देश में बेरोजगारी (Unemployment) का आलम किस कदर गहराता जा रहा है, इसकी नजर शनिवार को गुजरात में देखने को मिली, जब बनासकांठा जिले के पालनपुर इलाके में हजारों बेरोजगार युवाओं का हुजूम उमड़ पड़ा. ये युवक ग्राम रक्षा दल की 600 भर्तियों के लिए आए थे. ग्राम रक्षा दल से जुड़ी भर्तियों के विज्ञापन की मानें तो इस पद के लिए कक्षा 5वीं से कम पास भी आवेदन कर सकते हैं. इसमें शारीरिक टेस्ट लिया जाता है. इसके लिए महज 230 रुपये का दैनिक भत्ता मिलता है.

'16 वर्षों की नीतीश-भाजपा सरकार बिहार के युवाओं को....' : बेरोजगारी के मुद्दे पर तेजस्‍वी यादव का निशाना

इसमें भर्ती के लिए हर उम्मीदवार को स्थानीय पुलिस स्टेशन पर जाकर स्वप्रमाणित पत्र देना होता है. 

हजारों की भीड़ के बीच जब हालात बेकाबू हो गए तो स्थानीय पुलिसकर्मियों को हल्के लाठीचार्ज का सहारा लेना पड़ा. इसके बाद पुलिस स्टेशन पर एक -एक व्यक्ति के वेरीफिकेशन की लंबी प्रक्रिया शुरू हुई, जो कई घंटों तक चलती रही. ग्राम रक्षा दल के पदों के लिए गुजरात के अलावा बिहार समेत कई अन्य राज्यों में भी भर्तियां होती हैं. 

यूट्यूबर आदर्श आनंद लाए 'बेरोजगारी सॉन्ग 3', 'छोड़ पढ़ाई पकड़ लो कड़ाही' की यूट्यूब पर धूम

इन ग्राम रक्षा दल के कर्मियों को पंचायत स्तर पर सुरक्षा औऱ शांति कायम करने जैसी कई जिम्मेदारियां दी जाती हैं. चुनाव और अन्य मौकों पर सरकारें इनकी अन्य कामों में भी सेवाएं लेती हैं. बिहार समेत कई राज्यों में ग्राम रक्षा दल के सदस्य नियमित किए जाने और भत्ता बढ़ाए जाने की मांग को लेकर आंदोलन भी करते रहे हैं. 


Viral Video: बेरोजगार युवक ने गाया ऐसा गाना जो 'बेरोजगारों का नेशनल एंथम' बन गया है

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


गौरतलब है कि कोरोना वायरस के आने के बीते दो वर्षों में देश में बेरोजगारी का संकट बढ़ा है. औद्योगिक कामकाज में नरमी के साथ शहरों से भी हजारों युवक वापस गांव लौटने को मजबूर हुए हैं. गांव में छोटे-छोटे कामों के लिए भी बेरोजगार युवकों को मारामारी करनी पड़ रही है.