NIA को मनसुख हिरेन की हत्या के केस में मिले 14 नंबर, 5 नंबरों के आगे लिखा था सचिन वाजे 

NIA Sachin Vaze Case : आरोपियों से 2 मोबाइल फोन, एक आईफोन मिला है. आरोपियों के पास से एक कागज पर 14 नम्बर लिखे मिले हैं. इनमे से 5 नंबर के आगे सचिन वाजे लिखा हुआ था. इन पांच नंबर का इस्तेमाल इस क्राइम में हुआ है.

NIA को मनसुख हिरेन की हत्या के केस में मिले 14 नंबर, 5 नंबरों के आगे लिखा था सचिन वाजे 

NIA सचिन वाजे से मुकेश अंबानी और मनसुख हिरेन केस के अहम राज उगलवाना चाहती है

जांच एजेंसी एनआईए (NIA) को मुकेश अंबानी केस (Mukesh Ambani Case) से जुड़े मनसुख हिरेन की हत्या के केस में आरोपियों के पास कागज में लिखे 14 नंबर मिले हैं, इनमें 5 नंबरों के सचिन वाजे लिखा था.जांच एजेंसी NIA ने मनसुख हिरेन हत्या की साज़िश में एपीआई सचिन वाजे (Sachin Vaze) और विनायक शिंदे दोनों शामिल थे. जांच एजेंसी NIA ने अदालत में ये दावा किया. NIA की मांग पर अदालत ने मनसुख की हत्या के आरोप में गिरफ्तार विनायक शिंदे और नरेश गोर की NIA रिमांड 7 अप्रैल तक के लिए बढ़ा दी है. 

इस बीच मीठी नदी से मिले उपकरणों में NIA के हाथ सचिन वाजे के खिलाफ दो अहम सबूत मिले हैं. इन्हें सचिन वाजे ने नष्ट करने के इरादे से नदी में फेंक दिया था.  खास बात है कि CPU और DVR के साथ NIA को एक लैपटॉप और प्रिंटर भी मिला है. NIA की मानें तो लैपटॉप और प्रिंटर दोनों सचिन वाजे के हैं. इसी प्रिंटर से वाजे मुकेश अंबानी को धमकी वाले पत्र का प्रिंटआउट निकाला था. वहीं मनसुख हिरेन की हत्या के आरोप में गिरफ्तार दो आरोपियों  पूर्व पुलिस कर्मी विनायक शिंदे और बुकी नरेश गोर को अदालत ने पेश किया.  NIA ने अदालत को बताया कि  मनसुख की हत्या की साजिश में विनायक शिंदे और सचिन वाजे शामिल थे.

आरोपी के खुलासे के बाद मीठी नदी से CPU ,DVR और दूसरे समान बरामद हुए हैं. आरोपियों से 2 मोबाइल फोन, एक आईफोन मिला है. आरोपियों के पास से एक कागज पर 14 नम्बर लिखे मिले हैं. इनमे से 5 नंबर के आगे सचिन वाजे लिखा हुआ था. इन पांच नंबर का इस्तेमाल इस क्राइम में हुआ है. NIA ने ये अदालत में ये भी दावा किया कि 14 में से 2 सिम कार्ड बरामद करना बाकी है और आरोपियों से मनसुख की हत्या की वजह पता करनी है.


इस बीच एंटीलिया के पास आतंकी साजिश प्लांट करने के आरोप में गिरफ्तार एपीआई सचिन वझे से जुड़ी एक और कार का पता चला है. मित्सुबिशी की आउट लैंडर कार नवी मुंबई में कामोठे में मिली है. सफेद रंग की इस कार के मालिक के तौर पर सचिन वझे का नाम पता चला है. NIA के मुताबिक जांच में पता चला कि सफेद मित्सुबिशी कार को  वझे ने एपीआई प्रकाश होवाल को बेच दिया था. होवाल ने बदले में डेढ़ लाख रुपये भी दिये थे.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


गौरतलब है कि एपीआई प्रकाश होवाल भी CIU में सचिन वाजे के साथ मे थे.अब इस कार की भी जांच हो रही है कि आतंकी साजिश और मनसुख हत्याकांड में इस कार का भी इस्तेमाल हुआ है या नही? एंटीलिया बम धमकी मामले में अब तक 6 कार सामने आ चुकी हैं। ये 7 वी कार है।