स्पूतनिक लाइट हो सकती है भारत में पहली सिंगल डोज कोरोना वैक्सीन, जून में बातचीत : सूत्र

स्‍पूतनिक V ऐसी तीसरी वैक्‍सीन है जिसके उपयोग को भारत में मंजूरी दी गई है. इस वैक्‍सीन की पहली डोज शुक्रवार को हैदराबाद में दी गई.

स्पूतनिक लाइट हो सकती है भारत में पहली सिंगल डोज कोरोना वैक्सीन, जून में बातचीत : सूत्र

स्‍पूतनिक लाइट भारत में पहले सिंगल डोज वैक्‍सीन हो सकती है

नई दिल्ली:

रूस की स्‍पूतनिक लाइट (Sputnik Light) भारत में सिंगल डोज वाली पहली वैक्‍सीन हो सकती है. डॉक्‍टर रेड्डी इस बारे में जून माह के बाद सरकार और नियामक से बातचीत करेगी. सूत्रों ने NDTV को यह जानकारी दी. गौरतलब है कि दो डोज वाली स्‍पूतनिक वैक्‍सीन देशभर के 35 केंद्रों में लगाई जाएगी. गौरतलब है क‍ि वैक्‍सीन स्‍पूतनिक V (Sputnik V) की आयातित डोज की कीमत भारत में ₹ 995.40 होगी. स्‍पूतनिक V की प्रभावशीलता 91.6% है, यह ऐसी तीसरी वैक्‍सीन है जिसके उपयोग को भारत में मंजूरी दी गई है.

"गलती उन्हीं से होती है जो काम करते हैं" : सरकार पर तल्ख टिप्पणी के बाद बोले अनुपम खेर

वैक्‍सीन की पहली डोज शुक्रवार को हैदराबाद में दी गई. स्‍पूतनिक V की आयातित (imported) डोज की इस कीमत में 5 फीसदी GST (प्रति डोज) शामिल है. हालांकि जब स्‍पूतनिक V की डोज का निर्माण भारत में शुरू हो जाएगी तो इसकी कीमत कम हो सकती है.

"कोरोना एक जीव, उसे भी जीने का अधिकार" : उत्तराखंड के पूर्व CM का विवादित बयान


Pfizer and Moderna के अलावा स्‍पूतनिक V ऐसी पहली वैक्‍सीन है जिसने कोविड के खिलाफ 91 फीसदी से अधिक की प्रभावशीलता दिखाई है. 21 दिन के अंतराल में दो डोज लिए जाने पर इसने यह परिणाम दिया था. भारत में स्‍पूतनिक V की पहली खेप रूस से आयात की थी गई थी.ऐसे समय जब वैक्‍सीन के कमी के कारण देश का टीकाकरण कार्यक्रम धीमा पड़ गया है, सिंगल डोज वाली वैक्‍सीन 'गेमचेंजर' साबित हो सकती है.गुरुवार को ही सरकार ने घोषणा की थी कि कोविशील्‍ड वैक्‍सीन के दो टीकों में 12 से 16 सप्‍ताह का अंतर होना चाहिए. पहले यह अंतर चार से छह सप्‍ताह का था.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


ब पर्याप्त वैक्सीन न हो तो दो डोज का अंतर बढ़ाना सही : डॉ एंथनी फौची