निलंबन पर गतिरोध, सरकार के बयान पर बोलीं TMC सांसद, 'निलंबित सांसद क्‍यों? माफी मांगनी है तो पहले PM मांगें'

सरकार ने राज्यसभा में कहा, 'अगर निलंबित सांसद 11 अगस्त की घटनाक्रम के लिए माफी मांग लें तो निलंबन वापसी पर विचार संभव है लेकिन विपक्ष को यह मंजूर नहीं है.

निलंबन पर गतिरोध, सरकार के बयान पर बोलीं TMC सांसद, 'निलंबित सांसद क्‍यों? माफी मांगनी है तो पहले PM मांगें'

विपक्षी सांसदों के निलंबन को लेकर राज्‍यसभा में गतिरोध जारी है (फाइल फोटो)

नई दिल्‍ली :

Parliament winter session: संसद के शीतकालीन सत्र की कार्यवाही अब तक विपक्षी सांसदों के हंगामे के कारण बुरी तरह प्रभावित हुई है. राज्यसभा (Rajya Sabha)से 12 विपक्षी सांसदों के निलंबन को लेकर सत्ता पक्ष और विपक्ष के बीच टकराव बढ़ता जा रहा है. मंगलवार को विपक्षी सांसदों ने पूरे दिन सदन में हंगामा किया और कार्यवाही नहीं चलने दी.अब सभी विपक्षी दलों ने तय किया है कि बुधवार को राज्यसभा के सभी विपक्षी सांसद, गांधी प्रतिमा के सामने धरना प्रदर्शन कर रहे 12 निलंबित विपक्षी सांसदों के समर्थन में विरोध प्रदर्शन करेंगे. मंगलवार को संसद के अंदर और बाहर 12 विपक्षी सांसदों के निलंबन के खिलाफ विपक्षी दलों का विरोध जारी रहा.

आंदोलन खत्‍म कर सकते हैं किसान, बातचीत में सकारात्‍मक संकेत : सूत्र

सरकार ने राज्यसभा में कहा, 'अगर निलंबित सांसद 11 अगस्त की घटनाक्रम के लिए माफी मांग लें तो निलंबन वापसी पर विचार संभव है लेकिन विपक्ष को यह मंजूर नहीं है. राज्‍यसभा में विपक्ष के नेता  मलिकार्जुन खडगे ने कहा, "अगर निलंबन वापस नहीं होता है तो बैठे हुए सांसदों के साथ हम भी एक दिन बैठकर उपवास करेंगे. सभा में हंगामे के दौरान संसदीय कार्य मंत्री ने विपक्ष से हंगामा बंद करने की अपील की. उन्होंने कहा, " हम इस तरह से बिल नहीं पास करना चाहते. सभी निलंबित विपक्षी सांसदों को माफी मांगना चाहिए". लेकिन विपक्ष ने सरकार के इस प्रस्ताव को ठुकरा दिया. 

"यही है BJP का विकास...? नारियल फोड़ो तो सड़क टूट जाती है..." अखिलेश यादव का तंज


तृणमूल कांग्रेस की नेता और राज्यसभा सांसद सुष्मिता देव ने एनडीटीवी से कहा,  "निलंबित सांसद क्यों माफी मांगे? अगर माफी मांगनी है तो किसानों की 'मौत' के लिए पहले प्रधानमंत्री माफी मांगें ". उधर गांधी प्रतिमा के सामने 12 विपक्षी सांसदों का विरोध और धरना प्रदर्शन छठे दिन भी जारी रहा. मंगलवार को एनसीपी नेता शरद पवार भी इनके समर्थन में यहां पहुंचे. विपक्षी दलों ने तय किया है कि जब तक निलंबित सांसद वापस नहीं होगा वह निलंबन के खिलाफ अपना विरोध जारी रखेंगे. संसद के पिछले मॉनसून सत्र का करीब 70 फ़ीसदी समय स्पाइवेयर फोन हैक विवाद और तीनों ने किसी कानूनों के खिलाफ विपक्षी दलों के विरोध प्रदर्शन की वजह से बर्बाद हो गया था अब शीत सत्र के दौरान 12 विपक्षी सांसदों के निलंबन पर सरकार और विपक्ष के बीच टकराव तो जल्दी खत्म नहीं हुआ तो यह शीतकालीन सत्र भी हंगामे की भेंट चढ़ सकता है.

राहुल गांधी ने लोकसभा में दिखाए शहीद किसानों के नाम, मुआवजा और नौकरी देने की उठाई मांग

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com